आपके होम लोन टॉप-अप के साथ मिलने वाले कर संबंधी फायदे

प्रॉपर्टी की ऊंची कीमतों के कारण, होम लोन की बहुत मांग रहती है। अपने जरूरी खर्चों की पूर्ति के लिए कम ब्याज दर और भुगतान की बढ़ी हुई अवधि के साथ होम लोन टॉप-अप सबसे अच्छा विकल्प है।

आपके होम लोन टॉप-अप के साथ मिलने वाले कर संबंधी फायदे

होम लोन टॉप-अप का विवरण  

कई बार, अनिश्चित परिस्थितियों के कारण, होम लोन लेने वालों को और अधिक फंडिंग की जरूरत पड़ सकती है। यदि किसी उधार लेने वाले को अपने जरूरी खर्चों के लिए अतिरिक्त धन की सख्त आवश्यकता हो, तो वह होम लोन टॉप-अप के लिए आवेदन कर सकता है। होम लोन टॉप-अप के लिए उसी बैंक में आवेदन किया जा सकता है जिसने आपको आपका मौजूदा होम लोन दिया है, लेकिन टॉप-अप का लाभ लेने से पहले भुगतान की सभी शर्तों की विधिवत जांच करने की सलाह दी जाती है।

शेष राशि (बैलेंस) का स्थानांतरण

टॉप-अप लोन पर फैसला करने से पहले होम लोन देने वाले बैंकों की समान ब्याज दरों की गहरी जानकारी आवश्यक है। यदि आप अपने मौजूदा बैंक द्वारा दी गई शर्तों से संतुष्ट नहीं हैं, तो शेष राशि का हस्तांतरण किसी ऐसे अन्य बैंक में कर सकते हैं जो बेहतर शर्तें प्रदान करता है। ग्राहकों को ऋण देने वाले मौजूदा बैंक के होम लोन टॉप-अप के ब्याज दर की तुलना अन्य नए बैंकों के होम लोन के शुल्क और औपचारिकताओं के साथ कर सकते है।

पात्रता की सरल एवं आसान शर्तें

होम लोन टॉप-अप का लाभ लेना आसान है, क्योंकि ऋण प्रदान करने वाले मौजूदा बैंक द्वारा पहले ही पात्रता के लिए अधिकांश शर्तों की जांच हो चुकी होती है। एक नए बैंक में स्थानांतरण के मामले मे, मंजूरी के लिए आवश्यक दस्तावेज़ पिछले बैंक के समान ही होते हैं, बस यही एक ध्यान देने लायक बात है कि अलग-अलग बैंकों में बस कुछ चीजें ही भिन्न होती हैं। मौजूदा होम लोन पर टॉप-अप लोन स्वीकृत करने में आमतौर पर कुछ समय लगता है।

हालांकि कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कारक हैं जिन पर सभी बैंक होम लोन टॉप-अप को मंज़ूरी देने के लिए विचार करते हैं।

  • बैलेंस ट्रांसफर के मामले में मौजूदा बैंक या नए बैंक से एक साल का बिना किसी विवाद के भुगतान का विवरण आवश्यक होता है।
  • लोन अवधि के पिछले वर्ष में केवल एक ईएमआई बाउंस की अनुमति होती है। 
  • ईएमआई बाउंस को अगली ईएमआई तिथि से पहले समाप्त कर दिया जाना चाहिए।

होम लोन टॉप-अप के लिए सामान्य मानदंड निम्नलिखित हैं.

  • सभी स्वरोजगार में लगे या वेतनभोगी व्यक्ति पात्र हैं।
  • सभी भारतीयों और अनिवासी भारतीयों के लिए उपलब्ध है।
  • पात्रता के लिए आयु 21 से 65 वर्ष है। 

उपयोग पर कोई प्रतिबंध नहीं 

होम लोन टॉप-अप प्राप्त करने का कारण सबके लिए अलग-अलग हो सकता है। लोन की राशि का उपयोग किसी भी आवश्यक खर्च के लिए किया जा सकता है, मौजूदा घर के नवीनीकरण (रेनोवेशन) से लेकर नया घर खरीदने या नई कार खरीदने के लिए हो सकता है। सिर्फ आपको होम लोन पर टॉप-अप लेने का कारण बताना होता है।

हालांकि, होम लोन टॉप-अप का उपयोग लाभ कमाने के लिए लेन-देन करने में नहीं किया जा सकता है। होम लोन टॉप-अप पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड लोन की तुलना में बेहतर है और आसानी से मिलता है। ब्याज की दर बहुत कम होती है क्योंकि यह होम लोन के दायरे में आता है, जिसे एक बुनियादी आवश्यकता के रूप में माना जाता है। कर में फायदे का दावा तभी किया जा सकता है जब टॉप-अप लोन का इस्तेमाल घर के नवीनीकरण (रेनोवेशन), बिल्डिंग का विस्तार (एक्सटेंशन) या सुधार (मॉडिफिकेशन) जैसे घरेलू उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

लंबी भुगतान अवधि

होम लोन की अवधि पर एक उधारकर्ता का टॉप-अप लोन इस बात पर निर्भर करता है कि उनकी मौजूदा होम लोन अवधि कितने वर्षों के लिए शेष है। यदि उधारकर्ता ने 20 वर्षों के लिए ऋण लिया है और 5 वर्षों के लिए ईएमआई का भुगतान किया है, तो होम लोन की टॉप-अप अवधि शेष 15 वर्षों के लिए होगी। चूंकि ऋण का विस्तार अगले 15 वर्षों के लिए है, इससे उधारकर्ता के लिए ईएमआई का बोझ कम हो जाता है।

ओवरड्राफ्ट या अधिक रूपए निकालने की सुविधा

अधिक रूपए निकालने की सुविधा सभी होम लोन बैंकों द्वारा प्रदान की जाती है और आम तौर पर होम लोन राशि के समान होती है। हालांकि, होम लोन पर टॉप-अप लोन के लिए, वास्तविक होम लोन राशि और बकाया लोन राशि के बीच के अंतर को देखा जाता है। उदाहरण के लिए, यदि 50 लाख रूपए का होम लोन स्वीकृत था, जिसमें 15 लाख रूपए का भुगतान पहले ही किया जा चुका है, तो 35 लाख रूपए का होम लोन टॉप-अप लिया जा सकता है। 

कम ब्याज दर

होम लोन टॉप-अप की ब्याज दरें हर बैंक में अलग-अलग होती हैं और मांगे गए ऋण की राशि और आय अनुपात (FOIR) के अनुसार तय बाध्यता के आधार पर 6.75% प्रति वर्ष से लेकर 9.15% प्रति वर्ष तक होती हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वर्तमान में बाजार में पर्सनल लोन पर लगभग 12% ब्याज लगता है। इसलिए, होम लोन टॉप-अप की बहुत मांग है क्योंकि इसमें ब्याज दरें कम हैं जो कि मांग किए गए टॉप-अप की राशि और मौजूदा होम लोन की स्थिति से तय होती है।

होम लोन टॉप-अप का विवरण  

कई बार, अनिश्चित परिस्थितियों के कारण, होम लोन लेने वालों को और अधिक फंडिंग की जरूरत पड़ सकती है। यदि किसी उधार लेने वाले को अपने जरूरी खर्चों के लिए अतिरिक्त धन की सख्त आवश्यकता हो, तो वह होम लोन टॉप-अप के लिए आवेदन कर सकता है। होम लोन टॉप-अप के लिए उसी बैंक में आवेदन किया जा सकता है जिसने आपको आपका मौजूदा होम लोन दिया है, लेकिन टॉप-अप का लाभ लेने से पहले भुगतान की सभी शर्तों की विधिवत जांच करने की सलाह दी जाती है।

शेष राशि (बैलेंस) का स्थानांतरण

टॉप-अप लोन पर फैसला करने से पहले होम लोन देने वाले बैंकों की समान ब्याज दरों की गहरी जानकारी आवश्यक है। यदि आप अपने मौजूदा बैंक द्वारा दी गई शर्तों से संतुष्ट नहीं हैं, तो शेष राशि का हस्तांतरण किसी ऐसे अन्य बैंक में कर सकते हैं जो बेहतर शर्तें प्रदान करता है। ग्राहकों को ऋण देने वाले मौजूदा बैंक के होम लोन टॉप-अप के ब्याज दर की तुलना अन्य नए बैंकों के होम लोन के शुल्क और औपचारिकताओं के साथ कर सकते है।

पात्रता की सरल एवं आसान शर्तें

होम लोन टॉप-अप का लाभ लेना आसान है, क्योंकि ऋण प्रदान करने वाले मौजूदा बैंक द्वारा पहले ही पात्रता के लिए अधिकांश शर्तों की जांच हो चुकी होती है। एक नए बैंक में स्थानांतरण के मामले मे, मंजूरी के लिए आवश्यक दस्तावेज़ पिछले बैंक के समान ही होते हैं, बस यही एक ध्यान देने लायक बात है कि अलग-अलग बैंकों में बस कुछ चीजें ही भिन्न होती हैं। मौजूदा होम लोन पर टॉप-अप लोन स्वीकृत करने में आमतौर पर कुछ समय लगता है।

