क्रिप्टो में निवेश करने से पहले आपके पास निवेश की एक ठोस रणनीति होनी चाहिए

क्रिप्टो में काफी अस्थिरता होती है, इसलिए क्रिप्टो में निवेश करने से पहले आपके पास निवेश की एक ठोस रणनीति होनी चाहिए। यह पता लगाने के लिए कि क्या आप क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने के लिए तैयार हैं, इन पांच संकेतों का पालन करें।

पहली बार क्रिप्टो में निवेश करने से पहले इन तीन बातों का ध्यान रखें

दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता से प्रभावित होकर बहुत से लोगों ने इसे अपने निवेश पोर्टफोलियो में जोड़ना शुरु किया है।

कई घटनाओं से पता चला है कि कई निवेशकों के पोर्टफोलियो में डिजिटल मुद्रा तेजी से बढ़ सकती है। साथ ही, क्रिप्टो की अस्थिर और अप्रत्याशित प्रकृति के कारण निवेशकों को लगातार सतर्क रहने की भी जरूरत होती है। यह इतना अस्थिर है कि एलन मस्क की कही बात पर भी इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

आप कहीं पीछे न छूट जाएं, क्या आप इस डर FOMO से क्रिप्टो में निवेश करना चाहते हैं? कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसके अल्पकालिक लाभ प्राप्त करना चाहते हैं या इसके संभावित दीर्घकालिक पुरस्कारों का लाभ उठाना चाहते हैं, आपके लिए किसी अन्य निवेश की तरह ही डिजिटल मुद्रा में निवेश करने के लिए इसकी शर्तों को जानना महत्वपूर्ण है।

इन पांच संकेतों पर एक नज़र डालें, हो सकता है कि आप अभी इसमें निवेश करने के लिए तैयार न हों

परिदृश्य 1: आप सारे क्रिप्टोकरेंसी को एक ही श्रेणी में रखते हैं

हालांकि अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी शेयर्स बिटकॉइन और इथेरियम के पास हैं, लेकिन सारी डिजिटल मुद्राओं का मतलब सिर्फ यही नहीं हैं। वास्तविकता यह है कि हजारों विभिन्न डिजिटल कॉइंस हैं, जिन्हें आप अपने पोर्टफोलियो में शामिल कर सकते हैं।

इसलिए, नए निवेशकों के लिए यह समझना आवश्यक है कि डिजिटल करेंसी की दुनिया कैसे काम करती है। बिटकॉइन, इथेरियम और रिपल जैसे बड़े नामों के अलावा अन्य क्रिप्टोकरेंसी के बारे में भी जानकारी प्राप्त करें।

इसके अलावा, डिजिटल करेंसी की दुनिया कैसे काम करती है, इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक के बारे में भी जानना चाहिए।

परिदृश्य 2: आपके पास कोई ठोस आपातकालीन फंड नहीं है

सरल शब्दों में, जब तक आपके पास आपात स्थिति के लिए एक ठोस योजना न हो, तब तक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश न करें। खासकर शुरुआती चरण में, क्रिप्टो की अस्थिर दुनिया में (शेयर बाजार से भी अधिक अस्थिर), आपके पैसे डूबने का जोखिम ज्यादा होगा।

अब, यहां एक प्रश्न है –अपने आपातकालीन फंड के लिए कितनी बचत करें? इस विषय पर खुली बहस हो सकती है। सुनिश्चित करें कि आपके पास चिकित्सा आपात स्थिति के साथ-साथ, तीन से छह महीने के लिए अपने आवश्यक जीवन व्यय को कवर करने के लिए पर्याप्त पैसा है। पर्याप्त पैसे से हमारा मतलब बचत खाते में तरल नकदी से है।

यह सुनिश्चित करता है कि यदि आपको मार्केट में गिरावट के दौरान पैसे की आवश्यकता हो तो आपके पास डिजिटल टोकन बेचने के अलावा भी विकल्प हों।

परिदृश्य 3: आपने निवेश की रणनीति नहीं बनाई है

क्या आप उन लोगों में से हैं जो अपनी व्यक्तिगत निवेश रणनीतियों में क्रिप्टोकरेंसी को शामिल करने पर विचार कर रहे हैं? यदि हां, तो हो सकता है कि आप अभी तक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने के लिए तैयार न हों।

वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार, आपातकालीन बचत के साथ, आपके पास एक पारंपरिक सेवानिवृत्ति योजना भी होनी चाहिए। इसके अलावा, ऐसे डिजिटल एसेट्स में निवेश करने से पहले आपके पास कोई उच्च-ब्याज वाला कर्ज नहीं होना चाहिए।

बेशक, क्रिप्टो में निवेश के साथ बहुत अधिक लाभ कमाने का मौका मिल सकता है, लेकिन आप इस निवेश से संबंधित जोखिमों और कमियों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते। जब आप बुनियादी रूप से तैयार हों और आप जानते हों कि आप किसके लिए बचत कर रहे हैं, तभी आपको ऐसे एसेट्स में निवेश करने पर विचार करना चाहिए। 

परिदृश्य 4: आपने जोखिमों का विश्लेषण नहीं किया है

'जोखिम-मुक्त निवेश' शब्द एक मिथक है, क्योंकि सारे निवेश में कुछ न कुछ जोखिम होते ही हैं। लेकिन, जब आप क्रिप्टो में निवेश करने जा रहे हैं, तो आपको कुछ अनूठे जोखिमों के लिए भी तैयार रहना चाहिए। प्रत्येक कॉइंस के साथ कुछ दीर्घकालिक और अल्पकालिक जोखिम जुड़े होते हैं, और ऐसे जोखिमों की लंबी अवधि की भविष्यवाणी करना कठिन होता है। इसलिए, इससे पहले कि आप क्रिप्टो में निवेश करें या क्रिप्टो में निवेश करके सेवानिवृत्ति योजना बनाने के बारे में सोचें, आपको सभी जोखिम कारकों को पढ़ने के बाद इनपर अच्छे से विचार करना चाहिए।

परिदृश्य 5: आप भारत में क्रिप्टो के कर परिणामों को नहीं समझते हैं

अमेरिका जैसे देश क्रिप्टो को संपत्ति के रूप में मानते हैं, करेंसी नहीं, जिस पर कर लगाया जा सकता है। भारत में परिदृश्य अलग है। बेशक, क्रिप्टोकरेंसी बैंकों या स्टॉक के रूप में विनियमित नहीं हैं। लेकिन, अगर आप इसमें निवेश कर रहे हैं, तो आपको इसके पूंजी लाभ की रिपोर्ट देनी होगी और इस पर कर भी देना होगा।

क्रिप्टो अभी भी भारत में वैध नहीं है, लेकिन आप कर से नहीं बच सकते हैं। यह घोषणा की गई है कि ऐसी वर्चुअल एसेट्स से होने वाली किसी भी आय पर 1 अप्रैल, 2022 से 30 % की दर से कर लगाया जाएगा।

इससे पहले कि आप ऐसी किसी भी डिजिटल करेंसी में निवेश करें, भविष्य के जोखिमों से बचने के लिए इनपर लगने वाले कर के बारे में रिसर्च करें।

दुनिया भर में क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता से प्रभावित होकर बहुत से लोगों ने इसे अपने निवेश पोर्टफोलियो में जोड़ना शुरु किया है।

कई घटनाओं से पता चला है कि कई निवेशकों के पोर्टफोलियो में डिजिटल मुद्रा तेजी से बढ़ सकती है। साथ ही, क्रिप्टो की अस्थिर और अप्रत्याशित प्रकृति के कारण निवेशकों को लगातार सतर्क रहने की भी जरूरत होती है। यह इतना अस्थिर है कि एलन मस्क की कही बात पर भी इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

आप कहीं पीछे न छूट जाएं, क्या आप इस डर FOMO से क्रिप्टो में निवेश करना चाहते हैं? कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसके अल्पकालिक लाभ प्राप्त करना चाहते हैं या इसके संभावित दीर्घकालिक पुरस्कारों का लाभ उठाना चाहते हैं, आपके लिए किसी अन्य निवेश की तरह ही डिजिटल मुद्रा में निवेश करने के लिए इसकी शर्तों को जानना महत्वपूर्ण है।

इन पांच संकेतों पर एक नज़र डालें, हो सकता है कि आप अभी इसमें निवेश करने के लिए तैयार न हों

परिदृश्य 1: आप सारे क्रिप्टोकरेंसी को एक ही श्रेणी में रखते हैं

हालांकि अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी शेयर्स बिटकॉइन और इथेरियम के पास हैं, लेकिन सारी डिजिटल मुद्राओं का मतलब सिर्फ यही नहीं हैं। वास्तविकता यह है कि हजारों विभिन्न डिजिटल कॉइंस हैं, जिन्हें आप अपने पोर्टफोलियो में शामिल कर सकते हैं।

इसलिए, नए निवेशकों के लिए यह समझना आवश्यक है कि डिजिटल करेंसी की दुनिया कैसे काम करती है। बिटकॉइन, इथेरियम और रिपल जैसे बड़े नामों के अलावा अन्य क्रिप्टोकरेंसी के बारे में भी जानकारी प्राप्त करें।

