महिला उद्यमी के रूप में अपने व्यवसाय को विकसित करने के लिए 5 महत्वपूर्ण क्षेत्र

दुनिया को कौन चलाता है? लड़कियाँ! बियॉन्से ने सब की तरह इसे भी ठीक समझा।

महिला उद्यमी के रूप में अपने व्यवसाय को विकसित करने के लिए 5 महत्वपूर्ण क्षेत्र

महिलाएं सब कुछ अच्छी तरह से करती हैं - चाहे वह घर चलाना हो या व्यवसाय चलाना। अध्ययन यह स्पष्ट करता है कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में विभिन्न प्रकार की चीजों में व्यापक रूप से बेहतर क्यों हैं। इसमें संबंध बनाना, सकारात्मक टीम वर्क को सक्षम करना, समय और संगठनात्मक आवश्यकताओं को प्रबंधित करना और बदलावों को अपनाना शामिल है। ये सभी एक सफल व्यवसाय स्थापित करने और चलाने के लिए भी महत्वपूर्ण कौशल हैं।

किसी के पास एक बेहतरीन उत्पाद या सर्विस की योजना हो सकती है, लेकिन उसे एक व्यवसाय में बदलना - और उस पर स्थिर और सफल - इसके लिए एक ठोस नींव के निर्माण की आवश्यकता होती है। जैसे कोई वर्णमाला सीखने से पहले पूरे वाक्य नहीं लिख सकता है, वैसे ही ऐसे कुछ स्तंभ हैं जिसपे किसी व्यवसाय की सफलता निर्भर करती है।

यदि आप एक नए उद्यमी हैं या आप यह बनना चाहते हैं, या यदि आपके पास पहले से ही एक व्यवसाय है जिसे आप सफल व्यवसाय में विकसित करना चाहते हैं, तो यहां पांच स्तंभ हैं जिन पर आपको काम करने की आवश्यकता है:

1.एक लचीली मानसिकता रखें:

पहले या पहले पांच साल में छोटे व्यवसायों की विफलता और सफलता दर के बारे में आपने जो भी आँकड़े सुने होंगे, उन्हें भूल जाइए। यदि आप अन्य लोगों के आंकड़ों को अपने जीवन का निर्धारण करने देंगे, तो आप एक सफल व्यवसाय चलाने में सक्षम नहीं होंगे। तो, एक लचीले मानसिकता से अलग बनने का लक्ष्य रखें।

एक लचीला मानसिकता रखने वाले सभी जानते हैं कि बाधाएं होंगी , लेकिन उनसे डरना नहीं है। यह आपके रास्ते में आने वाली हर समस्या (बहुत से, यदि आप एक उद्यमी हैं)से निपटने के बारे में है, और शांति और तर्कसंगतता के साथ सब कुछ निपटाएँ, और उस प्रक्रिया में विकसित हों।

यह आमतौर पर माना गया है कि महिलाएं पुरुषों की तुलना में मानसिक रूप से अधिक मजबूत होती हैं। आपको अपने व्यवसाय को चलाने में भी उसी ताकत को प्रवाहित करना चाहिए। इसकी विशेष रूप से आवश्यकता होगी क्योंकि दुनिया भर के समाजों के आमतौर पर पक्षपाती और लिंग-आधारित प्रकृति के कारण महिला उद्यमियों की समस्याएं पुरुषों की तुलना में अधिक भिन्न होती है।

2. संख्याओं का ईमानदारी से सामना करें

संख्याएं झूठ नहीं बोलती। आपके राजस्व, मुनाफे, इन्वेंट्री की लागत और ऋण (यदि कोई हो) के आंकड़े से डरना नहीं हैं। यदि आप पहले वर्ष में लाभ नहीं कमा रहे हैं, तो यह ठीक है। यदि आप पहले वर्ष में नुक्सान भी नहीं कर रहे हैं, तो यह और भी ठीक है। आपके द्वारा पेश किए जा रहे उद्योग और उत्पाद या सेवा के आधार पर, यह सबसे बड़े खिलाड़ियों के लिए भी आदर्श रहा होगा ,जब उन्होंने शुरुआत की थी।

आपको एक विश्वसनीय वित्तीय सलाहकार और एकाउंटेंट ढूंढना होगा और अपनी कंपनी की वित्तीय योजना को लिखने के लिए उनके साथ बैठना होगा और पिछले वर्षों के रुझानों को समझना होगा। चीजों के बीच संबंधों को समझने की कोशिश करें - क्या चीज़ लाभ को प्रभावित करती है, कार्यशील पूंजी की कितनी आवश्यकता है, इन्वेंट्री की मात्रा कितनी है, आदि।

3. मार्केटिंग को समझना और उसका फायदा लेना

आप सबसे अच्छे उत्पाद या सेवा उपलब्ध करा सकते होंगे। आप और आपके कर्मचारी हर दिन घंटों मेहनत कर रहे होंगे । आप किसी भी प्रतियोगी से बेहतर होंगे। लेकिन इसके कोई भी मायने नहीं है जब तक कि लक्षित ग्राहकों को पता न चले कि आपका उत्पाद / सेवा बाजार में मौजूद है।

मार्केटिंग आपके उत्पाद या सेवा पर उपभोक्ताओं को सूचित करने और शिक्षित करने से लेकर लंबी अवधि के ग्राहक-संबंध बनाने और बनाए रखने तक कई महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। लेकिन इससे पहले कि आप एक प्रभावी मार्केटिंग रणनीति बनाएं, आपको आपके व्यवसाय की प्रकृति, आपके दीर्घकालिक लक्ष्य और आपके लक्ष्य बाजार को समझना महत्वपूर्ण है।

एक महिला के रूप में, आपके पास लोगों को समझने का निहित स्वभाव, उनकी प्रेरणा और उसी के आधार पर उनसे जुड़ने की एक सहज प्रवृत्ति हो सकती है। अपने अंतर्मन की भावना को सुनें और अपने व्यवसाय के मार्केटिंग के लिए उस पर विश्वास करें।

4. अपने कर्मचारियों को महत्व दें

प्रत्येक व्यवसाय के तीन महत्वपूर्ण संसाधन हैं - वित्तीय, भौतिक और मानव। प्रत्येक महत्वपूर्ण है ,लेकिन किसी भी सफल महिला उद्यमी से पूछें और वे अपनी मानव पूंजी पर जोर देंगे; उनके कर्मचारियों पर । समर्पित और दीर्घकालिक कर्मचारियों की एक कोर टीम के साथ छोटे व्यवसाय, उन व्यवसायों की तुलना में बहुत तेजी से बढ़ते हैं जहां संस्थापक एकल महिला के प्रदर्शन से कर्मचारियों के निरंतर अदला -बदली के साथ व्यवसाय चलाते है।

अपने कर्मचारियों को महत्त्व देने का मतलब यह नहीं है कि शुक्रवार को ''हैप्पी-आवर्स '' मिलें या बीन बैग के साथ एक खुले कार्यालय का ले-आउट मिले । इसका अर्थ है -अपने कर्मचारियों को भी मनुष्य के रूप में देखना जिनका अपना जीवन है और काम के बाहर भी लक्ष्य हैं। इसका मतलब है गलतियों को क्षमा करना। एक महिला उद्यमी के रूप में शुरू करने के लिए, आपको कर्मचारियों की अपनी जमात खोजने और बनाने की जरूरत है। महिलाएं आमतौर पर यह समझने में अच्छी होती है कि कोई व्यक्ति कहां से आ रहा है और सार्थक और पोषण संबंधों का निर्माण कर सकती है। इसे अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करो।

पूर्णकालिक कर्मचारियों के अलावा, आप रणनीतिक रूप से सलाहकार, अंशकालिक और इंटर्न को काम पर रख सकते हैं।

5. विश्वास करना और प्रतिनिधि बनाना सीखें

हां, आपका व्यवसाय आपके बच्चे के सामान है, और आप सब कुछ अपने तरीके से करना चाहते हैं। लेकिन इस तरीके से कोई व्यवसाय कभी नहीं बढ़ सकता है। यही कारण है कि उपरोक्त कदम इतना महत्वपूर्ण है - आपको उन महत्वपूर्ण लोगों में विश्वास होना चाहिए, जिन्हे आप जानते हैं कि कोई काम यदि आपसे बेहतर नहीं तो, आपके सामान तो कर ही सकते हैं |

आपको अपवाद के साथ प्रबंधन की अवधारणा का पालन करना सीखना होगा। दिन-प्रतिदिन के मुद्दों में हस्तक्षेप तभी करें जब चीजें नियोजित न हों। अन्यथा, आपको अपने व्यापार को बढ़ाने, साझेदारी बनाने और अपने उत्पाद या सेवा को बेहतर बनाने के लिए रणनीतिक संचालन पर ध्यान देना चाहिए।

आखिरी पंक्तियाँ

भावनात्मक बुद्धिमत्ता, संचार, समस्या-समाधान, और अंतर्ज्ञान की अपनी ताकत को छू कर व्यवसाय चलाने के इन महत्वपूर्ण स्तंभों को बनाने, बनाए रखने और बढ़ाने पर ध्यान दें। फिर भी एक अन्य प्रमुख विशेषता जो सबसे अधिक महिलाओं के पास होती हैं जो व्यवसाय बढ़ाने में मदद करती है,वह है धैर्य । जब चीजें गलत हो जाती हैं, जब लोग गड़बड़ करते हैं, जब योजना विफल हो जाती है, तो इसे ठीक करने का धैर्य और आगे बढ़ने के लिए लचीलापन, अक्सर किसी भी नवजात व्यापार के दीर्घकालिक भाग्य का एक निर्धारित कारक होता है।




संबंधित लेख