एक दिनचर्या के सही होने और एक दिनचर्या बनाने के 7 लाभ

एक स्वस्थ दिनचर्या का सही से पालन होना आत्म-देखभाल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, खासकर कोरोनोवायरस लॉकडाउन के दौरान।

एक दिनचर्या के सही होने और एक दिनचर्या बनाने के 7 लाभ

कुछ सैद्धांतिक भौतिकविदों के अनुसार, समय एक भ्रम है। फिर भी, समाज ने प्राचीन काल से, सदियों, दशकों, वर्षों, महीनों, हफ्तों, घंटों, मिनटों और सेकंड के रूप में संयोजित किया है। ऐसा शायद इसलिए है क्योंकि इस तरह के संगठन और मानकीकरण से मनुष्य अपने मन को उन्मुख कर सकता है, खुद को वास्तविकता से जोड़ सकता है, और एक दूसरे से सम्बन्ध स्थापित कर सकता है।

व्यक्तिगत स्तर पर, यह वही है जो एक दिनचर्या करता है। किसी भी सफल व्यक्ति से पूछें और वे आपको बताएंगे कि कुछ भी प्राप्त करने के लिए दिनचर्या एक महत्वपूर्ण कारक है। अब, कोरोनावायरस के प्रकोप और लॉकडाउन के साथ, यह याद रखना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है कि दिनचर्या कैसे मदद कर सकती है। आओ हम इसे नज़दीक से देखें:

1. यह आदतों का निर्माण करता है

आपके द्वारा चुने गए दैनिक विकल्प वास्तव में विकल्प नहीं होते हैं - यह आपका मस्तिष्क है जो अवचेतन रूप से अतीत में जाकर वह करता है जो नियमित रूप से आप करते रहे हैं। आदतें बनाने की कुंजी यह है कि आप इसे लगातार करते रहे जब तक वे आपके मस्तिष्क में इतने अच्छे से छप न जाए कि उन्हें पूरा करने के लिए आपको दृढ़ संकल्प या इच्छा शक्ति की आवश्यकता न हो। जिस तरह हर सुबह दो बार सोचे बिना आप अपने दांतों को ब्रश करते हैं, वैसे ही आप अन्य दीर्घकालिक आदतें डाल सकते हैं।

2. यह नियोजन को कम करता है

जिन लोगों ने दिन के खाने की योजना बनाने की कोशिश की है वे ऐसा कहते हैं। साप्ताहिक आधार पर भोजन की योजना बनाने का मतलब है कि आपको यह नहीं सोचना पड़ेगा कि आपको रोज़ाना क्या खाना पकाना है या आश्चर्य होगा कि आपके पास सभी सही सामग्री है या नहीं। यह भोजन के लिए खाना पकाने और किराने का सामान के लिए खरीदारी तेज, आसान और अधिक सुविधाजनक बनाता है। यह वैसा ही है जैसा आपके जीवन के विभिन्न पहलुओं के लिए एक दिनचर्या करती है। यदि आपकी दिनचर्या सही है, तो आपको उठकर सोचना नहीं पड़ेगा, 'आज मुझे क्या करना चाहिए?' आपको पता होगा कि क्या करना चाहिए और उसी की तैयारी में आपको लग जाना चाहिए |

3. यह गति का निर्माण करता है

क्या आपने देखा है कि जिन दिनों में आप कुछ कार्य कर लेते हैं, आप और अधिक कुछ करने के लिए प्रेरित महसूस करते हैं? जबकि आलस्य के दिनों में जब आप कुछ भी नहीं करते हैं, तो आप अक्सर छोटे से छोटे काम को भी पूरा नहीं कर पाते हैं। यह सब गति के कारण है| जब आपका मन और शरीर दोनों उत्पादक होते हैं, तो आप बहुत सारी चीजों को अच्छे से संभाल सकते हैं। एक दिनचर्या आपको दैनिक आधार पर उस गति को प्राप्त करने में मदद करती है।

4. यह शिथिलता को मारता है

जब आपकी दिनचर्या नियमित हो, और आपने पहले से ही सारी योजना बना ली हो और प्राथमिकता निर्धारित कर ली हो, तो आपका मन बहुत स्पष्ट होगा कि क्या करना है और क्यों करना है। आप यह भी जानते हैं कि यदि आप अपनी दिनचर्या में एक चीज को छोड़ते हैं या उसमे देरी करते हैं, तो अन्य सभी चीज़ों में भी देरी होगी और स्थिति गड़बड़ हो सकती है। इसलिए, आपको हर कीमत पर देरी से बचना चाहिए और योजनाबद्ध तरीके से काम करना चाहिए ।

5. इससे खाली समय निकल पाता है

यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जो एक महान सामाजिक जीवन जी रहे है, पर्याप्त नींद ले रहे हैं , काम पर भी उत्पादक हैं , और फिर भी अपने शौक के लिए समय निकाल लेते है, तो आप सोचते होंगे कि वे इसे कैसे करते हैं। संभव है कि उनके पास एक ठोस दिनचर्या हो। जब आप चीजों के लिए समय निर्धारित कर देते हैं, टाल-मटोल नहीं करते, और सब कुछ पूर्व नियोजित रखते है, तो आप पाएंगे कि 'व्यस्तता' अब आपके जीवन की स्थिति नहीं है और आप वास्तव में उन चीजों के लिए समय निकाल सकते हैं जिन्हें आप करने में आनंद लेते हैं - जैसे कि किताब पढ़ना या कुकीज़ का एक बैच पकाना।

6. यह तनाव को कम करता है

जब आप सब चीज़ का हिसाब लगा लें और सभी महत्वपूर्ण कार्य का समय निर्धारित हो जाए , तो आपके दिमाग को लगातार यह सोचने की ज़रूरत नहीं है कि यह काम कैसे किया जाए। आपको किसी भी महत्वपूर्ण चीज़ को भूलने की चिंता भी नहीं करनी पड़ेगी । यह आपके दिमाग को आराम करने और शांत होने में मदद करता है,ताकि आप नियंत्रित महसूस करें ।

7. यह लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है

चाहे वह अपना वजन कम करना हो, एक नई भाषा सीखना हो, या आय के एक अन्य स्रोत के लिए एक अतिरिक्त काम लेना हो, यदि आप एक दैनिक दिनचर्या का पालन करते हैं तो लक्ष्य पूरा किया जा सकता है। अभ्यास इंसान को निपुण बनाता है, याद है? लक्ष्य प्रकृति में दीर्घकालिक होते हैं और इसलिए उन्हें पाने के लिए आवश्यक कार्य भी दीर्घकालिक होते हैं । एक दिनचर्या होने से आपके लिए अपने लक्ष्यों को पूरा करके सफलता प्राप्त करना आसान हो जाता है।

8. दिनचर्या कैसे तय करें

दिनचर्या तय करना महत्वपूर्ण है। यह कोरोनवायरस लॉकडाउन के साथ और भी अधिक प्रासंगिक है। यह आपको वास्तविकता की ओर ले जाएगा, सभी अनिश्चितताओं के बारे में आपकी चिंता को दूर करेगा और नकारात्मक विचारों को सोचने के बजाय सकारात्मक सोच में लगे रहने में मदद करेगा। क्वारंटाइन में, एक लॉकडाउन दिनचर्या सही होने से, आपको उम्मीद न छोड़ने और अपने जीवन में सामान्यता बनाए रखने में मदद मिलेगी।

कुछ बुनियादी चीजें हैं जिन्हें आपको एक दिनचर्या निर्धारित करने के लिए याद रखने की आवश्यकता है - खासकर अभी महामारी के दौरान और सामान्य रूप से भी।