इसके अलावा, डिजिटल करेंसी की दुनिया कैसे काम करती है, इसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए ब्लॉकचेन तकनीक के बारे में भी जानना चाहिए।

परिदृश्य 2: आपके पास कोई ठोस आपातकालीन फंड नहीं है

सरल शब्दों में, जब तक आपके पास आपात स्थिति के लिए एक ठोस योजना न हो, तब तक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश न करें। खासकर शुरुआती चरण में, क्रिप्टो की अस्थिर दुनिया में (शेयर बाजार से भी अधिक अस्थिर), आपके पैसे डूबने का जोखिम ज्यादा होगा।

अब, यहां एक प्रश्न है –अपने आपातकालीन फंड के लिए कितनी बचत करें? इस विषय पर खुली बहस हो सकती है। सुनिश्चित करें कि आपके पास चिकित्सा आपात स्थिति के साथ-साथ, तीन से छह महीने के लिए अपने आवश्यक जीवन व्यय को कवर करने के लिए पर्याप्त पैसा है। पर्याप्त पैसे से हमारा मतलब बचत खाते में तरल नकदी से है।

यह सुनिश्चित करता है कि यदि आपको मार्केट में गिरावट के दौरान पैसे की आवश्यकता हो तो आपके पास डिजिटल टोकन बेचने के अलावा भी विकल्प हों।

परिदृश्य 3: आपने निवेश की रणनीति नहीं बनाई है

क्या आप उन लोगों में से हैं जो अपनी व्यक्तिगत निवेश रणनीतियों में क्रिप्टोकरेंसी को शामिल करने पर विचार कर रहे हैं? यदि हां, तो हो सकता है कि आप अभी तक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने के लिए तैयार न हों।

वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार, आपातकालीन बचत के साथ, आपके पास एक पारंपरिक सेवानिवृत्ति योजना भी होनी चाहिए। इसके अलावा, ऐसे डिजिटल एसेट्स में निवेश करने से पहले आपके पास कोई उच्च-ब्याज वाला कर्ज नहीं होना चाहिए।

बेशक, क्रिप्टो में निवेश के साथ बहुत अधिक लाभ कमाने का मौका मिल सकता है, लेकिन आप इस निवेश से संबंधित जोखिमों और कमियों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते। जब आप बुनियादी रूप से तैयार हों और आप जानते हों कि आप किसके लिए बचत कर रहे हैं, तभी आपको ऐसे एसेट्स में निवेश करने पर विचार करना चाहिए। 

परिदृश्य 4: आपने जोखिमों का विश्लेषण नहीं किया है

'जोखिम-मुक्त निवेश' शब्द एक मिथक है, क्योंकि सारे निवेश में कुछ न कुछ जोखिम होते ही हैं। लेकिन, जब आप क्रिप्टो में निवेश करने जा रहे हैं, तो आपको कुछ अनूठे जोखिमों के लिए भी तैयार रहना चाहिए। प्रत्येक कॉइंस के साथ कुछ दीर्घकालिक और अल्पकालिक जोखिम जुड़े होते हैं, और ऐसे जोखिमों की लंबी अवधि की भविष्यवाणी करना कठिन होता है। इसलिए, इससे पहले कि आप क्रिप्टो में निवेश करें या क्रिप्टो में निवेश करके सेवानिवृत्ति योजना बनाने के बारे में सोचें, आपको सभी जोखिम कारकों को पढ़ने के बाद इनपर अच्छे से विचार करना चाहिए।

परिदृश्य 5: आप भारत में क्रिप्टो के कर परिणामों को नहीं समझते हैं

अमेरिका जैसे देश क्रिप्टो को संपत्ति के रूप में मानते हैं, करेंसी नहीं, जिस पर कर लगाया जा सकता है। भारत में परिदृश्य अलग है। बेशक, क्रिप्टोकरेंसी बैंकों या स्टॉक के रूप में विनियमित नहीं हैं। लेकिन, अगर आप इसमें निवेश कर रहे हैं, तो आपको इसके पूंजी लाभ की रिपोर्ट देनी होगी और इस पर कर भी देना होगा।

क्रिप्टो अभी भी भारत में वैध नहीं है, लेकिन आप कर से नहीं बच सकते हैं। यह घोषणा की गई है कि ऐसी वर्चुअल एसेट्स से होने वाली किसी भी आय पर 1 अप्रैल, 2022 से 30 % की दर से कर लगाया जाएगा।

इससे पहले कि आप ऐसी किसी भी डिजिटल करेंसी में निवेश करें, भविष्य के जोखिमों से बचने के लिए इनपर लगने वाले कर के बारे में रिसर्च करें।

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख