अपने या अपने जीवनसाथी पर बोझ डाले बिना अपने माता-पिता की आर्थिक रूप से सहायता कैसे करें

आपके माता-पिता को जब आपकी आर्थिक रूप से आवश्यकता होती है, तो आपका उनका साथ देना सबसे बुनियादी चीज है जो आप कर सकते हैं, और यह आपके वित्त या विवाहित जीवन में बाधा नहीं बनना चाहिए ।

अपने या अपने जीवनसाथी पर बोझ डाले बिना अपने माता-पिता की आर्थिक रूप से सहायता कैसे करें

आपके माता-पिता वे दो लोग हैं जिनके प्रति आपको हमेशा के लिए ऋणी होना चाहिए - न केवल आपको इस दुनिया में लाने के लिए बल्कि आपको अच्छी तरह से पालने-पोषने के लिए भी। सभी प्रयास, समय, प्यार, पैसा, और बलिदान जो उन्होंने आपके लिए किये हैं, आप वापस उन्हें उतना ही नहीं दे पाएंगे , चाहे आप कुछ भी करें।

और बात यह भी नहीं है। यह बात उन्हें नकद या सामान के रूप में वापस भुगतान करने के बारे में नहीं है; यह उनके लिए उनके वृद्धावस्था में उन सभी तरीकों में मौजूद होने के बारे में है जो आप संभवतः कर सकते हैं। लेकिन कभी-कभी, अपने माता-पिता को वित्तीय सहायता प्रदान करने से आपके जीवनसाथी के साथ बहस हो सकती है।

यदि आपका साथी इसे परिवार पर वित्तीय बोझ के रूप में मानता है, तो कुछ चीजें हैं जो आप कर सकते हैं:

1. अपने जीवनसाथी से बातचीत करें

यह बातचीत आपको और आपके साथी को आपकी शादी के शुरुआत में ही कर लेनी चाहिए। अपने माता-पिता को चुपके से पैसे देने के बजाय, आपको अपने जीवनसाथी के साथ बैठना चाहिए और एक ईमानदार बातचीत करनी चाहिए। उन्हें बताएं कि आपके लिए यह महत्वपूर्ण क्यों है कि आप अपने माता-पिता को यह मदद करें और यह समझाएं कि यह परिवार के बजट को कैसे प्रभावित नहीं करेगा।

अपने माता-पिता को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए आप अपने वेतन के प्रतिशत पर चर्चा करें। यह समझ लें कि क्या यह मासिक योगदान होगा या चिकित्सा व्यय जैसी विशिष्ट चीजों के लिए होगा । यह चर्चा करने का भी यह एक अच्छा समय होगा कि क्या आपके जीवनसाथी को भी अपने माता-पिता की मदद करने की आवश्यकता होगी - बाद में, यदि अभी नहीं।

2. अपने भाई-बहनों को शामिल करें

यदि आपके माता-पिता की मदद करना एक नियमित बात है और एक बार की बात नहीं है, तो अपने भाई-बहनों को शामिल करना सबसे अच्छा होगा। आमतौर पर,हमेशा एक भाई दूसरों की तुलना में माता-पिता की आर्थिक रूप से अधिक सहायता करता है । यह अनावश्यक वित्तीय दबाव के साथ-साथ आक्रोश का निर्माण कर सकता है, जो अक्सर परिवार के तालमेल में तनाव पैदा करता है।

जब आपके भाई-बहनों के साथ यह चर्चा होती है, तो इसमें केवल आपको और उन्हें ही शामिल होना चाहिए, न कि आपके जीवनसाथी को। जीवनसाथी के साथ बातचीत व्यक्तिगत रूप से होनी चाहिए। आपकी उम्र, जीवन स्तर और आय के आधार पर, आप में से प्रत्येक अलग-अलग वित्तीय योगदान कर सकते हैं। एक समान राशि निर्धारित करने की कोशिश करने के बजाय, एक समान प्रतिशत राशि निर्धारित करें - उदहारण के लिए,सबके एक महीने के वेतन का 10 प्रतिशत ।

3. अपने माता-पिता से बातचीत करें

अपने माता-पिता के साथ दो बातें स्पष्ट करना महत्वपूर्ण है -पहला, आपको उनकी वित्तीय स्थिति को समझना है और यह भी कि वे अपने खर्चों को कैसे संभाल रहे हैं। यह मालुम होना अच्छा होगा कि उन्हें कितनी मदद चाहिए। दूसरी बातचीत, आपके साथी और भाई-बहनों से बात करने के बाद होनी चाहिए जब आपने तय कर लिया हो कि आप कितना योगदान दे सकते हैं।

यह पहली बार में थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन अच्छा होगा अगर इसमें शामिल सभी लोग जान लें कि लंबे समय में पैसे के मामलों से कैसे निपटा जाए। यह पारदर्शिता आपको स्वस्थ पारिवारिक बंधन बनाए रखने में मदद करेगी। जब आपके माता-पिता जान जाएं कि आप और आपके भाई-बहन कितना योगदान देंगे और कितनी बार, वे अपने बजट और खर्चों को और भी बेहतर तरीके से संभाल सकते हैं।

4. मदद करने के अन्य तरीकों के बारे में सोचें

अपने माता-पिता की आर्थिक रूप से मदद करने के अलावा, आप उन्हें रणनीतिक रूप से भी मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, आप उन्हें सभी आवश्यक ऐड-ऑन के साथ एक व्यापक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी दे सकते हैं। आप वित्तीय योजना और निवेश में भी उनकी मदद कर सकते हैं।

मदद करने का एक और तरीका है, उन्हें समय देना। इसका मतलब यह हो सकता है कि उन्हें हर महीने नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए ले जाएं या उनके लिए किराने का सामान ले जाए। यदि आप पास में रहते हैं, तो सप्ताह में एक बार उनके साथ दोपहर का भोजन करने के लिए जाने से आप उन्हें यह दिखा पाएंगे कि आप उनकी परवाह करते हैं। इरादा सिर्फ मिलकर बातचीत करने का है और उनके साथ अच्छा समय बिताने का है।

5. अपने परिवार के लक्ष्यों को प्राथमिकता दें

जब आप शादीशुदा हों और बच्चे हों, तो आपकी प्राथमिकता आपका परिवार होना चाहिए। बेशक, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपने माता-पिता को भूल जाना चाहिए। हालाँकि, आपको अपने परिवार की आवश्यकताओं से समझौता करके अपने माता-पिता की मदद नहीं करनी चाहिए। दोनों को प्रबंधित करने का एक तरीका होता है, और इसके लिए आपको अपने वित्त की योजना बनाने में कुछ समय बिताना होगा।

दूसरे शब्दों में, आपको एक बजट निर्धारित करना चाहिए, एक स्वस्थ आपातकालीन निधि का निर्माण करना चाहिए, स्वास्थ्य बीमा के साथ-साथ कार, घर आदि जैसी परिसंपत्तियों के लिए बीमा करवाना चाहिए, और अपने भविष्य के वित्तीय लक्ष्यों को जानना चाहिए और उनके लिए रणनीतिक निवेश करना चाहिए।

6. गोपनीयता के स्तर को बनाए रखें

आपके और आपके जीवनसाथी, दोनों के लिए, एक बुनियादी स्तर की गोपनीयता बनाए रखना अच्छा होगा -जो न केवल आपके माता-पिता के लिए वित्तीय सहायता देने पर हो बल्कि सामान्य रूप से भी । घरेलू खर्चों और सामान्य निवेश लक्ष्यों के लिए एक संयुक्त खाता होना महत्वपूर्ण है। लेकिन व्यक्तिगत खर्च के लिए व्यक्तिगत खाता होना भी आवश्यक है।

वयस्कों के रूप में, आपको और आपके साथी दोनों को थोड़ी गोपनीयता और स्वतंत्रता की आवश्यकता होती है, जिससे आप अपने व्यक्तिगत खातों से अपने पैसे खर्च करने के लिए स्वतंत्र हों और आपको प्रत्येक खर्च का हिसाब देने कि ज़रूरत नहीं हो। यदि आप समय-समय पर निजी खर्च होता रहता हैं, तो इसमें कुछ भी गलत नहीं है। जब तक आप अपने परिवार और संयुक्त दायित्वों को पूरा करते रहते हैं , तब तक कोई भी आप पर सवाल नहीं उठा सकता।

याद रखें कि इन बातचीत को करने और चीजों को समझने में समय और धैर्य लगेगा। तो, शान्ति बनाए रखें और अपने व्यक्तिगत वित्त कौशल का उपयोग करें।

संबंधित लेख