Mandhan from PM kisan Yojna: पीएम किसान योजना से मानधन

प्रधानमंत्री (पीएम) किसान योजना से अब मिल सकता है वार्षिक ₹36,000 का मानधन।

पीएम किसान योजना से मानधन

PM Kisan Yojna: यह एक महत्वपूर्ण सूचना है उन सभी ग्राहकों के लिए जो प्रधानमंत्री (पीएम) किसान योजना के लाभार्थी हैं। यदि किसी किसान को पीएम किसान योजना से सम्मान निधि मिलती है तो अब मोदी सरकार द्वारा उसे हर महीने ₹3000 यानी हर साल ₹36,000 का मानधन भी मिल सकता है। इसके लिए किसान को अपनी ओर से अतिरिक्त खर्च नहीं उठाना पड़ेगा। योजना के लाभार्थियों को कोई अन्य दस्तावेज या कागज देने की भी कोई जरूरत नहीं होगी। इस योजना से जुड़ने वाले किसानों की संख्या 49,05,537 हो चुकी है। 

अपनी ओर से कोई खर्च नहीं 

इस योजना के अंतर्गत यदि किसान पहले से ही पीएम किसान योजना का लाभार्थी है और उसे प्रतिवर्ष 2000-2000 की तीन किस्तों में सम्मान निधि मिल रही है तो अब सालाना ₹36,000 के मानधन के लिए उसे कोई भी अतिरिक्त खर्च नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि किश्तों में मिलने वाली सम्मान निधि से ही अंशदान करने का विकल्प चुना जा सकता है। ऐसे में किसान को अपनी जेब से कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ेगा। वे उपभोक्ता जो पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थी नहीं है, वे भी इस योजना से लाभ ले सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: ७ सुनहरे वित्तीय नियम 

किसे मिल सकता है पीएम किसान योजना से मानधन 

योजना के अनुसार वह हर किसान जिसकी आयु 18 से 40 वर्ष है इस योजना द्वारा मानधन के लिए अपना नाम दर्ज करा सकता है। ध्यान रहे कि किसान के पास योजना से लाभ लेने के लिए अधिकतम दो हेक्टेयर तक कृषि योग्य भूमि होनी चाहिए। 

योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को हर महीने ₹55 से लेकर ₹200 तक का अंशदान करना होगा। अंशदान करने के लिए कम से कम 20 साल और अधिक से अधिक 40 साल का समय तय किया गया है। यदि किसान की उम्र 18 साल है तो उसके लिए मासिक अंशदान ₹55 का आएगा और यदि किसान की उम्र 40 साल है तो उसे ₹200 मासिक अंशदान करना होगा। 

कैसे करें आवेदन 

  • पीएम किसान मानधन योजना के लिए अपने निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) से आवेदन किया जा सकता है।
  • अपना नाम दर्ज कराने के लिए आधार कार्ड और बचत खाता क्रमांक, आईएफएससी (IFSC) कोड के साथ देना होगा। बैंक खाते के प्रमाण के रूप में बैंक की पासबुक या चेक की प्रति देनी होगी।
  • शुरुआत में अंशदान की राशि ग्राम स्तरीय उद्यमी (वीएलई) को नकद में देनी होगी।
  • ग्रामस्तरीय उद्यमी वीएलई (वीएलई) के सत्यापन के लिए आधार कार्ड पर दर्ज आधार नंबर, उपभोक्ता का नाम और जन्मतिथि भरनी होगी।
  • पंजीकरण ऑनलाइन किया जा सकता है। वीएलई में बैंक खाते का विवरण, मोबाइल नंबर, ईमेल पता, जीवनसाथी और नॉमिनी/नामांकित विवरण आदि भरकर अपना आवेदन पूरा करना होगा।
  • सिस्टम द्वारा उपभोक्ता की उम्र के हिसाब से प्रतिमाह अंशदान निकाला जाएगा। 
  • उपभोक्ता द्वारा पहले अंशदान की राशि वीएलई को नकद जमा करानी होगी।
  • नाम दर्ज कराने के साथ ऑटोडेबिट मैंडेट फॉर्म प्रिंट होकर उपभोक्ता को हस्ताक्षर के लिए दिया जाएगा। वीएलई में इस फॉर्म को स्कैन करने के बाद सिस्टम में स्वीकार कर लिया जाएगा। 
  • फॉर्म अपलोड होने के बाद उपभोक्ता को यूनिक किसान पेंशन खाता संख्या (KPAN) दी जाएगी और किसान कार्ड प्रिंट किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: मार्केट में उतार-चढ़ाव के दौरान निफ़्टी ५० से बेहतर रिटर्न कैसे पाए?

किसान क्रेडिट कार्ड क्या है और कैसे मिलता है?

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख