एक बेहतर निवेशक बनने के लिए इन स्टॉक वैल्युएशन टेकनीक के बारे में जानें

यहां महत्वपूर्ण स्टॉक वैल्युएशन टेकनीक के बारे में जानने की विधि दी गई है।

एक बेहतर निवेशक बनने के लिए इन स्टॉक वैल्युएशन टेकनीक के बारे में जानें

वित्तीय वर्ष 2020 के दौरान लगभग 49 लाख डिमैट अकाउंट खुले। जनवरी 2020 और सितंबर 2020 के बीच, रिटेल निवेशकों ने सीधे लगभग $12 बिलियन निवेश करके स्टॉक्स खरीदे। इस अधिक निवेश के पीछे अनेक कारण थे:

  • बोर्ड में वेतन में कटौती और नौकरी में कमी होने के कारण, अनेक लोगों ने कमाई के एक अतिरिक्त स्रोत के रूप में स्टॉक को दुगुना करना शुरु कर दिया। 
  • चूंकि घर से काम करना नई सामान्य बात है, रिटेल निवेशकों के पास उनके अपने नियमित ऑफिस कार्य के अलावा निवेश शुरू करने के लिए समय था।
  • अधिक फीस और कम रिटर्न के कारण म्यूचुअल फंडों के प्रति झुकाव देखा गया। 

हालांकि, निफ्टी 50 इंडेक्स मार्च 2020 में 7511 पॉइंट्स से दुगुना होकर 2020 के अंत तक 14,000 पॉइंट्स हो गया, इसलिए इस बात का मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण हो गया है कि स्टॉक का मूल्यांकन अभी भी उचित तरीके से होता है या नहीं। 

स्टॉक वैल्युएशन क्या है?

स्टॉक वैल्युएशन का इस्तेमाल प्राथमिक रूप से स्टॉक के असली मूल्य की गणना करने के लिए किया जाता है। किसी भी स्टॉक का असली मूल्य इसका वास्तविक या यथार्थ मूल्य होता है। इसका मूलभूत महत्व यह है कि किसी भी विधि द्वारा स्टॉक वैल्युएशन के लिए इनपुट्स स्टॉक की मौजूदा मार्केट कीमत से स्वतंत्र होते हैं। इससे निवेशक इस विधि से प्राप्त असली मूल्य की तुलना स्टॉक की बाजार कीमत के साथ कर सकते हैं, जिससे इस बात का पता लगाया जा सकता है कि स्टॉक अधिमूल्यित (ओवर-वैल्यूड) है या अधोमूल्यित (अंडर-वैल्यूड) है। 

इससे जुड़ी बातें: लॉन्ग-टर्म स्टॉक प्राप्त करने के स्मार्ट आइडियाज 

अब, आइए हम स्टॉक वैल्युएशन के प्रकारों और विधियों विस्तार से नजर डालें।

एब्सॉल्युट/इंडिपेंडेंट

एब्सॉल्युट स्टॉक वैल्युएशन उद्योग, प्रतिस्पर्धियों इत्यादि जैसे बाहरी कारकों के स्वतंत्र बिजनेस का मूल्यांकन करना है। ऐसी विधि से प्राप्त असली मूल्य मुख्य रूप से कंपनी के अपने बुनियादी तथ्यों के इर्द-गिर्द घूमता है। एब्सॉल्युट स्टॉक वैल्युएशन की दो प्रसिद्ध विधियां हैं: डिविडेंट डिस्काउंट मॉडल और डिस्काउंटेड कैश फ्लो मॉडल।

इन दोनों विधियों के लिए इनपुट्स में शामिल है कंपनी के अपने नंबर्स जैसे डिविडेंड्स, कैश फ्लो, वृद्धि दर, फंड्स की लागत इत्यादि। कंपनी के फंडामेंटल्स का बड़ा विजन एक सिंगल नंबर - असली मूल्य में परिवर्तित होता है, इसके बाद जिसकी तुलना कंपनी की बाजार कीमत से की जाती है।

डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल 

किसी परिसंपत्ति का मूल्य भावी कैश फ्लो का मौजूदा मूल्य है। डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल उस सिद्धांत पर आधारित है जहां फ्यूचर डिविडेंड्स स्टेकहोल्डर के लिए उपलब्ध कैश फ्लो होते हैं। मॉडल उन कंपनियों के लिए लागू होता है जहां डिविडेंड पेआउट नियमित और स्थिर होता है। 

उदाहरण के लिए, यदि कोई कंपनी 2 रु. प्रति शेयर डिविडेंट का भुगतान करती है, तो लगातार 8 प्रतिशत की वृद्धि से बढ़ रहा है, तो इस कंपनी के शेयर का मूल्य 2.00/0.08 = रु. 25 प्रति शेयर होगा। इसलिए, हमारे उदाहरण में, रु. 25 स्टॉक का वास्तविक या असली मूल्य है जो डिविडेंड डिस्काउंट मॉडल पर आधारित है।

इसके बाद निवेशक स्टॉक के बाजार मूल्य की तुलना इस असली कीमत के साथ करता है और इस बात का निर्णय करता है कि स्टॉक अधिमूल्यित है या अधोमूल्यित है। 

इससे जुड़ी बातें: इंट्राडे ट्रेडिंग में सूचित निर्णयों के लिए कैंडलस्टिक चार्ट्स कैसे पढ़ें?

डिस्काउंटेड कैश फ्लो मॉडल 

डिस्काउंटेड कैश फ्लो मॉडल दूसरा मॉडल है जो फ्यूचर कैश फ्लो के मौजूदा मूल्य पर आधारित है। ऐसी कंपनियों की स्थिति में जहां डिविडेंड पेआउट नियमित और स्थिर नहीं है, विश्लेषक इस विधि का उपयोग करता है। स्टॉक का वास्तविक मूल्य कंपनी के फ्री कैश फ्लो का डिस्काउंटेड वैल्यू होता है। परिपक्व फर्म्स, खासकर जिनकी वृद्धि अवस्था बीत चुकी है, आमतौर पर डिस्काउंटेड कैश फ्लो मॉडल का उपयोग करते हैं।

रिलेटिव/कॉम्पेरेटिव

रिलेटिव स्टॉक वैल्युएशन ऐसे मॉडल्स को कहा जाता है जिसमें कंपनी के बाहर के इनपुट्स का इस्तेमाल होता है जैसे उद्योग की वृद्धि, उद्योग का वैल्युएशन, समकक्ष कंपनियों के वित्तीय अनुपात इत्यादि। यह एक सापेक्षिक विधि है और वैल्युएशन मैट्रिक्स की तुलना इंडस्ट्री बेंचमार्क के साथ किया जाता है। 

तुलनीय कंपनी विश्लेषण

यह एक सापेक्षिक स्टॉक वैल्युएशन टेकनीक है, और इससे उसी उद्योग में समकक्ष फर्म के वैल्युएशन मैट्रिक्स की मदद से कंपनी का वैल्युएशन निकलता है। वैल्युएशन मॉडल के लिए इनपुट्स के रूप में कंपनी के फंडामेंटल्स का उपयोग करने के बदले, विश्लेषक विशिष्ट अंतरों को समायोजित कतने के बाद उसी उद्योग के समान तुलनीय फर्म्स का प्राइस मल्टिपल लेकर वैल्युएशन की प्रक्रिया शुरू करते हैं। 

ज्यादातर विश्लेषक कुल नंबरों पर समझ की जांच करने के लिए और कंपनी का ठोस नजरिया बनाने के लिए इस वैल्युएशन विधि का इस्तेमाल करते हैं। तह विधि सैद्धांतिक रूप से आसान है और तकनीकी रूप से इस्तेमाल करना कम जटील है। 

इससे जुड़ी बातें: स्टॉक मार्केट में निवेश करने वाले नौसिखियों के लिए 40 सुझाव

इस्तेमाल होने वाले कुछ सामान्य प्राइस मल्टिपल कौन-कौन से हैं?

इस विधि के लिए इस्तेमाल होने वाले सबसे सामान्य प्राइस मल्टिपल्स हैं प्राइस-टु-अरिंग (पी/ई) रेश्यो, प्राइस-टु-ईबीआईटीडीए, प्राइस-टु-सेल्स इत्यादि। ऐसी विधि उद्योग की नर्र कंपनियों के लिए प्रभावी होती है जहां ऐतिहासिक रूप से बहुत अधिक डेटा उपलब्ध नहीं होता है, या कंपनी को हानि नहीं हुई है या लाभ नहीं हुआ है।

स्टॉक मार्केट में, गुजराती में एक कहावत है, ‘भाव भगवान छे’, जिसका अर्थ है कि कीमत ही सबकुछ है। इसलिए, बेहद कम कीमतों में उपलब्ध लाभकारी, बढ़ती हुई कंपनियों की पहचान करना महत्वपूर्ण है। 

उदाहरण के लिए, टाटा मोटर्स का पी/ई रेश्यो अक्टूबर 2018 में 10 था जबकि इंडस्ट्री पीई 45 पर था। कंपनी में पिछले तीन वर्षों में भारी वृद्धि हुई, और निवेशकों की संपत्ति में लगभग 2.5 गुना का इजाफा हुआ।

लंबे टाइम फ्रेम के साथ दूसरा उदाहरण है एचयूएल। यह 21 गुना पीई पर ट्रेड कर रहा था जबकि उद्योग मानक 50 गुना से अधिक था। फैंसी वैल्युएशन द्वारा समर्थित वित्तीय स्थितियों में होने वाली सतत लाभकारिता और वृद्धि से पिछले 10 वर्षों में स्टॉक ने अच्छा प्रदर्शन किया। स्टॉक की कीमत अक्टूबर 2010 में रु. 300 से बढ़कर अप्रैल 2021 में रु. 2500 तक चला गया, जिससे 10 वर्षों की अवधि में 8x से अधिक रिटर्न मिला। 

इससे जुड़ी बातें: इंट्राडे ट्रेडिंग पर टुमॉरो मेकर्स का कॉम्प्रिहेंसिव ईबुक

अंतिम शब्द

व्यवहार में, कंपनी का ठोस और अनुरूप दृष्टिकोण बनाने के लिए विश्लेषक किसी भी एब्सॉल्युट वैल्युएशन टेकनीक के अलावा प्राइस मल्टिपल्स वैल्युएशन मॉडल का उपयोग करते हैं। प्राइस मल्टिपल्स का उपयोग करने का कारण यह है कि इंडस्ट्री का पर्याप्त ऐक्सपोजर होता है जिसपर वैल्युएशन मॉडलिंग में विचार किया जाता है। कंपनी के खुद के फंडामेंटल्स और इंडस्ट्री डायनेमिक्स के मिश्रण से वास्तविक तस्वीर मिलेगी और अधिक सटीक वैल्युएशन मैट्रिक्स प्राप्त होगी। ये 6 सामान्य स्टॉक ट्रेडिंग गलतियां देखें जिनसे आपको बचना चाहिए




संबंधित लेख