हालांकि कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कारक हैं जिन पर सभी बैंक होम लोन टॉप-अप को मंज़ूरी देने के लिए विचार करते हैं।

  • बैलेंस ट्रांसफर के मामले में मौजूदा बैंक या नए बैंक से एक साल का बिना किसी विवाद के भुगतान का विवरण आवश्यक होता है।
  • लोन अवधि के पिछले वर्ष में केवल एक ईएमआई बाउंस की अनुमति होती है। 
  • ईएमआई बाउंस को अगली ईएमआई तिथि से पहले समाप्त कर दिया जाना चाहिए।

होम लोन टॉप-अप के लिए सामान्य मानदंड निम्नलिखित हैं.

  • सभी स्वरोजगार में लगे या वेतनभोगी व्यक्ति पात्र हैं।
  • सभी भारतीयों और अनिवासी भारतीयों के लिए उपलब्ध है।
  • पात्रता के लिए आयु 21 से 65 वर्ष है। 

उपयोग पर कोई प्रतिबंध नहीं 

होम लोन टॉप-अप प्राप्त करने का कारण सबके लिए अलग-अलग हो सकता है। लोन की राशि का उपयोग किसी भी आवश्यक खर्च के लिए किया जा सकता है, मौजूदा घर के नवीनीकरण (रेनोवेशन) से लेकर नया घर खरीदने या नई कार खरीदने के लिए हो सकता है। सिर्फ आपको होम लोन पर टॉप-अप लेने का कारण बताना होता है।

हालांकि, होम लोन टॉप-अप का उपयोग लाभ कमाने के लिए लेन-देन करने में नहीं किया जा सकता है। होम लोन टॉप-अप पर्सनल लोन या क्रेडिट कार्ड लोन की तुलना में बेहतर है और आसानी से मिलता है। ब्याज की दर बहुत कम होती है क्योंकि यह होम लोन के दायरे में आता है, जिसे एक बुनियादी आवश्यकता के रूप में माना जाता है। कर में फायदे का दावा तभी किया जा सकता है जब टॉप-अप लोन का इस्तेमाल घर के नवीनीकरण (रेनोवेशन), बिल्डिंग का विस्तार (एक्सटेंशन) या सुधार (मॉडिफिकेशन) जैसे घरेलू उद्देश्यों के लिए किया जाता है।

लंबी भुगतान अवधि

होम लोन की अवधि पर एक उधारकर्ता का टॉप-अप लोन इस बात पर निर्भर करता है कि उनकी मौजूदा होम लोन अवधि कितने वर्षों के लिए शेष है। यदि उधारकर्ता ने 20 वर्षों के लिए ऋण लिया है और 5 वर्षों के लिए ईएमआई का भुगतान किया है, तो होम लोन की टॉप-अप अवधि शेष 15 वर्षों के लिए होगी। चूंकि ऋण का विस्तार अगले 15 वर्षों के लिए है, इससे उधारकर्ता के लिए ईएमआई का बोझ कम हो जाता है।

ओवरड्राफ्ट या अधिक रूपए निकालने की सुविधा

अधिक रूपए निकालने की सुविधा सभी होम लोन बैंकों द्वारा प्रदान की जाती है और आम तौर पर होम लोन राशि के समान होती है। हालांकि, होम लोन पर टॉप-अप लोन के लिए, वास्तविक होम लोन राशि और बकाया लोन राशि के बीच के अंतर को देखा जाता है। उदाहरण के लिए, यदि 50 लाख रूपए का होम लोन स्वीकृत था, जिसमें 15 लाख रूपए का भुगतान पहले ही किया जा चुका है, तो 35 लाख रूपए का होम लोन टॉप-अप लिया जा सकता है। 

कम ब्याज दर

होम लोन टॉप-अप की ब्याज दरें हर बैंक में अलग-अलग होती हैं और मांगे गए ऋण की राशि और आय अनुपात (FOIR) के अनुसार तय बाध्यता के आधार पर 6.75% प्रति वर्ष से लेकर 9.15% प्रति वर्ष तक होती हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वर्तमान में बाजार में पर्सनल लोन पर लगभग 12% ब्याज लगता है। इसलिए, होम लोन टॉप-अप की बहुत मांग है क्योंकि इसमें ब्याज दरें कम हैं जो कि मांग किए गए टॉप-अप की राशि और मौजूदा होम लोन की स्थिति से तय होती है।

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख