All you need to know about option trading

ऑप्शंस ट्रेडिंग ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट्स को खरीदने या बेचने की प्रणाली है। ये कॉन्ट्रैक्ट्स या अनुबंध ऐसे समझौते हैं जो धारक को एक विशिष्ट तिथि तक पूर्व निर्धारित मूल्य पर अंतर्निहित सुरक्षा के संग्रह को खरीदने या बेचने का ऑप्शन देते हैं। एक ऑप्शन जो आपको भविष्य में किसी समय शेयर प्राप्त करने की अनुमति देता है, उसे "कॉल ऑप्शन" कहा जाता है। दूसरी ओर, एक ऑप्शन जो आपको भविष्य में शेयर बेचने में सक्षम बनाता है, वह एक “पुट ऑप्शन” कहलाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग

Options Trading: निवेश पोर्टफोलियो अक्सर विविध ऐसेट वर्गों से बने होते हैं। इनमें आमतौर पर स्टॉक, म्यूचुअल फंड, ईटीएफ और बॉन्ड शामिल होते हैं। ऑप्शन एक अतिरिक्त ऐसेट क्लास है। ऑप्शन ट्रेडिंग को लेकर अक्सर निवेशकों में स्पष्टता नहीं होती। कई निवेशक इसे एक अत्यंत जोखिम भरा विकल्प मानते हैं, तो वहीं काफी लोग इसे फायदे का सौदा मानते हैं। मगर यदि उचित रूप से उपयोग किया जाए, तो ऑप्शन ट्रेडिंग कई फायदे दे सकता है। इससे पहले कि हम इन फ़ायदों के बारे में बात करें, जानते हैं कि ऑप्शन ट्रेडिंग है क्या?

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है?

ऑप्शंस ट्रेडिंग ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट्स को खरीदने या बेचने की प्रणाली है। ये कॉन्ट्रैक्ट्स या अनुबंध ऐसे समझौते हैं जो धारक को एक विशिष्ट तिथि तक पूर्व निर्धारित मूल्य पर अंतर्निहित सुरक्षा के संग्रह को खरीदने या बेचने का ऑप्शन देते हैं। एक ऑप्शन जो आपको भविष्य में किसी समय शेयर प्राप्त करने की अनुमति देता है, उसे "कॉल ऑप्शन" कहा जाता है। दूसरी ओर, एक ऑप्शन जो आपको भविष्य में शेयर बेचने में सक्षम बनाता है, वह एक “पुट ऑप्शन” कहलाता है।

ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे काम करता है?

आप एक सीधे दृष्टिकोण से लेकर जटिल ट्रेडों तक कई प्रकार की ऑप्शंस ट्रेडिंग रणनीतियों को अपना सकते हैं। लेकिन मोटे तौर पर, ट्रेडिंग कॉल ऑप्शंस में महत्वपूर्ण यह है कि आप बढ़ती कीमतों पर कैसे दांव लगाते हैं जबकि ट्रेडिंग पुट में ऑप्शंस गिरती कीमतों पर दांव लगाने का एक तरीका है। 

ऑप्शंस कान्ट्रैक्ट निवेशकों को स्टॉक या अन्य संपत्तियों के न्यूनतम 100 शेयर खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं। हालांकि, ट्रेड लाभदायक नहीं होने की स्थिति में ऑप्शंस का प्रयोग करने का कोई दायित्व नहीं है। ऑप्शंस का प्रयोग न करने का निर्णय लेने का मतलब है कि एक निवेशक को खोने वाला एकमात्र पैसा अनुबंधों के लिए भुगतान किया गया प्रीमियम है। नतीजतन, संपत्ति वर्गों की पूरी श्रृंखला पर मात्र अनुमान लगाने के लिए किए गए भुगतान के कारण ऑप्शंस ट्रेडिंग अपेक्षाकृत कम लागत वाला तरीका हो सकता है। 

  • ऑप्शन ट्रेडिंग आपको इस तरह के अनुमान लगाने की अनुमति देता है:
  • किसी संपत्ति की कीमत मौजूदा कीमत से बढ़ेगी या गिरेगी।
  • किसी संपत्ति की कीमत कितनी बढ़ेगी या गिरेगी।
  • किस तारीख तक ये मूल्य परिवर्तन होंगे।

4 प्रकार के ऑप्शन क्या हैं?

कॉल ऑप्शन खरीदना (लॉन्ग कॉल), कॉल ऑप्शन बेचना (शॉर्ट कॉल), पुट ऑप्शन खरीदना (लॉन्ग पुट) और पुट ऑप्शन बेचना (शॉर्ट पुट) चार तरह के ऑप्शन हैं। कॉल बायर्स और पुट सेलर्स बुलिश हैं। जबकि पुट बायर्स और कॉल सेलर्स बेअरिश हैं।

क्या ऑप्शन ट्रेडिंग में उच्च जोखिम है?

ऑप्शंस ट्रेडिंग जोखिम भरा हो सकता है यदि एक निवेशक बाजार की स्थितियों, अस्थिरता, चल रहे ट्रेंड्स आदि जैसे विभिन्न कारकों के प्रति सावधान नहीं राहत है। यदि हेजिंग और सुरक्षा का सही तरीका अपनाया जाता है तो ऑप्शंस का जोखिम काफी कम हो सकता है।

क्या ऑप्शन ट्रेडिंग स्टॉक ट्रेडिंग से बेहतर है?

निवेश का ऐसा कोई तरीका नहीं है जो अपने आप में दूसरे से अच्छा या बेहतर हो। लंबी अवधि के निवेशक उन शेयरों में निवेश करना पसंद करते हैं जिनमें समय के साथ स्थिर वृद्धि होती है, जबकि ऑप्शन व्यापारी अच्छा रिटर्न पाने के लिए जोखिम और अस्थिरता पर निर्भर रहने की कोशिश करते हैं।

संवादपत्र

संबंधित लेख