खास महिलाओं के लिए बने बैंक खातों में निवेश करने के 4 कारण

क्या आपने कभी महिला बचत खातों के बारे में सुना है? इन खातों से जुड़े फायदों और विशेषताओं के बारे में जानें।

खास महिलाओं के लिए बने  बैंक खातों में निवेश करने के 4 कारण

भारतीय समाज में तमाम असमानताएं होने के बावजूद बैंकिग एक ऐसा क्षेत्र है जो बराबरी का ध्यान रखता है। यह अच्छी तरह से विनियमित क्षेत्र है जिसमें समाज के सभी हिस्सों के हिसाब से योजनाएं बनाई गई हैं, इसी के तहत महिलाओं के लिए विशेष बचत खातों की योजना लाई गई है। इसका मतलब है कि महिलाओं को महत्वपूर्ण ग्राहक वर्ग का हिस्सा माना जाने लगा है। 

इन विशेष बचत खातों के साथ बहुत से ऑफर्स जैसे निश्चित समय (जैसे की एक वर्ष) के लिए लॉकर के किराए में छूट, बिल चुकाने में आसानी, कैशलेस ट्रैवल ऑफर और घर पर बैंकिंग की सुविधा आदि दिए जाते हैं। हालांकि, आपको खुद पता करना होगा कि कौनसा महिला बचत खाता आपके लिए सही है। 

विभिन्न बैंकों के द्वारा दी जाने वाली छूट और विशेष सुविधाएं हर बैंक के हिसाब से अलग हो सकती हैं। यह आप को पता लगाना है कि बैंकों के ऑफर आपके लिए फायदेमंद है या केवल बैंकों की अपनी मार्केटिंग करने की कोई चाल है। 

बैंकों से जुड़े खास ऑफर्स की जगह हम महिला बचत खातों से जुड़े कुछ आम फायदों और विशेषताओं की तरफ निगाह डालते हैं। 

1. एटीएम/ खरीदारी की उच्च सीमा

महिला बचत खातों में आमतौर पर एटीएम से पैसे निकालने और डेबिट कार्ड से खरीदारी करने की सीमा सामान्य बचत खातों से ज़्यादा होती है। उदाहरण के लिए आईसीआईसीआई बैंक के महिला बचत खाते के एटीएम से चाहे जितनी बार पैसे निकाले जा सकते हैं, जबकि सामान्य बचत खाते में आप यह नहीं कर सकते।

इसी तरह, महिला बचत खाते में एटीएम से प्रतिदिन पैसा निकालने की सीमा 1 लाख रूपये रखी गई है जबकि सामान्य खाते के लिए यह सीमा 50,000 रूपये है। इसी तरह डेबिट कार्ड के जरिए रिटेल और ऑनलाइन खरीदारी की सीमा क्रमश: 2 लाख और 1 लाख रूपये रखी गई है। अगर आपको खरीदारी करना पसंद है तो यह कार्ड आपके लिए बढ़िया विकल्प हो सकते हैं। 

2. ज़ीरो बैलेंस 

अगर आप एक मां हैं और अपने बच्चों को पैसे की बचत और उसके सही प्रबंधन की आदत डालना चाहती हैं तो यह विशेषता आपके काम आ सकती है: कुछ बैंक महिला बचत खातों के साथ बच्चों का ज़ीरो बैलेंस खाता खोलने की सुविधा देते हैं। 

कुछ शर्तों के साथ बहुत से बैंक यह सुविधा देते हैं। उदाहरण के लिए  आईसीआईसीआई बैंक का “वूमेन एडवान्टेज सेविंग्स अकाउंट” यह सुविधा देता है, अगर छ: महीने तक लगातार 3000 रूपये महीने रिकरिंग अकाउंट में जमा किए जाएं; ( ध्यान रखें कि रिकरिंग खाते में पैसे नियमित जमा ना करने पर 10000 मासिक की औसत बैलेंस राशि को काम में ले लिया जाएगा)।

इसी तरह, कोटक बैंक के “सिल्क वूमन सेविंग्स” योजना के तहत ज़ीरो बैलेंस का जूनियर खाता खोलने पर आपको हर महीने 2000 रूपये (ग्रामीण और अर्ध- शहरी इलाकों के लिए 1000 रूपये महीना)  कम से कम  36 महीनों ( अधिकतम 120 महीने ) के लिए रिकरिंग खाते या म्युचुअल फंड में जमा करने होंगे।120 महीने के लिए करने पर रिकरिंग खाते में पैसे जमा करने की अधिकतम सीमा 50,000 रूपये मासिक और 36 महीने के लिए अधिकतम सीमा 1,00,000 रूपये महीना होगी।

आईडीबीआई बैंक के “सुपर शक्ति वूमेन अकाउंट” में 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए मुफ्त ज़ीरो बैलेंस खाता खोलने की सुविधा मिलती है।

3. बीमा कवर

महिला बचत खातों के साथ बीमा की सुविधा भी मिल सकती है, जैसे कि दुर्घटना होने पर अस्पताल में भर्ती होने की मुफ्त सुविधा और मुफ्त दुर्घटना मृत्यु बीमा; ये सुविधा सामान्य बचत खातों के साथ उपलब्ध नहीं है। आपको अगर अतिरिक्त बीमा की मुफ्त सुविधा मिल रही है तो उसे लेने में आपका क्या नुकसान है? 

4. स्वास्थ्य जांच

महिला बचत खातों के साथ कर्ज़ और स्वास्थ्य जांच पर भी छूट मिलती है- स्वास्थ्य जांच पर वर्तमान बाज़ार दरों पर 40% तक की छूट मिल सकती है। महिला बचत खाता होने पर बैंक से दोपहिया वाहनों, सोने, ऑटो और पर्सनल लोन की ब्याज दरों और प्रोसेसिंग फीस पर विशेष छूट भी मिल सकती है। कुछ बैंक ऑनलाइन ट्रेडिंग अकाउंट और लाकर्स पर लगने वाली फीस में भी छूट देते हैं।

तो अगर आप एक समझदार महिला हैं तो आपको मिलने वाली इन विशेष सुविधाओं का फायदा उठाएं और सामान्य बचत खाते के लिए ज़रूरी न्यूनतम बैलेंस या उससे कम बैलेंस के साथ अतिरिक्त सुविधाओं का लाभ लें। 

संबंधित लेख