  • एक सूची बनाएं

उस दिन आपको जो कुछ भी करना है, उसे संक्षेप में लिखें। इसके लिए सुबह या पिछली रात में दस मिनट का समय निकालें। सुनिश्चित करें कि आप उन सभी चीजों को शामिल करें जो आप उस दिन करना चाहते हो; न केवल आपके काम के कार्य, मीटिंग और समय सीमा। सूची में घर के कामों, सामाजिक प्रतिबद्धताओं, व्यायाम आदि को शामिल किया जा सकता है| इसके लिए एक खास डायरी रखें और इसे हर जगह ले जाएं। आप इसे अपने फोन पर भी कर सकते हैं, लेकिन चीजों को एक 'टू-डू' सूची में चिन्हित करने का आनंद, कागज पर सबसे अच्छा अनुभव होता है।

  • अलग से समय निकालकर रखें

एक बार आपके पास अपनी दैनिक कार्य की सूची हो, आपको उस पर लिखें कार्यों के लिए समय अलग से निकालना होगा। पहले कुछ हफ्तों के लिए आपको प्रयोग करना होगा और देखना होगा कि सबसे अच्छा क्या चीज़ काम कर रही है। यह महत्वपूर्ण है कि जब आप एक निश्चित कार्य के लिए समय निकालते हैं - मान लें , भोजन पकाने या एक व्यक्तिगत बजट बनाने के लिए - तब आप कुछ और नहीं करें । विकर्षणों को न्यूनतम रखा जाना चाहिए और आपको अन्य कार्यों को अपने दिमाग में नहीं रखना चाहिए।

  • वास्तविक बनो

अपनी सूची बनाते समय और अपने कार्यों को निर्धारित करते समय, प्रेरित महसूस करना और भावनाओं में बह जाना स्वाभाविक है। आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि किसी कार्य को निष्पादित करने के लिए आवश्यक मानसिक और शारीरिक ऊर्जा और प्रेरणा उस समय की तुलना में काफी अधिक होती है, जब आप केवल इसकी योजना बना रहे होते हैं। इसके अलावा, याद रखें कि स्वस्थ आदतों के निर्माण में समय लग सकता है, इसलिए आपको अधीर नहीं होना चाहिए या आसानी से उम्मीद नहीं खोनी चाहिए।

  • इसे निजीकृत करें

आप अपनी दिनचर्या का पालन केवल तभी करेंगे , जब यह कुछ ऐसा हो जो आपको पसंद हो। यह एक सच्चाई है जिसे बहुत से लोग अनदेखा करते हैं। यदि आप दस कार्य,जिन्हे आप नापसंद करते हैं उन्हें लिखते हैं या वह कार्य जिसे एक सप्ताह में करना मुश्किल है, तो आप इसे नहीं करेंगे । दूसरे क्या कर रहे हैं यह मत देखिये ; इस बारे में सोचें कि आपके लिए सबसे उपयुक्त और सुखद क्या है। उदाहरण के लिए, जब व्यायाम करने की बात आती है, तो शायद आप जिम में वजन उठाने से ज्यादा घर पर योग करना पसंद करें |

  • लचीले बने रहें

कुछ दिन, आप अपनी दिनचर्या का पालन नहीं कर पाते हैं । यह ठीक है जब तक आप अगले दिन वापस आएं और हार ना मानें । सफलता, इलाज और उत्पादकता रैखिक नहीं हैं - कई असफलताएं होंगी। इसके अलावा, कुछ दिनों में नए, अधिक आवश्यक कार्य सामने आ सकते हैं, इसलिए आपको उन्हें समायोजित करने के लिए पर्याप्त लचीला होना चाहिए और बाद के लिए अपनी सूची में कुछ चीजों को आगे खिसकाना चाहिए।

कोरोनोवायरस महामारी हमारे ऊपर मंडरा रही है, हमें ध्यान रखना चाहिए कि हम स्वयं पर बहुत अधिक कठोर न हो। यह हमारी भलाई और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। आराम के साथ उत्पादकता को संतुलित करना सुनिश्चित करें!

 

COVID-19

Most Shared