भारतीय एमएसएमई के लिए 5 मुख्य सबक

वर्ष 2020 की चुनौतीपूर्ण घटनाओं के बावजूद, छोटे और मध्यम बिजनेस मालिकों ने इस बात पर एक या दो सबक सीखे कि आर्थिक रूप से कठिन समयों में खुद को कैसे बनाए रखा जाए।

भारतीय एमएसएमई के लिए 5 मुख्य सबक

इस बात में कोई शक नहीं कि 2020 बिजनेस के लिए काफी कठिन था। पूरी दुनिया में लॉकडाउन लगने के साथ, सूक्ष्म, लघु और मध्यम बिजनेस (एमएसएमई) ने महामारी के कारण उत्पन्न हुए आर्थिक मंदी के सबसे कठिन दौर का सामना किया। कुछ कंपनियां पूरी तरह से शट डाउन करने के लिए मजबूर हुईं, जबकि बचे रहने वाले दूसरे छोटे बिजनेस के मालिकों ने संकट के समय सफलतापूर्वक संचालन करने पर कुछ महत्वपूर्ण सबक भी सीखा। आइए हम देखें कि वे क्या-क्या हैं:

1. बिजनेस का बीमा करना: वर्ष 2020 में बिजनेस में उतार-चढ़ाव के साथ, एमएसएमई के लिए आर्थिक बाधाओं से सुरक्षित रहना ही अच्छा है। किसी ऐसे बीमा योजना में निवेश करना जो आकस्मिक संकटों से सुरक्षा प्रदान करता है, बिजनेस को सुचारू रूप से चलाते रहने की आधारशिलाओं में से एक है। एमएसएमई के लिए एक बीमा योजना अत्यावश्य होता है क्योंकि यह न केवल आपको वित्तीय सुरक्षा प्रदान करता है बल्कि आपके बिजनेस को एक परिसंपत्ति के रूप में पालता-पोषता है। पर्याप्त बीमा लेने से नुकसानों को कम करने और वित्तीय संकट के विनाशकारी परिणाम से बचने में मदद मिलती है।

2. नगद प्रवाह को नियंत्रित करना: अपने बिजनेस को सुचारू रूप से चलाने के लिए, पर्याप्त कैश फ्लो बनाए रखना जरूरी है। अपने परिचालन व्ययों का मूल्यांकन करें और यह देखें कि आप कहां-कहां उनमें कटौती कर सकते हैं और अपने परिचालन आमदनी को बढ़ाएं। अपने रिसिवेबल्स (प्राप्य) अकाउंट में पर्याप्त टर्नओवर पर फोकस करें और ग्राहकों से समय पर कैश लें। कैश फ्लो का प्रबंधन करने से आप अपने वेंडर्स और क्रेडिटर्स को समय पर भुगतान कर सकते हैं। कैश में किसी अस्थायी कमी के लिए, बैंक छोटे बिजनेस को बिजनेस लाइन ऑफ क्रेडिट के रूप में वर्किंग कैपिटल प्रदान करते हैं; इससे लगातार परिचालन सुनिश्चित करने में मदद मिल सकती है। आप ऋण की राशि का उपयोग इंवेंट्री खरीदने या अन्य परिचालन खर्चों में कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रखेंकि आप ऋण को समय पर चुकाने में सक्षम हों।

इससे जुड़ी बातें: एमएसएमई में नवाचार लाना: न्यू इंडिया चैलेंज

3. कैश को सुरक्षित रखना: ‘कैश को बचाना’ का उपयोग अक्सर बार-बार होता है लेकिन यह एमएसएमई के लिए उत्कृष्ट रूप से बुद्धिमान सलाह है। चाहे यह व्यक्तित या बिजनेस उपयोग हो, हाथ में नदग होने से आप कठिन समयों में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। चूंकि आप अधिक राजस्व और लाभ अर्जित करने का प्रयास करते हैं, इसलिए कैश फ्लो पर भी ध्यान रखें। अपने परिचालन संबंधी और अन्य प्रशासनिक व्ययों का मूल्यांकन करें और किसी गैर-आवश्यक खर्चों को कम करें। जब भी संभव हो, अपने बिजनेस से अर्जित कैश को अलग रखें। आप अपने बिजनेस में दुबारा इसे लगा सकते हैं ताकि आपको सब खर्च करने का लालच न हो।

4. विविधता: बदलाव और अनिश्चितता के साथ बिजनेस के लिए अवसर आते हैं। यह समय अपने संसाधनों को पकड़ने का होता है। अपने मौजूदा बिजनेस लाभों से परे देखें और अन्य उत्पादों या सेवाओं में विविधता लाकर इसे विस्तारित करें। इससे यह सुनिश्चित होगा कि मंदी के दौरान आपका बिजनेस ठप नहीं पड़ेगा। विविधता से केवल एक ऐसे उत्पाद के साथ डील करने का प्राथमिक जोखिम कम जो जाता है जिसकी मांग संकट के समय कम हो जाती है। ग्राहकों की बदलती मांग की पहचान करें और उन उत्पादों की पूर्ति करने खाली जगह को भरें। आप आसानी से बिजनेस लोन ले सकते हैं या लाइन ऑफ क्रेडिट ले सकते हैं यदि आपको अपने बिजनेस में विविधता लाने के लिए फंड की जरूरत होती है। अधिकांश बैंक कम ब्याज दरों पर और लोचशील चुकौती शेड्यूल पर स्मॉल बिजनेस लोन देते हैं।

इससे जुड़ी बातें: सरकारी पहल जिससे एमएसएमई को कोविड-19 के आर्थिक प्रतिघात से लड़ने में मदद मिल सकती है

5. नवाचार को अपनाना: परिस्थिति की मांग होने पर लोचशील बनना और बिजनेस करने के नए और अलग तरीके को अपनाना आवश्यक होता है ताकि कठिन समयों में प्रासंगिक बना जा सके और तुलनात्मक रूप से सफलतापूर्वक उभरा जा सके। उदाहरण के लिए, 2020 ने कुछ पारंपरिक बिजनेस को तकनीकी अपनाने पर मजबूर कर दिया और अधिक ऑनलाइन हुए - ऑनलाइन ऑर्डर लेना और भुगतान के केवल डिजिटल मोड को स्वीकार करना। ऐसे बिजनेस मालिक जो जल्दी से प्रतिक्रिया देते हैं और अपनाते हैं, न कि जिद पर अड़े रहते हैं, वे न केवल बचे रहते हैं बल्कि बदले हुए बाजार में कामयाब होते हैं। ऐसे बिजनेस जो ऐसे बदलाव नहीं करते हैं उन्हें भयानक परिणामों का सामना करना पड़ सकता है।

अंतिम शब्द

बिजनेस साइकल का अनुमान नहीं लगाया जा सकता। अपने को अचानक अवरोध के परिणामों से बचाने का एक ही तरीका है तैयार रहना और लोचशील रहना, और पर्याप्त संसाधन बनाए रखना। ऐसी बिजनेस संस्कृति और मॉडल बनाने पर ध्यान दें जो आपकी टीम, आपने वेंडर्स और आपके ग्राहकों के विश्वास और सराहना के बुनियाद पर बने। आखिरकार, मजबूत रिश्ते मुख्य इंग्रेडिएंट हैं जिससे अनचाही स्थितियों में भी आपका बिजनेस उन्नति करेगा। भारत में स्टार्टाप्स को बढ़ाने के लिए भारत सरकार के इन प्रयासों को देखें




संबंधित लेख