TomorrowMakers

शादी की योजना बनाते वक्त समझदारी से काम लेना अहम है, ताकि आप कर्ज के बोझ के तले न दब जाएं।

शादी का प्रबंध करना काफी खर्चीला हो सकता है, अगर आप जरूरी कदम न उठाएं तो। चाहे आप अपनी शादी पर जिंदगी भर की बचत खर्च करने की योजना बना रहे हों, लेकिन एक बेहतर तरीका और भी है – कम खर्च में शादी की योजना बनाना। शादी की योजना में छोटे-छोटे बदलाव भी काफी बड़ी रकम बचा सकते हैं।

हम आपको कम खर्च में शादी की योजना बनाने के लिए जरूरी कदमों के बारे में बताएंगे।

शादी की योजना खुद बनाएं

पेशेवर प्लानर आपकी शादी के प्रबंध करने की पूरी जिम्मेदारी लेता या लेती है, लेकिन इसके लिए आपको मोटी फीस चुकानी पड़ती है। इसलिए, पेशेवर प्लानर की सेवा लेने के बजाय आप अपने परिवार, मित्रों और रिश्तेदारों से मदद मांग सकते हैं। इनके बीच आप काम बांट सकते हैं – एक व्यक्ति खाने-पीने का प्रबंध देखेगा तो कोई दूसरा व्यक्ति मेहमानों के टिकटों को बुक कर सकता है। इस तरह से आप पेशेवर प्लानर की फीस की बचत कर सकेंगे और अपने प्रियजनों के साथ शादी की योजना बनाने का मजा भी ले पाएंगे।

ऑफ-सीजन में खरीदारी

आपने ध्यान दिया ही होगा कि कैसे गर्मियों में एयर-कंडिशनर्स की कीमतों में बढ़ोतरी होती है। ठीक यही बात शादियों के मौसम पर भी लागू होती है। अगर आप नवंबर, दिसंबर, जनवरी और फरवरी के महीनों में खरीदारी करते हैं, तो आपको ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ेंगे। इसलिए, समझदारी से काम लीजिए और ऑफ-सीजन में कपड़ों, गहनों (खासतौर पर सोने के गहनों), ऐक्सेसरीज, आदि की खरीदारी कीजिए।

पहले से बुकिंग कीजिए

अगर आप शादियों के मौसम में शादी करने के विचार में है तो ये कदम आपके बहुत काम आएगा। इस दौरान हर जगह – प्लेन, ट्रेन, होटल – की भारी मांग होगी और इसलिए दाम भी ज्यादा होंगे। आप पहले से शादी का स्थल, होटल, केटरर, पार्लर, कार्ड प्रिंटर बुकिंग करके काफी पैसा बचा सकते हैं। ऐसा करने से सुनिश्चित हो जाएगा कि आप इन बातों को आखिरी वक्त के लिए नहीं छोड़ देंगे।

शादी का समारोह छोटा रखें

आमतौर पर भारतीय शादी का कार्यकर्म हफ्ता भर चलता है, जिसमें शादी के पहले और बाद के कई समारोह शामिल होते हैं जैसे संगीत, मेहंदी, सगाई, आदि। हर दिन एक समारोह रखने से मेहमानों के ठहरने का वक्त भी बढ़ता है और इससे शादी के खर्चों में और बढ़ोतरी होती है। इसलिए, आप एक दिन में 2-3 समारोह रख सकते हैं और सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपकी जेब पर भारी बोझ न पड़े।

तुलना करें

आप सबसे पहले जिस व्यक्ति को मिलें उसे ही बुक न कर लें। दूसरे विकल्पों की भी खोज करें और पता करें कि क्या आपको कम पैसे में वही सेवा मिल रही है या नहीं। आप जान पहचान के उन लोगों की भी मदद ले सकते हैं, जिनके पास शादी के प्रबंध का अनुभव हो। ऐसा करने से आपको बेहतर सौदे मिल सकते हैं। इसलिए, समझदारी से काम लीजिए और अंतिम फैसला लेने से पहले विकल्पों की तुलना करें।

मदद मांगे

जो खर्च अभी आपको छोटे लग रहे हैं जैसे – फोटोग्राफी, संगीत, शादी के कार्ड, पार्लर का खर्च – इनका आपके शादी के बजट पर काफी असर होगा। इसलिए, अपने मित्रों, परिवार और रिश्तेदारों से मदद मांगने में हिचकिचाए नहीं। आपकी जान पहचान के लोगों में ही आपको उभरता फोटोग्राफर, काफी अच्छा डीजे और प्रतिभावान मेकअप आर्टिस्ट मिल सकते हैं। ऐसा करने से न सिर्फ इन खर्चों का बोझ कम करेंगे, साथ ही किसने क्या जिम्मेदारी निभाई ये भी शादी की यादों का अहम हिस्सा बन जाएंगे। इतना ही नहीं, सभी लोग अपने हुनर को दिखाने में उत्सुक रहेंगे और आपकी शादी में चार-चांद लगा देंगे।

निष्कर्ष में

समझदारी से काम लें ताकि शादी पर ही आपको अपनी पूरी पूंजी न खर्च करनी पड़ जाए। ऊपर दिए गए कदमों को ध्यान नें रखें और कम खर्च में अविस्मरणीय शादी का आयोजन करें।