Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Yojana: किसान सम्मान निधि योजना के पात्रता की शर्तों को जानें!

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ पाने की आवश्यक शर्तें!

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

Eligibility criteria for Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Yojana: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना छोटे और सीमांत किसानों की सहायता के लिए केंर सरकार द्वारा आरंभ की गई एक योजना है। इस योजना में सरकार किसानों को हर साल 3 किस्तों में 6000 रुपए का अनुदान देती है। इस योजना के अंतर्गत हाल ही में, 12वीं किस्त में 16 हजार करोड़ रुपए की राशि किसानों के खातों में भेजी गई थी। अब किसान 13वीं किस्त की राह देख रहे हैं। योजना छोटे और सीमांत किसानों के लिए होने के बावजूद बहुत से किसानों को खेती करने पर भी इस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। इनमें बहुत से किसान पात्रता की शर्तों को पूरा नहीं करते। कुछ किसानों को आवेदन करने पर भी किस्त नहीं मिल रही है। किस्त नहीं मिलने के कई कारण हो सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की किस्त न मिलने के हो सकते हैं ये संभावित कारण:

• अगर आवेदन भरते समय आपने कुछ भी झूठी या गलत जानकारी दी है तो आपको किश्त नहीं मिलेगी।

• अगर इस योजना के लिए जरूरी दस्तावेजों में से कोई दस्तावेज जमा नहीं किया है तो किस्त रोक दी जाएगी।

• सरकार ने ई-केवाईसी जमा करना अनिवार्य कर या है। अगर पिछली किस्त आने के पहले आपने ई-केवाईसी जमा नहीं किया है तो किस्त नहीं आएगी।

• आप जिस खेत में खेती करते हैं, अगर वह आपके पिता या दादा के नाम पर है तो किस्त नहीं मिलेगी। आपके पास खेत का मालिकाना होना जरूरी है।

• अगर आप किसी दूसरे किसान से किराए पर खेत लेकर उसमें खेती करते हैं तब भी आपको इस योजना का फायदा नहीं मिलेगा।

• अगर कोई किसान या उसके परिवार को कोई सदस्य किसी संवैधानिक पद पर है तो उसे योजना का फायदा नहीं मिलेगा।

• राज्य या केंद्र सरकार, सार्वजनिक और सरकारी स्वायत्त निकायों में काम कर रहे या अवकाश ले चुके अधिकारियों और कर्मचारियों को भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर आप डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, आर्किटेक्ट्स और वकील हैं तो खेती करने पर भी आपको इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर खेत संस्था के नाम पर हो तो वह इस योजना के दायरे में नहीं आएगा।

• अगर आप अवकाश प्राप्त कर चुके हैं और महीने में 10,000 रुपए से अधिक पेंशन पाते हैं तो आपको इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर आप आयकर भरते हैं तो खेती करने पर भी आपको इस योजना का कोई फायदा नहीं मिलेगा।

• अगर किसान या उसके परिवार का कोई सदस्य म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन या जिला पंचायत में हो तो उसे भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

अगर आपने भूल से या अनजाने में कोई गलत जानकारी दे दी गई है तो उसे सुधारने के बाद आपको किस्त मिलेगी। लेकिन अगर गलत जानकारी जानबूझकर दी है ते इसका पता चलने पर भी किस्तों में मिली सारी रकम वापस करनी होगी और ऐसा करनेवाले कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। इसलिए आवेदन में केवल सही जानकारी भरना और सभी आवश्यक दस्तावेज तथा ई-केवाईसी जमा करना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है और कैसे मिलता है?

Eligibility criteria for Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Yojana: प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना छोटे और सीमांत किसानों की सहायता के लिए केंर सरकार द्वारा आरंभ की गई एक योजना है। इस योजना में सरकार किसानों को हर साल 3 किस्तों में 6000 रुपए का अनुदान देती है। इस योजना के अंतर्गत हाल ही में, 12वीं किस्त में 16 हजार करोड़ रुपए की राशि किसानों के खातों में भेजी गई थी। अब किसान 13वीं किस्त की राह देख रहे हैं। योजना छोटे और सीमांत किसानों के लिए होने के बावजूद बहुत से किसानों को खेती करने पर भी इस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। इनमें बहुत से किसान पात्रता की शर्तों को पूरा नहीं करते। कुछ किसानों को आवेदन करने पर भी किस्त नहीं मिल रही है। किस्त नहीं मिलने के कई कारण हो सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की किस्त न मिलने के हो सकते हैं ये संभावित कारण:

• अगर आवेदन भरते समय आपने कुछ भी झूठी या गलत जानकारी दी है तो आपको किश्त नहीं मिलेगी।

• अगर इस योजना के लिए जरूरी दस्तावेजों में से कोई दस्तावेज जमा नहीं किया है तो किस्त रोक दी जाएगी।

• सरकार ने ई-केवाईसी जमा करना अनिवार्य कर या है। अगर पिछली किस्त आने के पहले आपने ई-केवाईसी जमा नहीं किया है तो किस्त नहीं आएगी।

• आप जिस खेत में खेती करते हैं, अगर वह आपके पिता या दादा के नाम पर है तो किस्त नहीं मिलेगी। आपके पास खेत का मालिकाना होना जरूरी है।

• अगर आप किसी दूसरे किसान से किराए पर खेत लेकर उसमें खेती करते हैं तब भी आपको इस योजना का फायदा नहीं मिलेगा।

• अगर कोई किसान या उसके परिवार को कोई सदस्य किसी संवैधानिक पद पर है तो उसे योजना का फायदा नहीं मिलेगा।

• राज्य या केंद्र सरकार, सार्वजनिक और सरकारी स्वायत्त निकायों में काम कर रहे या अवकाश ले चुके अधिकारियों और कर्मचारियों को भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर आप डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, आर्किटेक्ट्स और वकील हैं तो खेती करने पर भी आपको इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर खेत संस्था के नाम पर हो तो वह इस योजना के दायरे में नहीं आएगा।

• अगर आप अवकाश प्राप्त कर चुके हैं और महीने में 10,000 रुपए से अधिक पेंशन पाते हैं तो आपको इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

• अगर आप आयकर भरते हैं तो खेती करने पर भी आपको इस योजना का कोई फायदा नहीं मिलेगा।

• अगर किसान या उसके परिवार का कोई सदस्य म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन या जिला पंचायत में हो तो उसे भी इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

अगर आपने भूल से या अनजाने में कोई गलत जानकारी दे दी गई है तो उसे सुधारने के बाद आपको किस्त मिलेगी। लेकिन अगर गलत जानकारी जानबूझकर दी है ते इसका पता चलने पर भी किस्तों में मिली सारी रकम वापस करनी होगी और ऐसा करनेवाले कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। इसलिए आवेदन में केवल सही जानकारी भरना और सभी आवश्यक दस्तावेज तथा ई-केवाईसी जमा करना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है और कैसे मिलता है?

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget