The 80/20 Rule: Balancing Expenses and Savings for Financial Stability and Long-Term Security

वित्तीय स्थिरता और सुरक्षा प्राप्त करने के लिए आपको वर्तमान खर्चों को भविष्य की बचत के साथ संतुलित करने की आवश्यकता है।

खर्च और बचत को संतुलित करना

क्या आप सीखना चाहते हैं कि पैसे बचाते हुए वित्तीय आजादी कैसे हासिल करें? जापान का मशहूर 80% नियम वित्तीय सुरक्षा प्राप्त करने के उद्देश्य से एक शानदार रणनीति है। 

सामान्य तौर पर वित्तीय सुरक्षा का मतलब है कि अपनी मासिक कमाई से ऊपर उठकर अपनी वांछित जीवन शैली को पाने और बनाए रखने के लिए पर्याप्त बचत और निवेश करना। अधिकांश लोग अपने काम के वर्षों के दौरान इस स्तर की वित्तीय स्थिरता के लिए प्रयास करते हैं। 

हालांकि इसे प्राप्त करने के लिए, आपको अधिक बचत करनी होगी, ऋण का भुगतान करना होगा और नियमित रूप से निवेश करना होगा। लेकिन जैसा कि आप पहले से ही जानते होंगे, अपनी वित्तीय आदतों को बदलने के बारे में कहना आसान है, करना नहीं। यही वह जगह है जहां 80% नियम काम आता है। 

80% नियम के साथ सेविंग कैसे करें

अनिवार्य रूप से यह नियम आपको अपनी आय का केवल 80% उपभोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है, और शेष 20% को बचत और निवेश के लिए छोड़ने को कहता है। यह दृष्टिकोण पहली बार में चुनौतीपूर्ण लग सकता है, लेकिन यह आपको अनुशासन विकसित करने और अपने खर्च करने की आदतों पर नियंत्रण करने में मदद करता है, जो अंततः अधिक वित्तीय सुरक्षा की ओर ले जाता है।

इसलिए यदि आप अपने वित्त पर नियंत्रण रखने और एक उज्जवल वित्तीय भविष्य की दिशा में काम करने के लिए तैयार हैं, तो 80% नियम अपनाने पर विचार करें। 

80% नियम के साथ खर्च कम करने के उपाय

80% नियम जापानी लोगों के जीवनशैली से उभरा है। जापानी लोग केवल तब तक खाना पसंद करते हैं हैं जब तक कि उनका पेट 80% भर जाए। वे जानबूझकर पेट का 20% हिस्सा खाली छोड़ देते हैं। यह न केवल उन्हें अधिक खाने से बचने में मदद करता है बल्कि अच्छे स्वास्थ्य को भी बढ़ावा देता है। इस नियम को जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी लागू किया जा सकता है। 

यही नियम धन बचत का उपाय भी देता है। अपने पैसे का 100% खर्च करने के बजाय, अपने बजट का 80% तक सीमित करने का प्रयास करें। उदाहरण के लिए, यदि आप 6 लाख की कार खरीदने के बारे में सोच रहे हैं, तो 5 लाख तक उपलब्ध अन्य अच्छे मॉडल तलाशने पर विचार करें। 

इसी नियम के तहत आपको ऐसा हाउसिंग लोन लेने से बचना चाहिए जिसके लिए आपको हर महीने अपनी आय का 50% से अधिक पुनर्भुगतान पर खर्च करना पड़ता है। आदर्श रूप से, आपका ऋण या मासिक किस्त आपकी आय के 20% से 25% से अधिक नहीं होनी चाहिए। 

हालांकि लोन विभिन्न कारणों से लिया जा सकता है, चाहे वह कार खरीदना हो, घर खरीदना हो या मेडिकल बिल या घर की मरम्मत जैसी आपात स्थिति के लिए भी। मगर यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि अगर आपको कुछ खरीदने के लिए कर्ज लेना है, तो इसका मतलब है कि आपके पास पैसा नहीं है और आप जापान के 80% नियम का पालन नहीं कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: कर बचत अभ्यास वित्तीय योजना का महत्वपूर्ण जरिया क्यों है?

80% नियम के साथ वित्तीय स्वतंत्रता पाने के उपाय

अपनी दौलत बढ़ाने के लिए आपको इक्विटी जैसी ग्रोथ एसेट्स में निवेश करने की जरूरत है, जो तेजी से रिटर्न दे सकते हैं। जबकि बॉन्ड और डिपॉजिट जैसे नियमित आय निवेश सुरक्षित हैं, वे आपके पैसे को स्थिरता से बढ़ने में मदद करेंगे। 

वित्तीय स्वतंत्रता हासिल करने के लिए आपको वित्तीय रूप से जागरूक होने और अपने निवेश के लिए कुछ रणनीतिक निर्णय लेने की आवश्यकता होती है। अपनाई जाने वाली दो आदतों में इक्विटी जैसी ग्रोथ एसेट्स में जल्द से जल्द निवेश करना और इसे नियमित आदत बनाना शामिल है। 

हमारे रोजमर्रा के जीवन में, खर्चों में फंसना और वित्तीय सुरक्षा को नजरअंदाज करना आसान है। हालाँकि, भविष्य पर विचार करना जरूरी है। वित्तीय स्थिरता और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हमारे खर्चों और भविष्य के लिए बचत के बीच संतुलन बनाना आवश्यक है। 80% नियम के साथ ऐसा करना एकदम आसान हो जाता है। 

80% नियम के साथ पैसे बचाने के टोटके

अपनी आय के 80% के भीतर अपनी मासिक किश्तों और ऋणों का भुगतान करके वित्तीय रूप से जिम्मेदार बने रहना महत्वपूर्ण है। 20% हमेशा धन बचत और निवेश पर जाना चाहिए। 

इन दिशानिर्देशों का पालन करके आप अपनी आय को ऋण चुकाने में बर्बाद करने से बचा सकते हैं और यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप एक स्वस्थ वित्तीय संतुलन बना पा रहे हैं।

80% नियम न केवल आपको पैसे बचाने में मदद करता है, बल्कि यह एक आरामदायक जीवन शैली बनाए रखने में सक्षम बनाता है। इस नियम का पालन करके आप वित्तीय सुरक्षा की भावना पैदा कर सकते हैं, जिससे आपको मानसिक शांति मिलेगी और आप एक सुखमय जीवन जी पाएंगे।  

यह भी पढ़ें: इस साल इन 10 म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करना आपके लिए रह सकता है फायदेमंद

संवादपत्र

संबंधित लेख