Government Schemes for Welfare of the Girl Child in India in 2022 in Hindi

बालिकाओं के प्रति समानता और उन्हें समाज में समान अवसर प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा अनवरत प्रयास किए जा रहे हैं

बेटियों के लिए सरकारी योजनाएं

Government Schemes: भारत सरकार ने बालिकाओं के कल्याण, उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और समानता सुनिश्चित करने के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं और वित्तीय सहायता कार्यक्रम आरंभ किए हैं।

भारत में बालिकाओं के कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए शीर्ष 10 सरकारी योजनाएं

बालिकाओं के जीवन में आने वाली बाधाओं को ध्यान में रखते हुए, सरकार ने उन्हें प्रगति और जीवन में सफल होने का अवसर देने के लिए कई योजनाएँ आरंभ की हैं, जिनमें कुछ निम्नलिखित हैं-

1. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ केंद्र सरकार की योजना है। इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य बच्चे को देश भर में लिंग आधारित गर्भपात और उन्नत बाल शिक्षा जैसी सामाजिक समस्याओं से बचाना है। यहलैंगिक समानता का समर्थन करने, लड़कियों को एक सुरक्षित और स्थिर वातावरण देने तथा संपत्ति के उत्तराधिकार में लड़कियों के अधिकार का समर्थन करने का काम कर रही है।

2. सुकन्या समृद्धि योजना भारत सरकार समर्थित बचत योजना है। 10 वर्ष से कम आयु की बालिकाओं के माता-पिता और अभिभावक यह खाता खोल सकते हैं। लड़की के 18 वर्ष की होने पर 50% की निकासी की जा सकती है। 

3. बालिका समृद्धि योजना नवजात शिशुओं के लिए सुकन्या समृद्धि योजना जैसी योजना है। बालिका के जन्म के समय सरकार द्वारा 500 रुपए और दसवीं पास करने तक, 300-1000 रुपए की वार्षिक छात्रवृत्ति दी जाती है। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

4. राजस्थान राज्य के स्थायी निवासियों के लिए शुरू की गई मुख्यमंत्री राजश्री योजना में बेटी के जन्म पर मां को 2500 रुपए और टीकाकरणों के साथ, 2500 रुपए का चेक दिया जाता है। पहली कक्षा में 4000, छठी में 5000 और ग्यारहवीं कक्षा में 11000 रुपए दिए जाते है।

5. मुख्यमंत्री लाडली योजना झारखंड राज्य का स्थायी निवासी और 'गरीबी रेखा से नीचे' के परिवारों के लिए है। बालिका को कक्षा 6 में 2,000 रुपए, 9वीं में 4000 रुपए, 11वीं कक्षा में प्रवेश करने पर 7,500 रुपए के अलावा, 200 रुपए का मासिक वजीफा दिया जाता है। 

6. सीबीएसई उड़ान योजना केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा लड़कियों के लिए लागू की जाती है। इस योजना का लक्ष्य प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग और तकनीकी कॉलेजों में लड़कियों के नामांकन में वृद्धि करना है। इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए अपने सीबीएसई स्कूल में पढ़ना और वार्षिक पारिवारिक आय 6 लाख रुपए प्रति वर्ष से अधिक न होना ज़रूरी है। 

7. माध्यमिक शिक्षा के लिए लड़कियों को प्रोत्साहन की राष्ट्रीय योजना वंचित वर्गों की लड़कियों के लिए अखिल भारतीय योजना है। छात्रा की ओर से 3000 रुपए सावधि जमा किये जाएंगे। कक्षा 10 की परीक्षा उत्तीर्ण करने और 18 वर्ष की आयु के होने के बाद उसे निकाला जा सकता है।

8. मुख्यमंत्री कन्या सुरक्षा योजना बिहार राज्य सरकार द्वारा बालिका के माता-पिता के लिए है। यह बिहार के स्थायी निवासियों और 'गरीबी रेखा से नीचे' परिवार के लिए लागू है। 

9. महाराष्ट्र राज्य की माजी कन्या भाग्यश्री योजना में बेटी के जन्म के बाद माँ को पहले पांच वर्षों तक 5,000 रुपए, बच्ची के पांचवीं कक्षा में पहुंचने तक प्रति वर्ष 2,500 रुपए और बारहवीं कक्षा में पहुंचने तक प्रति वर्ष 3000 रुपए दिए जाएंगे। 

10. नंदा देवी कन्या योजना उत्तराखंड राज्य के लिए है। इसमें नवजात कन्या के नाम पर 1,500 रुपए की सावधि जमा कराई जाती है। योजना उत्तराखंड राज्य के सभी स्थायी निवासियों और 'गरीबी रेखा से नीचे' परिवारों के लिए है।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

सरकार दे रही है सभी बेटियों के लिए Schemes

संवादपत्र

संबंधित लेख