अपने बच्चों को लॉकडाउन के दौरान व्यस्त रखने के 7 मजेदार तरीके

लॉकडाउन के दौरान बच्चों को खुशी-खुशी घर के अंदर रखना एक बेहद कठिन कार्य हो सकता है। लेकिन ऐसा नहीं होगा अगर आप उन्हें इन मजेदार गतिविधियों से परिचित कराते हैं!

अपने बच्चों को लॉकडाउन के दौरान व्यस्त रखने के 7 मजेदार तरीके

गर्मियों की छुट्टी एक ऐसी चीज है जिसका सभी बच्चे इंतज़ार करते हैं। हालांकि, गर्मियों की छोटी छोटी खुशियाँ - हर दिन की मौज मस्ती, आम के मिल्कशेक, सड़क पर टहलना, और सूरज ढलने के बाद तक खेलना - अब कोरोनोवायरस प्रकोप और इसके परिणामस्वरूप लॉकडाउन के साथ आपके बच्चों के लिए संभव नहीं है।

यदि आपके बच्चे बहुत छोटे हैं, तो वे सामाजिक दुरी और क्वारंटाइन जैसे कोरोनोवायरस सम्बंधित सावधानियों के महत्व को पूरी तरह से नहीं समझ सकते हैं। ऐसी स्थिति में घर में उनका मनोरंजन बनाए रखना कठिन हो सकता है - खासकर यदि आप नहीं चाहते कि उनके मोबाइल/टी.वी. देखने का समय अत्यधिक बढ़ जाए।

यहाँ बच्चों को सकारात्मक रूप से घर पर व्यस्त रखने के कुछ सरल तरीके दिए गए हैं:

1. उन्हें आर्ट और क्राफ्ट से परिचित कराएं

बच्चे स्वाभाविक रूप से रचनात्मक प्राणी हैं। जिस तरह से वे चीजों को देखते हैं और व्यक्त करते हैं वह नया,सच्चा और मजेदार होता है। लॉकडाउन अपने बच्चों को आर्ट और क्राफ्ट के माध्यम से उनकी रचनात्मक अभिव्यक्ति में लिप्त होने के लिए प्रेरित करने का सबसे अच्छा समय है। कार्ड बनाना, फिंगर पेंटिंग, चित्र बनाना, और ओरिगामी कुछ ऐसी गतिविधियाँ हैं जिनसे शुरुआत करनी चाहिए। प्रेरणा की ज़रूरत है ? आपको पिंटरेस्ट, यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर हज़ारों विचार मिलेंगे।

2. ऑनलाइन संसाधनों के साथ अध्ययन

जैसा कि सब जानते हैं कि अधिकांश स्कूल ऑनलाइन कक्षाओं और वीडियो व्याख्यान शुरू कर चुके हैं,तो आपके पास काम करने के लिए असाइनमेंट, होमवर्क और प्रोजेक्ट हो सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे एक दिनचर्या बनाए रखें और अपनी पढ़ाई को ध्यान में रखें , जैसे वे महामारी से पहले करते थे। मजेदार वर्कशीट और ऑनलाइन वीडियो के साथ अपने स्कूल के पाठ्यक्रम को पूरक करने का यह एक अच्छा अवसर है।

3. दैनिक डायरी बनाए रखना

चीजों को लिखने और अपने विचारों और भावनाओं को लिख कर संभाल कर रखने की आदत जीवन का सामना करने का एक स्वस्थ तरीका है। यह रोज़ की आदत आगे जाकर आपकी मदद कर सकती है जब आप व्यस्त, तनावपूर्ण जीवन जियेंगे। हालंकि लेखन किसी के अवचेतन विचारों और आंतरिक आवाज को स्वीकार करने में मदद करता है,पर यह मजेदार भी हो सकता है, खासकर अगर आप एक फोटो जर्नल बनाते हैं या यदि आप चित्रण में अपने दिनभर की बातें समेटने में सक्षम हैं।

4. विदेशी भाषा सीखना

तेजी से बढ़ रहे वैश्विक दुनिया में, कई भाषाओं में अच्छा कमान होना उच्च मांग में है। वयस्कों की तुलना में बच्चे विदेशी भाषा सीखने में तेज होते हैं। अपने बच्चों को एक नई भाषा सीखने को प्रतिबद्ध करने के लिए क्वारंटाइन अवधि एक अद्भुत समय हो सकता है। यह घर पर उनका मनोरंजन करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक हो सकता है। कई भाषा सीखने के ऐप और संसाधन हैं, जैसे कि डुओलिंगो, मेमराइज , रोसेटा स्टोन, आदि।

5. ऑनलाइन कोर्स के लिए साइन अप करना

घर पर बच्चों के मनोरंजन का एक और शानदार तरीका है कि उन्हें ऑनलाइन कोर्स के लिए साइन अप करा दिया जाए। आपके बच्चे वास्तव में जिस कोर्स से खुश हो,वे ढूंढें ; शैक्षणिक पाठ्यक्रम पढ़ने के लिए उन्हें बाध्य न करें। उदाहरण के लिए, यदि आपके बच्चे को कहानी कहने में दिलचस्पी है, तो उन्हें एक रचनात्मक लेखन पाठ्यक्रम करने दें। या अगर वे पौराणिक कथाओं में रुचि रखते हैं, तो प्राचीन धर्मग्रंथों और यूनानी, रोमन या भारतीय पौराणिक कथाओं के ग्रंथों के बारे में बताने वाले इन पाठ्यक्रमों में से किसी एक के लिए साइन अप करें । कई गैर-लाभकारी ऑनलाइन शिक्षा प्लेटफ़ॉर्म के साथ-साथ प्रमुख विश्वविद्यालयों द्वारा प्रदान किए जाने वाले पाठ्यक्रम हैं जो आपके बच्चे मुफ्त में देख सकते हैं।

6. पढ़ने की आदत डालना

कुछ आदतें बच्चे के दिमाग को मज़बूत कर सकती हैं जैसे कि पढ़ने की आदत। यह उनकी कल्पनाओं को स्वच्छंद बना सकता है और उन्हें अधिक रचनात्मक बनने में मदद कर सकता है। जबकि यंग एडल्ट किताबें उन्हें अपनी भावनाओं और विचारों का पता लगाने और उनसे निपटने में मदद कर सकती हैं, कथेतर साहित्य उन्हें आत्म-विकास और दृष्टिकोण निर्माण में मदद कर सकती है। सामान्य तौर पर, पढ़ने से उनकी शब्दावली, व्याकरण और भाषा पर नियंत्रण को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है। ई-बुक और ऑडियोबुक की एक विस्तृत श्रृंखला अब विभिन्न ऐप और ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म पर आसानी से उपलब्ध है। पढ़ने की आदत विकसित करने का एक बोनस यह है कि एक बार जब बच्चे पढ़ने के शौकीन बन जाते हैं, तो वे घंटों ख़ुशी से , हाथ में किताब लिए बिता सकते हैं , लॉकडाउन समाप्त होने के बाद भी।

7. घर के कामों में मदद करें

इसमें कोई संदेह नहीं है कि कोरोनोवायरस प्रकोप और लॉकडाउन के बाद से आपका कार्यभार बढ़ गया है। घर में कोई नौकर उपलब्ध नहीं होने के साथ, आपके और आपके साथी के बीच सभी काम का बोझ आ गया हैं। अपने बच्चों को भी कुछ काम सौंपने की कोशिश करें। यह न केवल आपके बोझ को कम करने में आपकी मदद करेगा, पर साथ ही यह उन्हें जिम्मेदारी, टीम वर्क और घर के प्रति योगदान के महत्व के बारे में भी सिखाएगा। आप साधारण कामों जैसे बर्तन धोना, पौधों को पानी पिलाना या कपडे तह करने से शुरुआत कर सकते हैं ।

आखरी शब्द

उपरोक्त गतिविधियों का एक मिश्रण, लॉकडाउन के दौरान, आपके बच्चों के घर पर मनोरंजन के लिए सबसे अच्छा तरीका हो सकता है, और उन्हें बेचैन और चिंतित होने से रोक सकता है। जब वे इस में व्यस्त होते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप चिंता-उत्प्रेरण समाचार के साथ पूरे दिन टीवी चलता हुआ न छोड़ें, या कोरोनोवायरस अपडेट के बारे में हमेशा चर्चा न करें। वर्तमान स्थिति के बारे में अपने बच्चों के साथ ईमानदार रहें, लेकिन उन्हें यह भी बताएं कि सब ठीक हो जाएगा। बच्चों को, किसी और से अधिक, उस आराम और आश्वासन की आवश्यकता होती है।




संबंधित लेख