क्या आप पूर्णकालिक उद्यमी हैं? यहां सेवानिवृत्ति की तैयारी करने के 7 तरीके दिए गए हैं

महिलाओं द्वारा अधिक से अधिक उद्यम शुरू किए जाने के साथ, उन्हें सेवानिवृत्ति के लिए अच्छी तरह से वित्तीय रूप से तैयार होना चाहिए।

क्या आप पूर्णकालिक उद्यमी हैं? यहां सेवानिवृत्ति की तैयारी करने के 7 तरीके दिए गए हैं

जुलाई 2014 में सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा जारी किया गया छठी आर्थिक जनगणना के अनुसार, भारत में कुल व्यापार का 14% महिलाओं द्वारा चलाया जाता है। 585 लाख उद्यमियों में से 80.5 लाख महिलाएं हैं। ये वे व्यावसायिक उद्यम हैं जो कोने में एक दुकान से लेकर पूंजी-समर्थित स्टार्टअप के उद्यम तक फैले हैं। महिलाओं के नेतृत्व वाले उद्यमों में कार्यरत लोगों की संख्या 135 लाख के करीब है।

इनमें से लगभग 80% व्यवसाय स्व-वित्त पोषित हैं, जिसका अर्थ है कि महिला व्यवसायिओं का एक बड़ा हिस्सा,पूरी तरह से कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए, परिचालन खर्चों की पूर्ति के साथ-साथ खुद को एक नियमित आय प्रदान करने के लिए,अपने व्यवसाय पर निर्भर है।

इसलिए, महिला व्यापारियों को उनकी सेवानिवृत्ति के लिए योजनाबद्ध रूप से योजना बनाना अनिवार्य है। यहाँ सात तरीके दिए गए हैं,जिनसे वे सेवानिवृत्ति के लिए बचत कर सकते हैं।

1. अपनी सेवानिवृत्ति की लागत का पूर्वानुमान लगाएं

रिटायरमेंट कोष बनाने की दिशा में काम करते हुए, हम अक्सर मुद्रास्फीति के प्रभाव को कम आंक लेते हैं। उदाहरण के लिए: अगर हमें लगता है कि 3 करोड़ रुपये आज की तारीख में पर्याप्त रिटायरमेंट कोष हो सकता है, तो यह 30 साल बाद पर्याप्त नहीं हो सकता है। इसलिए, जो लोग 30 साल के बाद 3 करोड़ रुपये की रिटायरमेंट कोष बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं, उन्हें रिटायरमेंट के करीब आने पर यह राशि अपर्याप्त लग सकती है।

2009 के बाद से, मुद्रास्फीति की औसत दर 7.6% रही है। यह मानते हुए कि अगले तीस वर्षों में मुद्रास्फीति की दर 7% होगी , 30 वर्षों के बाद 3 करोड़ रुपये का मूल्य 22.83 करोड़ रुपये के बराबर होगा। इसका मतलब है कि आपको 30 वर्षों में 22.83 करोड़ रुपये का कोष बनाने की दिशा में काम करना होगा।

इसी तरह, आज की तुलना में 30 साल बाद आपका खर्च सात गुना से थोड़ा अधिक हो सकता है। इसलिए, यदि आपका आज का मासिक खर्च 50,000 रुपये के करीब है, तो वे 30 साल बाद 3.6 लाख रुपये के आसपास हो सकते हैं।

2. अपने पड़ाव निर्धारित करें और उन्हें प्राप्त करने की दिशा में योजना बनाएं

सेवानिवृत्ति का पूरा आनंद लिया जा सकता है यदि अन्य सभी पड़ावों जिनके लिए वित्तीय सहायता की आवश्यकता हो, आराम से पार हो जाएं । इन पड़ावों में अल्पकालिक लक्ष्य शामिल हो सकते हैं जैसे कार खरीदना या दीर्घकालिक लक्ष्य जैसे कि घर खरीदना या बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए धन की व्यवस्था करना आदि। इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए व्यक्ति म्यूचुअल फंड के माध्यम से इक्विटी में निवेश शुरू कर सकता है। लक्ष्य के प्रकार के आधार पर उपयुक्त फंड का चयन किया जा सकता है - अल्पकालिक या दीर्घकालिक।

यदि कोई बाजार के साधनों में निवेश करने की ओर अग्रसर है, तो पारंपरिक इंस्ट्रूमेंट्स जैसे कि सार्वजनिक भविष्य निधि या यहां तक की राष्ट्रीय पेंशन योजना का भी पता लगाया जा सकता है।

3. खुद को वेतन दें

एक उद्यमी के लिए स्वयं का वेतन तय करना महत्वपूर्ण है। इससे उद्यमी अपनी आय का विवेकपूर्ण उपयोग कर सकेगा। यह एक महत्वपूर्ण निर्णय है क्योंकि जब व्यापार अच्छा होता है, तो व्यवसाय से अर्जित की गई अतिरिक्त आय को किसी व्यक्तिगत खरीदारी पर खर्च करने की इच्छा हो सकती है। बेशक, एक निजी लिमिटेड कंपनी या एक सूचीबद्ध फर्म जैसे किसी संरचित इकाई में निवेशक या बोर्ड के सदस्य किसी उद्यमी को ऐसा करने की अनुमति नहीं दे सकती है, लेकिन जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है कि महिलाओं के स्वामित्व वाले अधिकांश व्यवसाय छोटे प्रारूप हैं जहां व्यवसाय के मालिक का उसके व्यवसाय पर पर्याप्त नियंत्रण होता है।

4. कोई भी निवेश छोटा नहीं है

ए.एम.एफ.आई. के अनुसार, वित्त वर्ष 2018-19 में एस.आई.पी की औसत राशि 3,070 रुपये प्रति एस.आई.पी खाता था। अधिकांश व्यक्तियों को लगता है कि वे हर महीने कुछ हजार रुपये का निवेश करके एस.आई.पी. शुरू कर सकते हैं। हालांकि, ज्यादातर एस.आई.पी. केवल 500 रुपये प्रति माह के निवेश से शुरू किए जा सकते हैं। यदि इस राशि को लंबी अवधि के लिए निवेश किया जाता है, तो यह एक बड़ी राशि में बदल सकती है। उदाहरण के लिए, 15% के सी.ए.जी.आर. पर 30 साल में 500 रुपये प्रति माह निवेश करने से लगभग 35 लाख रुपये का कोष मिलेगा। इस बात को ध्यान में रखें कि अधिकांश म्यूचुअल फंडों ने पिछले 20 वर्षों में 15% से अधिक की सी.ए.जी.आर. की पेशकश की है।

5. एक आपातकालीन कोष बनाएँ

हर व्यवसाय में उतार-चढ़ाव का एक हिस्सा होता है। यदि किसी की व्यावसायिक आय गिरने लगती है, तो किसी निवेश से अच्छे रिटर्न मिलने के पहले ही उसे तोडा जाता है। इससे उद्यमी को अच्छे अवसर प्राप्ति में हानि होती है | इसलिए, एक आपातकालीन कोष बनाने की सलाह दी जाती है,जो कम से कम छह महीने तक आपके खर्चे को संभाले रख सके। यदि एक व्यवसाय के मालिक का भी परिवार है, तो उसे एक आपातकालीन निधि बनाने पर विचार करना चाहिए जो कम से कम एक वर्ष तक खर्चों को संभाले रख सके।

6. अपने एस.आई.पी. को बढ़ाते रहें

एक एस.आई.पी. को बढ़ने से एक रिटायरमेंट कोष में काफी वृद्धि होती है। 30 साल तक प्रति माह 10,000 रुपये का निवेश करने पर 15% के सी.ए.जी.आर. पर 7 करोड़ रुपये का अच्छा कोष मिलेगा। हालांकि, हर साल 8% की मामूली दर से एस.आई.पी. को बढ़ाने से,कोष को 11 करोड़ रुपये तक उठाया जा सकता है।

एक वेतनभोगी व्यक्ति के विपरीत, एक उद्यमी को यह अनुमान लगाना मुश्किल हो सकता है कि क्या उसकी आय हर साल एक निश्चित दर पर बढ़ सकती है। इसलिए, एक उद्यमी अपने एस.आई.पी. को साल दर साल छोटे मूल्यों के दर से  बढ़ा सकता है।

7. स्वास्थ्य बीमा खरीदें

स्वास्थ्य बीमा की अनुपस्थिति में, यदि कोई चिकित्सा आपात स्थिति होती है, तो एक व्यवसाय के मालिक अपने निवेश और बचत पर निर्भर रहने के लिए मजबूर हो सकता है। यह उसकी सेवानिवृत्ति योजनाओं को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। स्वास्थ्य बीमा खरीदना यह सुनिश्चित करेगा कि व्यवसाय के स्वामी को अपने सेवानिवृत्ति से संबंधित निवेशों को तोड़ने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

सेवानिवृत्ति के लिए अग्रिम तैयारी करके, एक महिला व्यवसायी यह सुनिश्चित कर सकती है कि उसे अज्ञात समय से भयभीत होने की जरूरत नहीं है और यह पूरी तरह से उसके पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन में सर्वश्रेष्ठ प्रदान करने पर केंद्रित है। महिला उद्यमियों द्वारा सामना की गई इन 5 चुनौतियों पर एक नजर डालिये |

संबंधित लेख

 

Most Shared