माता-पिता बनने वाले और नए माता-पिता के लिए वित्तीय चरण

क्या आप बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं या पहले से ही एक बच्चा है? यहां कुछ वित्तीय चरण दिए गए हैं जो आपको तनाव मुक्त जीवन जीने के लिए लेना चाहिए।

पांच वित्तीय चरण जो माता-पिता बनने वाले और प्रत्येक नए माता-पिता को लेना चाहिए

बच्चे खुशी लाते हैं, और उस आनंद का पूरी तरह से अनुभव करना माता-पिता की जिम्मेदारी है। ऐसा करने के लिए, प्रत्येक नए और अपेक्षित माता-पिता के पास क्रम में अपना फाइनेंस होना चाहिए। फाइनेंस की खराब स्थिति उदासी को जन्‍म दे सकती है और आपके हाथों से कीमती क्षणों को छीन सकती है।

यदि आप बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं या पहले से ही एक बच्चा है, तो  शिशु और पूरे परिवार के उज्ज्वल भविष्य को सुनिश्चित करने के लिए आपको कुछ वित्तीय सावधानियां बरतनी चाहिए।

रिकरिंग डिपॉज़िट शुरू करें

रिकरिंग डिपॉज़िट एक प्रकार का खाता जमा है जिसमें आप हर महीने एक निश्चित राशि जमा करते रहते हैं। रिकरिंग डिपॉज़िट आपको बहुत सारा पैसा बचाने और आपके बच्चे के भविष्य की महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए इसे बढ़ाने में मदद कर सकता है। 

रिकरिंग डिपॉज़िट को 500 रुपये जितना कम से शुरू किया जा सकता है, और आप उसका तब तक भुगतान करना जारी रख सकते हैं जब तक आपको यह ठीक लगे। जैसे-जैसे आपकी आय बढ़ती है, आपको रिकरिंग डिपॉज़िट में योगदान भी बढ़ाना चाहिए ताकि आपके बच्चे को अधिक धन विरासत में मिले और वह उस पैसे से पढ़ाई कर सके और अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा कर सके जो आपने उसके लिए विकसित किया है। 

यह भी पढ़ें रिकरिंग डिपॉज़िट के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: आपके लिए सब कुछ जानना ज़रूरी है

इमरजेंसी फंड में पैसे बचाएं

एक सुगम वित्तीय यात्रा के लिए इमरजेंसी फंड का होना बहुत आवश्‍यक है। इमरजेंसी फंड के बिना, कोई भी आपात स्थिति आपको दयनीय अवस्‍था में ला सकती है, और जैसे-जैसे आपके बच्चे बड़े होते हैं, प्रभाव विनाशकारी हो सकते हैं।
यदि आपके पास इमरजेंसी फंड है, तो उसमें योगदान बढ़ाने का समय आ गया है, क्योंकि फंड को एक और व्यक्ति के लिए इमरजेंसी खर्चों को कवर करना होता है। एक साधारण नियम के रूप में, आपकी आय का 10--20% एक इमरजेंसी फंड में जाना चाहिए जो किसी भी परिस्थिति में आपके परिवार का समर्थन कर सके। 

यदि आपके पास इमरजेंसी फंड नहीं है तो अभी भी देर नहीं हुई है। आज ही इमरजेंसी फंड शुरू करने का यह सही समय है। हर महीने अपनी आय से थोड़ी बचत करें, और इसे सुरक्षित एसेट्स में निवेश करें जिनमें नकारात्‍मक पहलू शून्य हों और जिसे लिक्विडेट किया जा सके। इमरजेंसी फंड की उपलब्धता महत्वपूर्ण है, इसलिए यदि आप इसे निवेश करना चाहते हैं, तो केवल उन जगहों पर ही निवेश करें जहां आप फंड जल्दी प्राप्त कर सकें। 
हेल्‍थ इंश्‍योरेंस में एंरोल करना

आपके परिवार के हेल्‍थ इंश्‍योरेंस में बच्चे के इस दुनिया में कदम रखने के दिन से उसे एंरोल होना चाहिए। जब बच्चे अपने जीवन की शुरुआत में बहुत अधिक स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव करते हैं, तो यह उनके माता-पिता को वित्तीय बंधन में डाल सकता है। इसलिए यदि आप एक अपेक्षित माता-पिता हैं या पहले से ही नन्ही परी के माता-पिता हैं, तो उन्हें हेल्‍थ इंश्‍योरेंस में एंरोल करें।
हेल्‍थ इंश्‍योरेंस आवश्यक है, और आपको इसे पहले खरीदना चाहिए, ताकि भले ही आपका बच्चा समस्‍याओं के साथ पैदा हुआ हो, हेल्‍थ इंश्‍योरेंस कंपनी सब कुछ संभाल लेगी और आपको फाइनेंस के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। यह न भूलें कि यह छोटा सा कदम आपके बच्चे के लिए बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है। 

यह भी पढ़ें: ग्रुप हेल्‍थ इंश्‍योरेंस बनाम इंडिविजुअल हेल्‍थ इंश्‍योरेंस

कर्ज घटाएं

अपने नवजात शिशु के साथ जीवन का आनंद लेने का सबसे अच्छा तरीका कर्ज मुक्त रहना है। जैसे ही आप माता-पिता बनते हैं, आपको एक ऐसे बच्चे की देखभाल करनी होती है जो हर चीज के लिए आप पर निर्भर होता है। ऐसे समय में, यदि आपकी आय नहीं बढ़ती है और आप पहले से ही कर्ज में हैं, तो आप अपने बच्चे को एक अच्छा जीवन नहीं दे सकते हैं। 

जब आपका बच्चा पैदा होता है, तो आपको जितना हो सके कर्ज को कम करने की कोशिश करनी चाहिए ताकि आप अपनी आय और बच्चे को एक बेहतर जीवन प्रदान करने के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित कर सकें। इसके अलावा, कम कर्ज आपको तनाव मुक्त रहने और अपने बच्चे के बचपन के अनमोल पलों का बेहतर आनंद लेने में मदद करेगा। 
बजट को रीस्‍ट्रक्‍चर करें

एक और महत्वपूर्ण कदम जो हर माता-पिता बनने वाले और नए माता-पिता को उठाना चाहिए, वह है बजट को रीस्‍ट्रक्‍चर करना। जब आपके बच्‍चे होते हैं, तो आप अपने परिवार में नए सदस्य को जोड़ रहे होते हैं, जो स्वचालित रूप से आपके घर की फंडिंग को बढ़ा देगा।

इसके अलावा, शिशु के उत्पाद अधिक महंगे और ढूंढने में मुश्किल होते हैं, जो कठिनाइयों को और बढ़ा देता है। यदि आप पहले की तरह उसी बजट में रहना चाहते हैं, तो आपको आपके बच्चे के जन्म के बाद उसके खर्चों को समायोजित करने के लिए बजट को रीस्‍ट्रक्‍चर करना होगा। आपको अपनी कुछ महंगी लागतों का त्याग करना होगा और उसी बजट में रहने के लिए फंड्स को बच्चे के हिस्से में निर्देशित करना होगा। यह प्रबंध करने योग्‍य होगा, और बजट में रहने से आपके बच्चे में भी बेहतर आदतें पैदा होंगी। 

यदि आप माता-पिता बनने वाले हैं या एक नए माता-पिता हैं, तो आप ऊपर चर्चा किए गए किसी भी वित्तीय कदम से नहीं चूक सकते हैं। सुरक्षित और सुदृढ़ भविष्य की योजना बनाने के लिए इन चरणों का उपयोग करें।
 

संवादपत्र

संबंधित लेख