ऐसी वित्तीय तिथियां जो आपके लिए 2021 में मायने रखती हैं

यहां 2021 की सभी प्रमुख वित्तीय समय सीमाओं की एक तैयार सूची दी गई है जो आपको टैक्स और जुर्माने से बचा सकती है और छूटों का लाभ दे सकती है।

ऐसी वित्तीय तिथियां जो आपके लिए 2021 में मायने रखती हैं

2021 कैलेंडर की वित्तीय समय सीमा आपको सभी प्रमुख समय सीमाओं के बारे में याद दिलाता है जो हो सकता है कि आपके ध्यान से उतर जाए। इस समय सीमाओं का पालन करने से टैक्स की बचत होगी और लेट फी (विलंब शुल्क) से बचने में मदद मिलती है। आप अनेक स्कीम और सब्सिडी भी प्राप्त कर सकेंगे जो सरकार देती है। 

जनवरी 2021

  • 10 जनवरी 2021 - बार-बार समय सीमा बढ़ाने के बाद, वेतनभोगियों के लिए ITR फाइल करने की समय सीमा आखिरकार इस तिथि को निर्धारित की गई थी। वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए रिटर्न ITR-1, ITR-2 और ITR-4 फाइल करने वाले व्यक्तियों को इस तिथि का पालन करना होगा, इस तिथि तक फाइल ना करने पर देर से फाइल करने का शुल्क 10,000 रुपए हैं।
  • वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए 15 जनवरी 2021 को आयकर अधिनियम के अंतर्गत आवश्यक ऑडिट रिपोर्ट जमा करने की समय सीमा निर्धारित थी, जिसमें आयमकर ऑडिट रिपोर्ट देय तिथि शामिल है।
  • 31 जनवरी 2021 - विवाद से विश्वास के अंतर्गत डिक्लेरेशन करना होता है, इसे आयकर विवादों और अभियोगों के निपटारे के लिए लाया गया था।

इससे जुड़ी बातें: 2021 में अपने फाइनेंस को वाप्स ट्रैक पर लाएं

फरवरी 2021

  • 15 फरवरी 2021 ऐसे व्यक्तियों के लिए ITR फाइल करने की समय सीमा की आखिरी तारीख है जिनको वित्तीय वर्ष 2019-20 में अपने अकाउंट की ऑडिट करानी है या सेक्शन 92E के तहत रिपोर्ट जमा करनी है। 
  • 28 फरवरी 2021 पेशनभोगियों द्वारा लाइफ सर्टिफिकेट जमा करने की विस्तारित समय सीमा है। बिना किसी बाधा के पेंशन पाने के लिए यह सर्टिफिकेट अनिवार्य है। 

मार्च 2021

  • 15 मार्च 2021 - एडवांस टैक्स भुगतान करने की अंतिम तारीख। यदि TDS के बाद कुल कर देयता वित्तीय वर्ष में 10,000 से अधिक होने पर एडवांस टैक्स का भुगतान करना होता है।
  • 31 मार्च 2021 पैन-आधार को लिंक करने की समय सीमा है। आधार लिंकिंग न होने पर, पैन अपरिचालनीय हो जाएगा और आप वित्तीय लेनदेनों में पैन का उल्लेख नहीं कर पाएंगे। लिंक हो जाने पर, अपरिचालनीय पैन दुबारा परिचालनीय हो जाएगा।
  • 31 मार्च 2021 को LTC कैश वाउचर स्कीम के अंतर्गत टैक्स लाभ पाने की आखिरी तारीख है। इस स्कीम में कर्मचारियों को वस्तुओं और सेवाओं पर LTA किराए का तीन गुणा खर्च करना होता है जिसका GST दर 12% या इससे अधिक है।
  • 31 मार्च 2021 को वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए संशोधित और/या विलंबित ITRs फाइल करने की आखिरी तारीख है। देय तिथि से पहले फाइल किए गए मूल रिटर्न्स को किसी भी त्रुटि के लिए इस तिथि तक संशोधित किया जा सकता है। देर से की गई फाइलिंग के लिए, आयकर विभाग द्वारा 10,000 रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है। हालांकि देर से फाइल करने का शुल्क 5 लाख तक की आय पर छोटे करदाताओं के लिए 1000 से अधिक नहीं है। 

इससे जुड़ी बातें: केंद्रीय बजट 2021: करदाताओं के लिए इसमें क्या-क्या है?

  • 31 मार्च 2021 वित्तीय वर्ष की अंतिम तारीख होती है, इसलिए वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए टैक्स-फ्री वाले या आयकर कटौती के लिए योग्य सभी निवेश या खर्चों को पूरा करना होता है। इसमें सेक्शन 80C सहित सभी-महत्वपूर्ण कटौती शामिल हैं।
  • 31 मार्च 2021 - विवाद से विश्वास स्कीम के अंतर्गत डिक्लेरेशन की समय सीमा के बाद, स्क्रीम के तहत भुगतान करने के लिए टू-मंथ विंडो इस तिथि को बंद हो जाता है। 
  • 31 मार्च 2021 को एमर्जेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम के अंतर्गत टैक्स लाभ पाने की आखिरी तारीख है। इस स्कीम के अंतर्गत, विभिन्न संस्थानों से पूरी तरह से गारंटीड और कोलैटरल-फ्री बिजनेस लोन प्राप्त किया जा सकता है। 
  • 31 मार्च 2021 - सरकार ने कर्मचारियों 10,000 रुपए का ब्याज-रहित अग्रिम प्रदान किया है, जिसे 10 महीनों में रिकवर किया जाएगा। इस विशेष फेस्टिवल एडवांस स्क्रीम पाने की अंतिम तिथि है 31 मार्च 2021.
  • 31 मार्च 2021 को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत क्रेडिट छूट पाने की आखिरी तारीख है। यह क्रेडिट-लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (CLSS) के तहत मध्यम आय वाले समूहों के ऐसे घर खरीदारों को होम लोन मिलता है जिनकी वार्षिक आय 6-18 लाख ब्रैकेट से अधिक नहीं है। 

जून 2021

  • 30 जून 2021 को नए घर खरीदारों के लिए टैक्स सॉप पाने की आखिरी तारीख है। इस लाभ के अनुसार, 2 करोड़ तक के नए घर की खरीद पर अग्रीमेंट वैल्यू और सर्किल रेट के बीच के स्वीकार्य अंतर को 10% से बढ़ाकर 20% किया गया है।

जुलाई 2021

  • 31 जुलाई 2021 को वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए आयकर रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख है।

इस समय सीमा का पालन करने से सरकार से मिलने वाले आपके लाभ नहीं छूटेंगे। आपको आयकर रिटर्न (ITR) और फाइल रिटर्न की स्थिति में जुर्माना और विलंब शुल्क भी नहीं देना होगा। 2021 के वित्तीय कैलेंडर को तैयार रखें ताकि आपको ये महत्वपूर्ण समय सीमाएं याद रहें। जानने के लिए यह आलेख पढ़ें गलतियां न करने के लिए सबक




संबंधित लेख