अपने रोजमर्रा के जीवन में अर्थशास्त्र लागू करना

जैसे की जोड़ और घटाव आपके दैनिक जीवन और दैनिक कार्यों में आपकी मदद करता है, कुछ बुनियादी आर्थिक अवधारणाओं को समझना भी समान रूप से आपके काम आ सकता है।

अपने रोजमर्रा के जीवन में अर्थशास्त्र लागू करना

गणित, विज्ञान और भाषा जैसे विषय को बच्चे के ज्ञान बढ़ने और दुनिया के बारे में उनकी समझ बढ़ाने के लिए आवश्यक माना जाता है। अर्थशास्त्र का सामाजिक विज्ञान महत्वपूर्ण नहीं माना जाता है, लेकिन यह होना चाहिए। आर्थिक अवधारणाएं, मांग और आपूर्ति के अलावा,आप के दैनिक जीवन में बार-बार महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। यदि आप इनमें से कुछ आवश्यक अवधारणाओं के बारे में जानते हैं, तो आप समय, धन, काम और यहां तक ​​कि व्यक्तिगत संबंधों के बारे में भी अच्छे निर्णय ले सकते हैं।

आरंभ करने से पहले, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि अर्थशास्त्र के विचार से भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। जब तक आप एक कार्यात्मक जीवन जी रहे हैं, तब तक आप आसानी से और प्रभावी ढंग से इन अवधारणाओं को समझ पाएंगे और इन अवधारणाओं को लागू कर पाएंगे।

1. अवसर लागत

क्या आप अक्सर ऐसा महसूस करते हैं जैसे कि आपकी पास हर चीज के लिए पर्याप्त समय और ऊर्जा नहीं है? आपको अपने समय में बेहतर ढंग से प्राथमिकता तय करने और समय को बेहतर प्रबंधित करने के लिए क्या करना चाहिए। अवसर लागत को समझना आपको ये समझा सकता है! अर्थशास्त्र दो कारणों से मौजूद है - पहला, संसाधन सीमित हैं; और दूसरा,इंसान की चाहतें असीमित हैं। अर्थशास्त्र इस बात का अध्ययन है कि समाज अपने सीमित संसाधनों का सर्वोत्तम तरीके से उपयोग कैसे करता है।

जब आप एक विकल्प चुनते हैं या चुनाव करते हैं तो अवसर लागत बाकि खोए हुए विकल्पों की लागत होती है। इसकी कल्पना करें : आपके पास सोने से पहले एक घंटा है और इसे बिताने के तीन तरीके हैं - एक महीने पहले शुरू की गई पुस्तक को पढ़कर, सोशल मीडिया में स्क्रॉल करके या वीडियो कॉल पर अपने सबसे अच्छे दोस्त से बात कर के। यदि आप सोशल मीडिया में स्क्रॉल करने का विकल्प चुनते हैं, तो उस की अवसर लागत पढ़ने के साथ-साथ आपके मित्र के साथ बात नहीं कर पाना है।

जब आप अवसर लागत के संदर्भ में चीजों को रखना शुरू करते हैं, तो आपको महसूस होगा कि आपके समय बिताने लायक क्या है और क्या नहीं है। यह आपको दैनिक विकल्प बनाने में भी मदद करेगा जो आपके लक्ष्यों के अनुरूप होंगे और साफ़ तस्वीर पर ध्यान केंद्रित करते हैं । तो, अगली बार जब आपको यह तय करना हो कि क्या आपको किसी परियोजना, सामाजिक घटना या कार्य पर अपने समय, ऊर्जा या अन्य संसाधनों का निवेश करना चाहिए, बस अपने आप से पूछें: 'इसकी अवसर लागत क्या है?' यह निर्धारित करने में आपकी मदद करेगा कि क्या यह प्रयास वास्तव में इसके लायक है या आपके संसाधनों का उपयोग करने का कोई बेहतर तरीका है।

2. वेब्लेन प्रभाव

क्या आप कुछ उत्पादों के लिए अधिक खर्च करते हैं - जैसे, कपड़े, बैग, या इलेक्ट्रॉनिक्स सामान -इनके सस्ते विकल्प नहीं चुनते हैं, भले ही समान गुणवत्ता और विशेषताएं हो? वेब्लेन प्रभाव के कारण ऐसा हो सकता है।

जब लोग मूल्य को गुणवत्ता के सूचकांक के रूप में उपयोग करते हैं, तो वे किसी उत्पाद के लिए जरूरत से ज्यादा पैसा देते हैं। ऐसा अक्सर इसलिए होता है क्योंकि वे नहीं जानते कि दो उत्पादों के बीच तर्कसंगत तुलना कैसे की जाए। उनके पास किसी उत्पाद के भौतिक गुणों (स्थायित्व, विश्वसनीयता, आदि) की जांच करने के लिए ज्ञान या क्षमता की कमी होती है और वे यह सोच लेते है कि जिस भी उत्पाद की कीमत अधिक है वह बेहतर गुणवत्ता वाला होगा। वे केवल इसी धारणा के आधार पर एक उत्पाद चुनते हैं।

एक नामि-ब्रांड उत्पाद अक्सर बिना ब्रांड के उत्पाद से दोगुना महंगा हो सकता है और फिर भी समान उपयोगिता प्रदान कर सकता है। अब जब आपको वेबल प्रभाव के बारे में पता है, तो आप खरीदारी करते समय बेहतर विकल्प चुनकर बेहतर बजट बना सकते हैं और अधिक बचत कर सकते हैं।

3. मार्जिनल उपयोगिता को कम करना

आखिरी बार आपको ऐसा कब महसूस हुआ था कि आप जो प्रयास कर रहे थे, वह आपके दैनिक कार्य में ,आपके संबंध में , मेहनत करने में - लाभ नहीं दे पा रहा है, कम से कम उतना नहीं जितना आपको चाहिए ? घटते मार्जिनल उपयोगिता के कानून को समझने से आपको इसका समाधान करने में मदद मिल सकती है। लेकिन पहले, यह जानना महत्वपूर्ण है कि यहां उपयोगिता का अर्थ है 'संतुष्टि' या 'खुशी' - मूल रूप से एक सकारात्मक मूल्यवर्धन।

घटती मार्जिनल उपयोगिता के नियम के अनुसार, उपभोग के एक निश्चित स्तर के बाद, प्रत्येक अतिरिक्त इकाई से प्राप्त उपयोगिता घटती जाती है। भूख लगने के बारे में सोचें। आपके द्वारा लिया गया पहला निवाला आपको अपार उपयोगिता (संतुष्टि) देता है, क्यूंकि आप थोड़ी देर भूखे रहने के बाद ही खा रहे होते हैं। आपके द्वारा खाया गया दूसरा निवाला भी आपको संतुष्टि प्रदान करता है लेकिन पहले के मुकाबले थोड़ा कम क्योंकि अब आपके पेट में पहले से ही कुछ भोजन था। जैसा कि आप खाते जाते हैं, प्रत्येक निवाले से आपको मिलने वाली संतुष्टि घटती रहती है। अंत में, किसी बिंदु पर, यदि आप और भी खाते हैं, तो आपको कोई संतुष्टि नहीं मिलेगी - वास्तव में, इसका परिणाम नकारात्मक उपयोगिता भी हो सकता है। यह तब होता है जब आप तब भी खाना जारी रखते हैं जब आपका पेट भर जाता है क्योंकि यह आपका पसंदीदा भोजन होता है।

सिर्फ इसलिए कि किसी खास तरीके से कुछ करने से कुछ काम होता गया, इसका मतलब यह नहीं है कि यदि आप इसे अधिक से अधिक करते हैं तो यह काम करता रहेगा। शायद आपको अपनी रणनीति बदलने की जरूरत होगी। उदाहरण के लिए, सप्ताह दर सप्ताह एक जैसा व्यायाम करना आपके शरीर के लिए सहायक नहीं होगा,बजाय उसके समय-समय पर बदलते व्यायाम ज्यादा फायदेमंद होते हैं।

4. डूबत लागत की भ्रम

घाटे को स्वीकार करना कठिन है, लेकिन सही समय पर रुकना और बाहर निकलना उससे भी कठिन है। यह निवेश, रिश्तों, और उन सभी चीजों के लिए लागू होता है जिनके लिए आपको महत्वपूर्ण मात्रा में पैसा, समय, प्रयास और अन्य महत्वपूर्ण संसाधन लगाने पड़ते हैं। हालांकि, बहुत सारे लोग डूबत लागत के भ्रम का शिकार होते हैं |

डूबत लागत मूल रूप से आपके द्वारा खर्च की गई लागत है जो आप पुनर्प्राप्त नहीं कर सकते है। डूबत लागत में भ्रम तब होता है जब कोई व्यक्ति किसी विशिष्ट प्रयास, व्यवहार, या प्रतिबद्धता को जारी रखता है, भले ही वह असफल हो रहा हो - बस पिछले निवेश के कारण जो उन्होंने समय, धन, या प्रयास के संदर्भ में किया था। उदाहरण के लिए, यदि आप बहुत अधिक भोजन आर्डर करते हैं और पेट भरने पर भी आप इस अतिरिक्त भोजन को छोड़ने के बजाय, सिर्फ इसलिए ज्यादा खाते हैं क्योंकि आपने इसके लिए पहले ही भुगतान कर दिया है, तो आप डूबत लागत के भ्रम में फँस जाते है।

आप कम से कम एक व्यक्ति को जानते होंगे जो एक असफल रिश्ते में रहना जारी रखता है जो स्पष्ट रूप से ठीक नहीं है सिर्फ इसलिए कि वे उस रिश्ते में पहले ही कितने समय से हैं। यह भी डूब लागत का भ्रम है। सही समय पर अपने नुकसानों में कटौती करना महत्वपूर्ण है और जानना कि इससे बाहर कब निकलना है, और अब आप इसके बारे में सोच सकते हैं।

यह कठिन नहीं था,था क्या ? आगे बढ़ें और इन आर्थिक अवधारणाओं को अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें। एक बात के लिए, वे बेहद प्रभावित होंगे कि आपको अर्थशास्त्र की इतनी अच्छी समझ है। दूसरा, वे भी इन अवधारणाओं को अपने दैनिक जीवन में लागू करने से लाभान्वित होंगे।

 

COVID-19

Most Shared