कर प्रबंधन क्या है और कर नियोजन से यह कैसे अलग है?

लोग अक्सर कर नियोजन और कर प्रबंधन को एक मान लेते हैं। लेकिन, ऐसा नहीं है। दोनों में फर्क होता है।

 कर नियोजन और कर प्रबंधन के बीच क्या अंतर है

आयकर अधिनियम, 1961 में आयकर, आयकर नियोजन, आयकर चोरी, आय कर से बचाव और आयकर प्रबंधन के बारे में आसानी से विस्तार से जानकारी दी गई है। 

>कर: 

कर यानि टैक्स, देश के राजस्व के लिए किसी व्यक्ति के अनिवार्य योगदान के बारे में बताता है। यह सरकार द्वारा व्यक्तियों की आय या धन पर लगाया जाता है। सरकार इसे आय या धन के तय प्रतिशत के तौर पर वसूलती है। 

>कर नियोजन:

कर नियोजन यानी टैक्स प्लानिंग को निर्धारिती यानी करदाता की समग्र आय और/या पूंजीगत लाभ को कम करने के लिए, कानून के ढांचे के भीतर सभी लागू भत्तों, कटौती, छूट, रियायतों और छूट का प्रभावी उपयोग करके, कर देयता को कम करने की व्यवस्था के रूप में समझा जा सकता है। इस उद्देश्य के लिए व्यक्ति या संस्था की वित्तीय गतिविधियों का पूरी तरह से विश्लेषण किया जाता है, ताकि कानून के दायरे में रहकर अधिकतम संभव कर लाभ प्राप्त किया जा सके। 

आसान शब्दों में कहें तो कर नियोजन कर के बोझ को कम करने का एक कानूनी तरीका है, जो करों को बचाने के लिए निर्धारिती द्वारा किए गए सभी प्रकार के प्रयासों को कवर करता है। इसमें कानून को धोखा देने का इरादा नहीं होता है। कर नियोजन का प्राथमिक उद्देश्य कर देयता को कम करना, उत्पादक निवेश को अधिकतम करना, मुकदमेबाजी को कम करना आदि शामिल है। उदाहरण के लिए, 

1. धारा 80सी के तहत निवेश यानी भुगतान संबंधी कटौती, 

2. धारा 80सीसीडी यानी एलआईसी या दूसरी बीमा कंपनी के पेंशन फंड में योगदान,

3. धारा 54, 54ईसी आदि के तहत पुनर्निवेश, एवं अन्य निवेश।  

इसलिए, कर नियोजन व्यवस्था इस तरह से की जाती है कि आयकर अधिनियम के सभी अनुकूल प्रावधानों का इस्तेमाल करके अधिक से अधिक संभव कर लाभ लिया जा सके। कर नियोजन एक तरह से निर्धारिती को कानून का उल्लंघन किए बिना छूट और लाभ प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करता है।

प्रत्येक निर्धारिती चाहता है कि कर देयता कम से कम हो और इसके लिए वह कर नियोजन का सहारा ले सकता है। इसके माध्यम से वैध तरीकों और साधनों का उपयोग करके कर के बोझ को कम से कम किया जा सकता है।

>कर प्रबंधन:

कर नियोजन को अक्सर कर प्रबंधन समझ लिया जाता है, जो कि सही नहीं है। कर प्रबंधन का सीधा सा अर्थ है करों से व्यवस्थित रूप से निपटने की प्रक्रिया। कर प्रबंधन किसी व्यक्ति या संस्था के पैसों के प्रभावी प्रबंधन, रिटर्न दाखिल करने, और प्रासंगिक आयकर कानून एवं संबद्ध नियमों के प्रावधानों का नियमित व समय पर अनुपालन करते हुए समय पर करों का भुगतान करने के लिए कहता है, ताकि ब्याज और दंड भरने से बचा जा सके। कर प्रबंधन उन सभी कर-संबंधित गतिविधियों का पूर्ण प्रबंधन है, जो किसी भी समय हुआ है। उदाहरण के लिए, 

1. समय पर रिटर्न दाखिल करना। 

2. खातों का ऑडिट कराना। 

3. स्रोत पर कर कटौती आदि।

4. मूल्यांकन कार्यवाही, आयुक्त को अपील, विवरणी के संशोधन आदि।

5. खातों की पुस्तकों का उचित रखरखाव, समय-समय पर खातों का लेखा-जोखा प्राप्त करना, लेनदेन का समर्थन करने वाले डेटा और वाउचर को संरक्षित करना, स्रोत पर कर काटना, स्रोत पर कर एकत्र करना, स्व-मूल्यांकन कर, अग्रिम भुगतान करना, प्रक्रियात्मक आवश्यकताओं का पालन करना, प्राप्त नोटिसों का जवाब देना (यदि कोई हो), आदि।

6. करों को बचाने के लिए सुधारात्मक कार्रवाई करना और निवेश की योजना बनाना।

सार सन्देश

कर नियोजन कराधान कानूनों का पूरा लाभ उठाने का एक ईमानदार और कानूनी तरीका है। यह आय और करों को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने का एक तरीका है ताकि निर्धारिती पर उत्पन्न होने वाली कर देयता कम से कम हो। इसके विपरीत, कर प्रबंधन कर प्रावधानों का अनुपालन करते हुए वित्तीय मामलों को संभालने की एक कला है, ताकि ब्याज और दंड के भुगतान से बचा जा सके।  हालांकि कर नियोजन एक अनिवार्य गतिविधि नहीं है, लेकिन कर प्रबंधन सभी निर्धारिती के लिए अनिवार्य है।

संवादपत्र

संबंधित लेख