एचयूएफ खाते से कर बचाना। एचयूएफ बनाने के फायदे और नुकसान

आप एसेट्स को एचयूएफ के रूप में जमा कर सकते हैं और कर बचाने के लिए एचयूएफ के कर लाभों का फायदा उठा सकते हैं।

Eight Ways of Saving Taxes with a HUF Account

एचयूएफ खाते के साथ कर बचाने के आठ तरीके

हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) कर बचाने के प्रभावी और कानूनी तरीकों में से एक है। कई परिवार व्यक्तिगत आय के कॉमन वेल्‍थ पूलिंग के लिए एचयूएफ के कॉन्‍सेप्‍ट का उपयोग करते हैं। यह अनिवार्य रूप से एक न्यायिक व्यक्ति है जिसके साथ आप अपनी आय को विभाजित कर सकते हैं, और अपनी कर देयता को कम कर सकते हैं। इस लेख में, मैं आपको यह समझने में मदद करने के लिए विवरण दिखाउंगा कि वास्तव में एचयूएफ क्या है, यह कर को बचाने में आपकी मदद कैसे कर सकता है, और इसके फायदे और नुकसान क्या हैं।   

एचयूएफ क्‍या है?

एचयूएफ का कॉन्‍सेप्‍ट आपके परिवार को एक अलग यूनिट की तरह मानना और एसेट्स को एक सामान्य यूनिट में पूल करना है। हिंदू के अलावा बौद्ध, जैन और सिख भी एचयूएफ बना सकते हैं।

एचयूएफ को विस्‍तार से समझने के लिए, सीए सुमित मारू की इस वीडियो को देखें।

एचयूएफ को कैसे बनाया और संचालित किया जाता है?

जैसा कि नाम से पता चलता है, केवल एक परिवार ही एचयूएफ बना सकता है, एक व्यक्ति नहीं। जब एक पुरुष और एक महिला शादी करते हैं, तो एक एचयूएफ अपने आप अस्तित्व में आ जाता है, और एचयूएफ के सदस्यों में उनकी पत्नियों और अविवाहित बेटियों सहित एक सामान्य पूर्वज के वंशज होते हैं। आपको इसे कानूनी रूप से पंजीकृत करने की भी आवश्यकता होगी, और इसके गठन का समर्थन करने के लिए एक कानूनी प्रमाण भी होना चाहिए। इसे कर्ता के नाम से लेबल किया जाता है, जो परिवार के मामलों का प्रभारी होता है। उसके पास एक बैंक में एक अलग पैन कार्ड और एचयूएफ खाता होना चाहिए।  

टैक्‍सेशन का उदाहरण

जैसा कि ऊपर दिखाया गया है, एक एचयूएफ के गठन के कारण, श्री कपूर 93,600 रुपये बचाने में सफल रहे हैं। एचयूएफ और श्री कपूर धारा 80C के तहत अलग-अलग लाभों का दावा कर सकते हैं। इसके अलावा, टैक्‍सेशन संस्थाएं, यानी श्री कपूर और एचयूएफ अलग-अलग हैं। इसका मतलब है कि कर देनदारी कम हो गई है।

याद रखने के लिए महत्‍वपूर्ण बातें

  • एचयूएफ प्रमुख, या कर्ता, के पास अपने सदस्यों की ओर से संबंधित दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करने के सभी अधिकार होते हैं।
  • एचयूएफ के प्रमुख की पत्नी सह-भागीदार हो सकती है, लेकिन उसकी आय को इसमें नहीं जोड़ा जा सकता है।
  • प्रमुख की मृत्यु होने पर भी एचयूएफ का आधिकारिक कद अपरिवर्तित रहता है।
  • गोद लिया हुआ बच्चा एचयूएफ का सदस्य बन सकता है लेकिन सहभागी नहीं बन सकता है। यानी गोद लिया हुआ बच्चा बंटवारे की मांग नहीं कर सकता है।
  • केरल को छोड़कर, पूरे भारत में एचयूएफ स्वीकार किया जाता है।

एचयूएफ के फायदे और नुकसान

आयकर के मामले में, एचयूएफ के कई फायदे हैं। व्यक्तिगत आय से तुलना करने पर, आप एचयूएफ खाते के बहुत सारे लाभ पा सकते हैं।

एचयूएफ के कर लाभ

यहां एचयूएफ के कुछ कर लाभ दिए गए हैं, जिनका आप लाभ उठा सकते हैं:

  • एचयूएफ, एचयूएफ सदस्यों के नाम पर लाइफ इंश्‍योरेंस ले सकता है, और आयकर पर एचयूएफ का कर लाभ प्राप्त करने के लिए इसके प्रीमियम पर आयकर स्लैब की धारा 80C के तहत कटौती का दावा कर सकता है।
  • यह अपने सदस्यों को एचयूएफ खाते से वेतन का भुगतान भी कर सकता है और कटौती के तहत भुगतान का दावा कर सकता है।
  • वर्तमान आयकर कानूनों के अनुसार, आप केवल एक स्वयं के कब्जे वाली संपत्ति का दावा कर सकते हैं और शेष संपत्तियों को 'किराए पर दिया जाना माना जाता है'। आपको उन पर राष्ट्रीय किराए पर कर देना होगा। हालांकि, एचयूएफ बिना कर चुकाए अपना घर ले सकता है। यह होम लोन भी ले सकता है और आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक के ऋण के पुनर्भुगतान और ब्याज के लिए 2 लाख रुपये तक लाभ ले सकता है। 
  • एचयूएफ टैक्‍सेशन के लिए इसे एक अलग पैन कार्ड मिलता है।
  • यह 2.5 लाख रुपये की मूल कर छूट से लाभान्वित हो सकता है, निवेश कर सकता है और व्यवसाय चला सकता है।
  • एचयूएफ 1.5 लाख रुपये तक कर बचाने के लिए इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम और फिक्स्ड डिपॉज़िट में निवेश कर सकता है।
  • यह अपने सदस्यों के पीपीएफ खाते में पैसा जमा करने के लिए कर लाभ का दावा कर सकता है।
  • एचयूएफ खाते के किसी व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को दिये जाने वाले 50,000 रुपये तक के उपहार कर मुक्त होंगे।

एचयूएफ की कमियां

जबकि एचयूएफ परिवार के सदस्यों को कर कटौती और बचत जैसे कई लाभ प्रदान करता है, वहीं इसमें कुछ कमियां भी हैं।

  • आयकर अधिकारियों द्वारा दस्तावेजीकृत किए जाने के लिए, एक एचयूएफ को प्रत्येक सदस्य के लिए करीबी रिश्तेदारों से उपहार के रूप में या वसीयत के माध्यम से कुछ कमाई वाली संपत्ति को प्रदर्शित करना चाहिए।
  • महिला सदस्यों के कुछ उपहारों को छोड़कर, एचयूएफ का प्रमुख एचयूएफ संपत्ति को उपहार में या अन्यत्र नहीं दे सकता है। वह उचित सीमा के तहत अपनी पत्नी, बेटी, बेटे और बहू को अचल संपत्ति उपहार में दे सकता है।
  • एचयूएफ संपत्ति हस्तांतरणीय नहीं होती है क्योंकि सभी सहभागियों के पास समान रूप से स्वामित्व होता है, और इसे केवल तभी बेचा जा सकता है जब परिवार के सभी एचयूएफ सदस्य इससे सहमत हों। परिणामस्‍वरूप, एचयूएफ विभाजन के फलस्‍वरूप अक्सर संघर्ष और कोर्ट केस होते हैं।
  • एचयूएफ किसी भी कंपनी में बराबर का भागीदार नहीं बन सकता। हालांकि, प्रमुख या परिवार के सदस्य किसी कंपनी में एचयूएफ का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं, लेकिन उनकी आय पर एचयूएफ के आयकर स्लैब के तहत कर लगेगा।
  • एचयूएफ को केवल विरासत या उपहार के माध्यम से वित्‍तपोषित किया जा सकता है, और गैर-पारिवारिक सदस्यों से 50,000 रुपये से अधिक का कोई भी उपहार कर योग्य हैं।
  • इसे अन्य देशों में मान्यता प्राप्त नहीं होती है, इसलिए विदेश जाने वाले सदस्यों की आय का आकलन करना मुश्किल हो जाता है। 
  • एचयूएफ तभी टूट सकता है जब हर सदस्य सहमत हो, और महिलाएं एचयूएफ में अपनी व्यक्तिगत संपत्तियों को शामिल नहीं कर सकती हैं।
  • एचयूएफ के साथ शुरुआत में कर बचाना आसान हो सकता है, लेकिन समय बीतने के साथ यह काफी परेशानी भरा हो जाता है। साथ ही, यह तभी काम करता है जब आपके पास मुट्ठी भर स्रोतों से उच्च आय आती है।

निष्‍कर्ष

चूंकि एचयूएफ को एक अलग व्यक्ति माना जाता है और उसी के अनुसार कर लगाया जाता है, इसलिए यह आयकर अधिनियम के तहत कर कटौती और कर छूट का लाभ उठा सकता है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आप एक संतुलित एचयूएफ बनाते हैं और एचयूएफ बनाने से पहले इसके फायदे और नुकसान पर विचार करते हैं।

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख