Best investment options for child's future : बच्चों के भविष्य की है चिंता तो अपनाएँ ये पाँच निवेश विकल्प

बच्चों को दें सुरक्षित भविष्य का उपहार इन पाँच निवेशों के माध्यम से।

बच्चों के लिए पाँच निवेश विकल्प

Best investment options for child's future: बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखना हर माता-पिता की चाह होती है। बच्चों द्वारा देखे गए स्वप्नों को पूरा करना हर माँ बाप की पहली प्राथमिकता होती है। बच्चों के लिए निवेश करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे उनकी उम्र, आवश्यकता और फाइनेंशियल गोल। इस आधार पर यहाँ पाँच निवेश स्कीमों के बारे में जानकारी दी जा रही है।

1. स्मॉल सेविंग स्कीम    

बच्चों की उच्च शिक्षा या बेटियों के विवाह के लिए यदि निवेश करना चाहते हैं तो सुकन्या समृद्धि योजना, पब्लिक प्रोविडेंट फंड और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट जैसी कई छोटी बचत योजनाएँ उपलब्ध हैं। ये बचत योजनाएँ लंबी अवधि में अच्छा खासा रिटर्न देती हैं। भविष्य की आवश्यकता और फाइनेंशियल गोल के आधार पर छोटी बचत योजना चुनी जा सकती है। उदाहरण के लिए, उच्च शिक्षा के लिए पीपीएफ, एनएससी या पोस्ट ऑफिस में एफडी अच्छे विकल्प हैं। यदि बिटिया की उम्र 10 वर्ष से कम है तो उसके विवाह के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश किया जा सकता है।

2. इक्विटी म्यूचुअल फंड 

रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट बढ़ाने की इच्छा है तो इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। हालांकि इसमें जोखिम शामिल है इसलिए लॉंग टर्म के निवेश बेहतर होंगे। रुपये के औसत मूल्य के लाभ के साथ एसआईपी के जरिए निवेश से जोखिम कम हो सकता है। अलग-अलग संस्थाओं के म्यूचुअल फंड में निवेश करने से श्रेणियों की विविधता लाई जा सकती है जैसे कि लंबी अवधि के निवेश के लिए स्मॉल से मिडकैप में निवेश, वहीं मध्यम से लंबी अवधि तक के लिए लार्जकैप में निवेश किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

3. इमरजेंसी फंड 

सुरक्षित भविष्य के लिए किसी भी आपदा की स्थिति से निपटने के लिए इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए। रेकरिंग और फिक्स्ड डिपॉजिट इसके उपाय हैं। इस फंड का उपयोग उच्च शिक्षा के लिए, लिए गए ऋण और ख़र्च के गैप को मिटाने के लिए किया जा सकता है। स्वास्थ्य संबंधी विपत्ति आने पर कैशलेस बीमा उपलब्ध न हो तो भी इस फंड का उपयोग बिल के भुगतान के लिए किया जा सकता है। यदि अगले कुछ समय में इमरजेंसी फंड बनाने की योजना है तो रिकरिंग डिपॉजिट में निवेश अच्छा होगा या फिर कम समय की एफडी की जा सकती है। साथ ही एफडी लैडरिंग भी एक अच्छा उपाय हो सकता है। रेकरिंग डिपॉजिट या फिक्स्ड डिपॉजिट में तुरंत नकदीकरण संभव है जिसके चलते रकम जल्द जुटाई जा सकती है। 

4. सोवरन गोल्ड बॉन्ड 

बच्चों के लिए बनाए गए पोर्टफोलियो में यह सुरक्षात्मक निवेश हो सकता है। इसमें अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP) पर और पूंजी वृद्धि होने पर 2.5% की दर से वार्षिक ब्याज मिलता है। यदि एसआईपी के जरिए निवेश करना चाहें तो गोल्ड ईटीएफ में भी निवेश किया जा सकता है। 

5. यूलिप में निवेश 

यूनिट लिंक्ड इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश आपकी जोखिम लेने की क्षमता और मुनाफ़े पर निर्भर करता है। इसके माध्यम से डेट (debt) या इक्विटी दोनों में निवेश किया जा सकता है। आयकर की धारा 80सी के अंतर्गत जीवन बीमा और आयकर के लाभ भी मिलते हैं। लंबी अवधि के निवेश के लिए यह एक बेहतरीन विकल्प है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Best Child Investment Plan for 2022

Best investment options for child's future: बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखना हर माता-पिता की चाह होती है। बच्चों द्वारा देखे गए स्वप्नों को पूरा करना हर माँ बाप की पहली प्राथमिकता होती है। बच्चों के लिए निवेश करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए जैसे उनकी उम्र, आवश्यकता और फाइनेंशियल गोल। इस आधार पर यहाँ पाँच निवेश स्कीमों के बारे में जानकारी दी जा रही है।

1. स्मॉल सेविंग स्कीम    

बच्चों की उच्च शिक्षा या बेटियों के विवाह के लिए यदि निवेश करना चाहते हैं तो सुकन्या समृद्धि योजना, पब्लिक प्रोविडेंट फंड और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट जैसी कई छोटी बचत योजनाएँ उपलब्ध हैं। ये बचत योजनाएँ लंबी अवधि में अच्छा खासा रिटर्न देती हैं। भविष्य की आवश्यकता और फाइनेंशियल गोल के आधार पर छोटी बचत योजना चुनी जा सकती है। उदाहरण के लिए, उच्च शिक्षा के लिए पीपीएफ, एनएससी या पोस्ट ऑफिस में एफडी अच्छे विकल्प हैं। यदि बिटिया की उम्र 10 वर्ष से कम है तो उसके विवाह के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश किया जा सकता है।

2. इक्विटी म्यूचुअल फंड 

रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट बढ़ाने की इच्छा है तो इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश किया जा सकता है। हालांकि इसमें जोखिम शामिल है इसलिए लॉंग टर्म के निवेश बेहतर होंगे। रुपये के औसत मूल्य के लाभ के साथ एसआईपी के जरिए निवेश से जोखिम कम हो सकता है। अलग-अलग संस्थाओं के म्यूचुअल फंड में निवेश करने से श्रेणियों की विविधता लाई जा सकती है जैसे कि लंबी अवधि के निवेश के लिए स्मॉल से मिडकैप में निवेश, वहीं मध्यम से लंबी अवधि तक के लिए लार्जकैप में निवेश किया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

3. इमरजेंसी फंड 

सुरक्षित भविष्य के लिए किसी भी आपदा की स्थिति से निपटने के लिए इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए। रेकरिंग और फिक्स्ड डिपॉजिट इसके उपाय हैं। इस फंड का उपयोग उच्च शिक्षा के लिए, लिए गए ऋण और ख़र्च के गैप को मिटाने के लिए किया जा सकता है। स्वास्थ्य संबंधी विपत्ति आने पर कैशलेस बीमा उपलब्ध न हो तो भी इस फंड का उपयोग बिल के भुगतान के लिए किया जा सकता है। यदि अगले कुछ समय में इमरजेंसी फंड बनाने की योजना है तो रिकरिंग डिपॉजिट में निवेश अच्छा होगा या फिर कम समय की एफडी की जा सकती है। साथ ही एफडी लैडरिंग भी एक अच्छा उपाय हो सकता है। रेकरिंग डिपॉजिट या फिक्स्ड डिपॉजिट में तुरंत नकदीकरण संभव है जिसके चलते रकम जल्द जुटाई जा सकती है। 

4. सोवरन गोल्ड बॉन्ड 

बच्चों के लिए बनाए गए पोर्टफोलियो में यह सुरक्षात्मक निवेश हो सकता है। इसमें अधिकतम खुदरा मूल्य (MRP) पर और पूंजी वृद्धि होने पर 2.5% की दर से वार्षिक ब्याज मिलता है। यदि एसआईपी के जरिए निवेश करना चाहें तो गोल्ड ईटीएफ में भी निवेश किया जा सकता है। 

5. यूलिप में निवेश 

यूनिट लिंक्ड इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश आपकी जोखिम लेने की क्षमता और मुनाफ़े पर निर्भर करता है। इसके माध्यम से डेट (debt) या इक्विटी दोनों में निवेश किया जा सकता है। आयकर की धारा 80सी के अंतर्गत जीवन बीमा और आयकर के लाभ भी मिलते हैं। लंबी अवधि के निवेश के लिए यह एक बेहतरीन विकल्प है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Best Child Investment Plan for 2022

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget