एन.एफ.ओ. से आइ.पी.ओ. कैसे भिन्न होते हैं?

आइये नज़र डाले कि अक्सर ज़िक्र किये जाने वाले आइ.पी.ओ. और एन.एफ.ओ., कंपनियों और म्युचुअल फंडों के लिए कैसे ज़रूरी है और वे एक-दूसरे से कैसे अलग हैं।

एन.एफ.ओ. से आइ.पी.ओ. कैसे भिन्न होते हैं?

न्यू फंड ऑफरिंग (एन.एफ.ओ.) और इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आइ.पी.ओ.) दोनों ही जनता से पैसा जुटाने की प्रक्रिया है। एन.एफ.ओ. का उपयोग म्यूचुअल फंड कंपनियों द्वारा किया जाता है जबकि आइ.पी.ओ. का उपयोग सामान्य रूप से कंपनियों द्वारा किया जाता है।

यह क्या करना चाहता है?

एन.एफ.ओ. के मामले में, एक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (ए.एम.सी.) आमतौर पर किसी विशेष बाजार खंड या उद्योग में अपनी उपस्थिति दर्ज़ करती है या बढ़ाती है। उदाहरण के लिए, एक ए.एम.सी. द्वारा पेश किये गए एन.एफ.ओ. बैंकिंग क्षेत्र में एसेट को लक्षित कर रहे हो सकते हैं। दूसरी ओर, आई.पी.ओ., कंपनियों द्वारा अपने व्यापार का विस्तार करने या निजी कंपनियों द्वारा स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने के उद्देश्य से पेश किया जाता है।

मूल्य निर्धारण पर किसका प्रभाव पड़ता है?

आई.पी.ओ. का शेयर मूल्य कंपनी के मूल्य-से-आय अनुपात और मूल्य-से-खाता मूल्य अनुपात जैसे कारकों से प्रभावित होता है। आई.पी.ओ. सदस्यता के लिए आवेदन करने से पहले निवेशक कंपनी के प्रदर्शन पर विचार करते हैं। हालांकि, एन.एफ.ओ. के मामले में, लोग ए.एम.सी. की व्युत्पत्ति और लक्षित एसेट की व्यवहार्यता को देखते हैं।

एन.एफ.ओ. के विपरीत, आई.पी.ओ. में शेयर प्रीमियम या छूट पर दिए जा सकते हैं। यह कंपनी के निर्णय पर निर्भर करता है, जो शेयरों के लिए अपेक्षित बाजार के खुलने पर आधारित होते है। एन.एफ.ओ. के मामले में, फंड सबसे पहले जुटाया जाता है, फिर एन.एफ.ओ. से संबंधित सभी खर्चों को इसमें से घटा दिया जाता है, और शेष शेयरों में निवेश किया जाता है। इस बिंदु पर, एन.एफ.ओ. का सामान्य रूप से 10 रुपये का एन.ए.वी. होगा।

जुटाए गए फंड का उपयोग कैसे किया जाता है?

आई.पी.ओ. के मामले में धन उपयोग का तरीका महत्वपूर्ण है। कंपनी द्वारा उचित और प्रभावी उपयोग,आई.पी.ओ. प्रतिभागियों द्वारा निवेशित मूल्य की बढ़ौतरी करने में मदद करेगा। एन.एफ.ओ. में, बाजार का समग्र प्रदर्शन ही वह है जो फंड के भविष्य के एन.ए.वी. को निर्धारित करता है।

मूल्य निर्धारण के प्रभाव

आई.पी.ओ. की कीमत अक्सर धारणा-आधारित होती है। बाजार के भाव, खुले बाजार में शेयरों के मूल्यांकन का फैसला करती हैं। एन.एफ.ओ. में, कीमत बहुत मायने नहीं रखती है। भारत में अधिकांश एन.एफ.ओ. 10 रुपये से शुरू होते हैं और उनका मूल्य प्रदर्शन उस स्तर पर अधिक निर्भर करता है जिस पर वे बाजार में प्रवेश करते हैं।

प्रतिभागी

विभिन्न प्रकार के निवेशक आई.पी.ओ. में भाग ले सकते हैं। वे खुदरा निवेशक, संस्थागत निवेशक या उच्च-मूल्य वाले व्यक्तिगत निवेशक हो सकते हैं| प्रत्येक श्रेणी के लिए अलग-अलग मूल्य निर्धारित किए जाते हैं। एन.एफ.ओ. के मामले में ऐसा कोई वर्गीकरण नहीं होता है।

खरीदने की प्रक्रिया

आई.पी.ओ. में शेयरों को खरीदना ,शेयरों के नियमित व्यापार से काफी अलग होता है। अत्यधिक-सब्सक्रिप्शन और प्रो-राटा आबंटन की संभावनाओं के साथ आवेदन करने होते हैं। एन.एफ.ओ. में क्रय इकाइयाँ म्यूचुअल फंड की नियमित खरीद से बहुत अलग नहीं हैं। एन.एफ.ओ. बंद होने के बाद, फिर से खुलता है और इच्छुक निवेशक फंड के प्रचलित एन.ए.वी. में निवेश कर सकते हैं।

हालांकि आई.पी.ओ. अधिक जोखिम और प्रतिफल से जुड़ा हुआ होता है,पर एन.एफ.ओ. में प्रतिफल कम होते है और जोखिम विविध है क्योंकि यह ज्यादातर एक एसेट पोर्टफोलियो द्वारा समर्थित है और एक भी स्टॉक द्वारा समर्थित नहीं है। जब सावधानीपूर्वक विश्लेषण और बाजार अध्ययन के बाद निवेश किया जाता है, तो आई.पी.ओ. और एन.एफ.ओ. दोनों बाजार के विकास के लाभों को प्राप्त कर सकते हैं।

संबंधित लेख

 

Most Shared