Here's how you can take advantage of the market correction. Expert views

मार्केट करेक्‍शन तब होता है जब स्‍टॉक्‍स की कीमत में लगातार 10% की गिरावट आती है। अफसोस की बात है, कि मार्केट आपको स्थिति के बारे में पहले से नहीं बताते हैं। परिणामस्‍वरूप, मार्केट करेक्‍शन की समझ महत्‍वपूर्ण है।

मार्केट करेक्‍शन से लाभ उठाने के लिए निवेशक किन रणनीतियों का उपयोग कर सकते हैं

मार्केट करेक्‍शन क्‍या है, और यह क्‍यों होता है?

हर शेयर बाजार अलग-अलग समय पर चढ़ाव और उतार का अनुभव करता है। लगभग 20% की सामान्य गिरावट मार्केट करेक्‍शन के चरण को परिभाषित करती है। विशिष्ट सिक्‍योरिटीज़ के लिए एसेट्स, इंडिक्‍स की कीमतों या यहां तक की पूरे मार्केट को मार्केट करेक्‍शन का सामना करना पड़ सकता है। वे आमतौर पर केवल कुछ महीनों तक चलते हैं। यदि कुछ भी लंबी अवधि तक चलता है तो उससे मंदी या शायद बुल मार्केट में प्रवेश करने का खतरा होता है। हालांकि, करेक्‍शन आने वाले मंदी के दौर का कोई संकेत नहीं होता है। कई बार करेक्शन के बाद, स्टॉक्स में तेजी का अनुभव हुआ है। उदाहरण के लिए, महामारी के दौरान, भारत में निफ्टी ने जनवरी और मार्च 2020 के महीनों में 28% के करेक्‍शन का अनुभव किया, जो 2000 के बाद से केवल छह घटनाओं में से एक है।

मौजूदा परिस्थिति:

17 जून 2022 तक, निफ्टी 50 मौजूदा इंडेक्स 0.44 फीसदी की गिरावट के साथ 15,293 पर था, और S&P बीएसई 0.26 फीसदी की गिरावट के साथ 51,360.42 मार्केट पर था, जो लगातार छह सेशन में गिरा है। 
यह 5.6% की साप्ताहिक गिरावट के बाद हुआ है, जो मई 2020 के बाद सबसे अधिक गिरावट है।
भारतीय मार्केट में करेक्‍शन के इतिहास के बारे में जानने के लिए इसे देखें

मार्केट करेक्‍शन के इस समय के दौरान लाभ पाने के लिए निवेशक क्‍या कर सकते हैं?

मार्केट करेक्शन के समय का पूरा फायदा उठाने के लिए आप नीचे दिए गए सुझावों का पालन कर सकते हैं:

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज़ के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा कि ''बाजार का पैटर्न अप्रत्याशित बना हुआ है। इसलिए निवेशक वर्तमान में मध्यम से लंबी अवधि के लिए उच्च क्‍वालिटी वाले स्टॉक्स को खरीद सकते हैं।"
याद रखें कि चिंता मुख्य रूप से नए निवेशकों के बीच डर का परिणाम है। ऐसे स्‍टॉक्‍स मार्केट में आर्थिक मंदी के दौरान, इस घबराहट में निवेशक अक्सर अपनी होल्डिंग्‍स को नुकसान पर बेच देते हैं। जल्दबाजी में स्टॉक न बेचें और न ही खरीदें।
पूंजीगत लाभ इक्विटी सिक्‍योरिटीज़ की बिक्री से प्राप्त राजस्व है जिस पर पूंजीगत लाभ नियमों के अनुसार कर लगता है। टैक्स-लॉस हार्वेस्टिंग स्ट्रैटेजी का उपयोग करके, कर-पश्चात लाभ की राशि को बढ़ाने के लिए मार्केट करेक्‍शन का समय एक उत्कृष्ट मौका हो सकता है।

निष्‍कर्ष:

इस वर्ष भारतीय शेयर की कीमतों में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जबकि अंतरराष्ट्रीय मार्केट बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। निवेशकों के लिए अभी भी लाभ कमाने के तरीके हैं, लेकिन कई लोगों ने इस उम्मीद में लो-क्‍वालिटी वाली इक्विटी को रखने की गलती की है कि मार्केट में बदलाव के बाद उनके मूल्‍य बढ़ेंगे। कुछ खरीदार जो मार्केट करेक्‍शन का लाभ उठाना चाहते हैं, वे भी लो-क्‍वालिटी वाली इक्विटी खरीदते हैं जिनकी कीमत में काफी गिरावट आई है। इन्हें देखें और करेक्‍शन अवधि का भी लाभ उठाएं।

अस्वीकरण: यह लेख सामान्य जानकारी के लिए है और इसे निवेश सलाह के रूप में नहीं माना जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

संवादपत्र

संबंधित लेख