टर्म इंश्‍योरेंस प्‍लान- आपके परिवार के सदस्यों के लिए समस्‍या मुक्त क्‍लेम सेटलमेंट प्रक्रिया

जीवन में मृत्यु जैसी घटनाएं अनिश्चित होती हैं और टर्म लाइफ इंश्योरेंस होना उस स्थिति में आपके परिवार का वित्तीय समर्थक बन सकता है। इस ब्लॉग के माध्यम से, आप इंश्‍योरेंस क्‍लेम को सेटल किये जाने के लिए किए जाने वाले विचारों के बारे में जानेंगे ताकि आपके परिवार को आर्थिक रूप से सुरक्षित किया जा सके।

4 Steps to make term insurance claim smooth for your nominee

आज के समय में सबसे अच्छे निवेशों में से एक इंश्‍योरेंस है, चाहे वह लाइफ इंश्‍योरेंस, हेल्‍थ इंश्‍योरेंस या मोटर इंश्‍योरेंस हो। मृत्यु जैसी घटनाएं अनिश्चित होती हैं, और एक टर्म लाइफ इंश्योरेंस होने से उस स्थिति में आपके परिवार की वित्तीय सहायता बन सकता है। टर्म लाइफ इंश्योरेंस एक तरह का लाइफ इंश्योरेंस है जो परिवार के सदस्यों या निर्दिष्ट नॉमिनी को गारंटीकृत मौद्रिक लाभों का दावा करने की अनुमति देता है यदि पॉलिसीधारक की मृत्यु निर्दिष्ट अवधि में होती है। लाइफ इंश्योरेंस का टर्म समाप्त होने पर, पॉलिसीधारक को तीन विकल्प मिलते हैं - इंश्‍योरेंस को रिन्‍यू करना, इसे स्थायी कवरेज में बदलना या इसे समाप्त करना।
यह भी पढें: टर्म लाइफ इंश्‍योरेंस पॉलिसी खरीदने के आसान तरीके

अपने नॉमिनी के लिए टर्म इंश्योरेंस क्लेम को परेशानी मुक्त बनाएं

जब लोग टर्म इंश्योरेंस लेते हैं, तो उन्हें दो उम्मीदें होती हैं। पहली, इंश्‍योरर को पैसे का भुगतान करना होगा। दूसरी, उन्हें बिना देर किए इसका भुगतान करना होगा। इंश्‍योरेंस क्‍लेम को सेटल करने के लिए, प्रकटीकरण सटीक होना चाहिए, और पॉलिसीधारक को समय पर प्रीमियम का भुगतान करना चाहिए। इन निर्देशों का पालन करने के बाद भी, आगे की बाधाएं क्‍लेम फाइल करने की जटिलताएं हो सकती हैं। आपके परिवार के अनुभव को यथासंभव सुखद बनाने के लिए यहां कुछ विचार दिए गए हैं।

पहला कदम: इंश्‍योरेंस पॉलिसी के संबंध में सभी दस्‍तावेजों को व्‍यवस्थित करना

आपको अपनी पॉलिसी और अन्य सभी महत्वपूर्ण पेपरवर्क को सेफ, सुरक्षित स्थान पर रखना चाहिए और अपने नॉमिनी को इसके बारे में बताना चाहिए।

टर्म इंश्योरेंस क्लेम प्रस्‍तुत करने के लिए आवश्यक दस्तावेज
1.    नॉमिनी द्वारा भरा जाने वाला क्‍लेम फॉर्म।
2.    व्यक्ति के मृत्यु प्रमाण पत्र की सरकार द्वारा जारी मूल और सत्यापित प्रति।
3.    पॉलिसीधारक द्वारा प्रस्तुत असली लाइफ इंश्‍योरेंस पॉलिसी के दस्तावेजों का पूरा सेट।
4.    पासपोर्ट साइज़ फोटो के साथ सरकार द्वारा मान्‍यता प्राप्‍त पहचान प्रमाण के दस्तावेजों जैसे पैन, आधार कार्ड आदि।
5.    मेडिकल रिपोर्ट (यदि कोई हो) जिसमें हेल्‍थ टेस्‍ट की रिपोर्ट, चिकित्सा उपचार, अस्पताल में भर्ती होने और छुट्टी का सारांश, डॉक्टर का प्रमाण पत्र आदि शामिल हैं।
6.    FIR, ऑटोप्सी रिपोर्ट, आदि यदि पॉलिसीधारक की मृत्यु का कारण दुर्घटना या हत्या है।
आप सभी उपयुक्‍त दस्तावेजों को डिजिटल रूप से स्‍टोर करने के लिए एक ई-इंश्‍योरेंस अकाउंट भी बना सकते हैं। अपने नॉमिनी के साथ अकाउंट की जानकारी साझा करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि क्‍लेम फाइल करते समय उनके पास दस्तावेजीकरण तक पहुंच है।

कदम 2: अपने नॉमिनी को इंश्‍योरेंस को क्‍लेम करने की प्रक्रिया के बारे मे बताना

सबसे महत्वपूर्ण कदम है कि अपने नॉमिनी के साथ बैठें, उन्हें क्‍लेम सेटलमेंट की प्रक्रिया बताएं, उन्हें उन दस्तावेजों की एक सूची दें, जिन्हें उन्हें प्रस्‍तुत करने की आवश्यकता होगी, आदि। यदि आपने फाइनेंशियल एडवाइज़र के माध्यम से इंश्‍योरेंस खरीदा है, तो उन्हें अपने नॉमिनी से कनेक्‍ट करें।

कदम 3: टर्म लाइफ इंश्‍योरेंस को विवाहित महिला संपत्ति अधिनियम के तहत खरीदें

कई कानूनों में कहा गया है कि क्‍लेम की राशि पर आपके लेनदारों का अधिकार होता है, और उनके द्वारा ऋणों को सेटल करने के बाद ही आपके नॉमिनी को शेष राशि को क्‍लेम करने का अधिकार मिलेगा। अन्य परिस्थितियों में, टर्म इंश्योरेंस क्लेम सेटलमेंट के दौरान, रिश्तेदार आपके नॉमिनी द्वारा प्राप्त भुगतान पर अधिकार पाने का प्रयास करते हैं। यदि आप विवाहित हैं और यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि क्‍लेम के समय भुगतान के सभी अधिकार आपकी पत्नी और बच्चों के हो, तो विवाहित महिला संपत्ति अधिनियम के तहत पॉलिसी खरीदें।

कदम 4: क्‍लेम पेआउट विकल्‍प को चुनते समय सावधान रहें

आपकी मृत्‍यु के बाद, आपके नॉमिनी को आपका टर्म इंश्योरेंस क्लेम प्राप्त होगा और अचानक उनके अकाउंट में एक बड़ी राशि जमा हो जाएगी। इतने पैसे का प्रबंधन एक बोझिल काम है। एक ऐसा क्‍लेम सेटलमेंट विकल्प चुनें जो आपकी आवश्यकताओं के लिए सबसे उपयुक्त हो ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि पैसे का सही उपयोग किया जाता है और सहायक हो गया है।

आप एक NRI भारत में टर्म इंश्योरेंस प्लान कैसे खरीद सकता है के बारे में भी जानना पसंद कर सकते हैं
टर्म लाइफ इंश्‍योरेंस क्‍लेम सेटलमेंट  

प्रक्रिया को परेशानी मुक्त बनाने के लिए, नीचे टर्म इंश्योरेंस क्लेम सेटलमेंट पेआउट विकल्प दिये गए हैं जिनसे आप चुन सकते हैं:

1) लम-सम पेआउट

लम-सम पेआउट का मतलब है कि इंश्‍योरर कुल राशि का भुगतान करेगा। यह विकल्प उन मामलों में सबसे उपयुक्त है जहां आपके पास सेटल करने के लिए ऋण और लोन है। एक बार आपके नॉमिनी को भुगतान मिल जाने के बाद, वे इसका उपयोग सब कुछ चुकाने और कर्ज मुक्त जीवन जीने के लिए कर सकते हैं। यह उन मामलों में भी काम करता है जब आपके नॉमिनी को पता होता है कि इस बड़ी रकम का इस्तेमाल कहां और कैसे करना है।

2) मासिक आय भुगतान

मासिक आय भुगतान विकल्प में, इंश्‍योरर नॉमिनी को एक विशेष अवधि के लिए मासिक किश्तों में राशि का भुगतान करेगा। यह विकल्प तब सबसे उपयुक्त होता है जब आपके ऊपर सेटल करने के लिए कोई लोन नहीं है और आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि आपके परिवार के सदस्यों को दैनिक जीवन के खर्चों के लिए हर महीने नियमित और स्थायी आय प्राप्त हो।

3) लम-सम और मासिक आय का भुगतान

एक अन्य विकल्प ऊपर बताए गए विकल्पों का संयोजन है। इस प्रकार के संयोजन में, इंश्‍योरर आपके नॉमिनी को एक बार में एक निश्चित राशि का भुगतान करेगा, जबकि शेष राशि का भुगतान मासिक किश्तों के रूप में किया जाएगा। यह विकल्‍प तब सबसे अच्छा विकल्‍प होता है जब आप पर सेटल करने के लिए कोई लोन या ऋण नहीं होता है। इसके अलावा, आपके परिवार को भविष्य की जरूरतों के लिए मासिक खर्च मिलेगा।

टर्म इंश्‍योरेंस क्‍लेम के अस्‍वीकार होने से बचने के लिए ध्यान रखने योग्य बातें

1.    सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा प्रदान की जाने वाली जानकारी सटीक और अपडेटेड है। यदि आप जानबूझकर अपने स्वास्थ्य संबंधी समस्‍याओं या अपने चिकित्सा इतिहास, एलर्जी आदि जैसे किसी भी भौतिक तथ्यों को छिपा रहे हैं तो बीमा कंपनी को आपके क्‍लेम को अस्वीकार करने का अधिकार है। कभी-कभी यह धोखाधड़ी के बराबर हो सकता है।
2.    बीमा के एक टर्म की समाप्ति पर ग्रेस पीरियड 30 दिन होता है। एक बार ग्रेस पीरियड समाप्त हो गया है और आपने अपने प्रीमियम का भुगतान नहीं किया, तो बीमाकर्ता कोई क्‍लेम जारी नहीं करेगा।
3.    नॉमिनी की जानकारी को नियमित रूप से अपडेट रखें; परिवर्तन के मामले में इंश्‍योरेंस कंपनी को सूचित करें। यदि पॉलिसीधारक के पहले नॉमिनी की मृत्यु हो जाती है, तो नॉमिनी शून्य हो जाता है। ऐसे में आपको नए नॉमिनी का विवरण जल्द से जल्द अपडेट करना चाहिए।
 

संवादपत्र

संबंधित लेख