TomorrowMakers

भारत में एक यात्रा गंतव्य का चयन आपकी पसंद और आपके बजट पर निर्भर करता हैI सौभाग्यवश हर किसी के लिए एक गंतव्य उपलब्ध है I

भारत के हर क्षेत्र - पूर्व, पश्चिम, उत्तर या दक्षिण -  के पास वह सब कुछ है जो किसी देश के पास हो सकता है I समुद्र तट से लेकर पर्वत श्रृंखलाएं, रेगिस्तान और जंगलों से लेकर ऐतिहासिक और पुरातात्विक स्थल, धार्मिक स्थल, वन्यजीव आश्रय, ट्रेकिंग और एडवेंचर स्पोर्ट्स, और समृद्ध खान पान - भारत के आकर्षण बदलते जाते हैं जब आप एक राज्य से दूसरे राज्य में जाते हैंI

जहाँ तक बजट का सवाल है, भारत के पास हर किसी के लिए कुछ न कुछ हैI अतः इस राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर, भारत भर में ढेर सारे पर्यटन स्थल हैं जो हर व्यक्ति की जेब के अनुकूल हैंI

1. धर्मशाला (उत्तर भारत)

हिमाचल प्रदेश की कांगड़ा घाटी में स्थित पर्वतीय शहर धर्मशाला अत्यंत रमणीक पर्यटक स्थल है, तथा एडवेंचर प्रेमियों के लिए आदर्श स्थल हैI  दलाई लामा की निर्वासित सरकार का मुख्यालय होने के कारण आप यहां तिब्बती संस्कृति की एक झलक तथा उनके मठ देख सकते हैंI यहां से निकटस्थ दर्शनीय स्थलों में शामिल हैं भगसुनाथ मंदिर तथा भगसुनाथ झरना, जो धर्मशाला तथा मक्लिओडगंज के बीच में पड़ता हैI मक्लिओडगंज यहां से 9 किलोमीटर दूर अवस्थित एक अन्य पर्यटन स्थल हैI यदि आप खोज करें तो यहां लगभग ₹200 प्रतिदिन किराए के कमरे आप पा सकते हैंI यहां पर क्रिकेट मैचों के दौरान भी आप एक छुट्टी की योजना बना सकते हैंI यहां का एचपीसीए स्टेडियम जो विशाल धौलाधार पर्वत श्रृंखला की पृष्ठभूमि में बना है, एक अत्यंत मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता हैI

हिमाचल प्रदेश में छुट्टियां मनाने की कई और जगहें हैं – मणिकरण, जहां गर्म पानी के झरने पाए जाते हैं, हिंदुओं और सिखों दोनों का पवित्र धार्मिक स्थल हैI कसोल, जो यहां से 5 किलोमीटर दूर है, बैकपैकर्स का स्वर्ग हैI उत्तरी भारत में छुट्टियां मनाने के अन्य गंतव्यों में शामिल हैं- लद्दाख, चंडीगढ़, अमृतसर, कुल्लू-मनाली, शिमला, देहरादून, नैनीताल, मसूरी, आगरा, झांसी तथा राजस्थान में जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर और माउंट आबू I

2. हंपी (दक्षिण भारत)

हंपी उत्तरी कर्नाटक में बेंगलुरु से करीब 350 किलोमीटर दूर तुंगभद्रा नदी के किनारे अवस्थित एक प्राचीन गांव है, जो यूनेस्को के द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया हैI यहां विजयनगर साम्राज्य के भग्नावशेष हैं जो ईसा की पहली शताब्दी तक के पाए गए हैंI साम्राज्य की राजधानी विजयनगर 15 वीं एवम 16 वीं शताब्दी के दौरान विश्व के सबसे समृद्ध शहरों में एक थाI हंपी में कई धरोहर स्थल हैं- विरुपाक्ष मंदिर, विट्ठल मंदिर, हंपी बाजार तथा अन्य आकर्षण, जैसे कमल महल, हजार रामा मंदिर और लक्ष्मी नरसिंह मंदिरI आप यहां सस्ते, मध्यम खर्चीले होटल और कॉटेज आधुनिक सुविधाओं के साथ पा सकते हैंI

दक्षिण भारत के अन्य गंतव्यों में शामिल हैं-एलेप्पी (केरल), कावेरी नदी पर अवस्थित होगेनक्कल फॉल (तमिलनाडु),  मैसूर, ऊटी, कुर्ग, वायनाड (केरल) जहां हरी-भरी पहाड़ियां और प्रागैतिहासिक काल की गुफाएं हैं, चेन्नई, कोडाईकनाल, कोयंबटूर और पांडिचेरीI

Tourism

3. दमन और दियू (पश्चिम भारत)

भारतीय मुख्य भूमि पर अवस्थित सबसे छोटे केंद्र शासित राज्य, दमन और दियू खम्भात की खाड़ी के द्वारा भौतिक रूप से अलग किये गए दो विशिष्ट क्षेत्र हैंI यह क्षेत्र जो 1961 तक पुर्तगालियों के अधीन रहा, अपने किलों, चर्च तथा सांस्कृतिक स्थलों पर पुर्तगाली प्रभाव अभी भी प्रदर्शित करता हैI यहाँ पर्यटन स्थलों की सैर आप किराए की साइकिल या स्कूटर पर कर सकते हैं, बेहतरीन समुद्री भोजन का लुत्फ़ उठा सकते हैं, या फिर दमन के तटों पर एडवेंचर खेलों जैसे - पैरासेलिंग , वाटरस्कीइंग, स्नॉर्केलिंग और विंड सर्फिंग में अपने हाथ आजमा सकते हैं जो गुजरात के वापी से 15 किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित हैI

आप दमन और दीव की अपनी यात्रा के साथ ही गुजरात के गिर नेशनल पार्क का भ्रमण कर सकते हैं, जो दीव से 65 किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित हैI तथा इसके बाद एक अलग अनुभव लेने के लिए मंदिरों के शहर सोमनाथ, जो कि गिर से 42 किलोमीटर दूर है, जा सकते हैं I पश्चिमी भारत में कई अन्य शहर हैं जैसे – मुंबई, पुणे,नाशिक, औरंगाबाद, गोवा और कोल्हापुर, जो देश और विदेशों से पर्यटकों को आकर्षित करते हैंI

4. पुरी-चिलका (पूर्वी भारत)

यदि वाराणसी को छोड़ दिया जाए,तो पूर्वी भारत शायद ही घरेलू पर्यटकों की वरीयता सूची में ऊपरी नंबर पर आता हैI लेकिन वहां ऐसे पर्यटन स्थल हैं जो पर्यटकों को अपील करते हैंI भुवनेश्वर-पुरी-कोणार्क-चिल्का में चार दिनों के भ्रमण की योजना बनाई जा सकती है, जहां आप लिंगराज, राजरानी, ब्रहमेश्वर और सिद्धेश्वर के मंदिर, खांडागिरी और उदयगिरी की गुफाएं, धौली का बौद्ध स्तूप, चंद्रभागा और पुरी के समुद्र तट देख सकते हैं

कोलकाता, मुर्शिदाबाद (जो लार्ड क्लाइव को आखिरी प्रतिरोध देने के लिए जाना जाता है),दार्जिलिंग, गंगटोक, रांची, राजगीर, वाराणसी, गया तथा नालंदा पूर्वी भारत के अन्य स्थान है जो छुट्टियां मनाने के लिए आदर्श स्थल हैं

5. अरुणाचल प्रदेश (उत्तर पूर्व)

 एक बाहरी व्यक्ति के रूप में अरुणाचल प्रदेश में प्रवेश करने के लिए आपको इनर लाइन परमिट इमेज की आवश्यकता पड़ती हैI इसे लेना आसान होता हैIआपको इसके लिए पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ, पहचान का प्रमाण पत्र (ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर कार्ड, आधार कार्ड या कोई अन्य मान्यता प्राप्त दस्तावेज) अपने आवेदन के साथ जमा कराना होता हैI तवांग में भारत का सबसे बड़ा बौद्ध मठ आप देख सकते हैं, जो 10000 फीट की ऊंचाई पर अवस्थित है तथा जहां घाटी का सांसें रोक देने वाला दृश्य दिखाई देता हैI गोरिचेन चोटी के आसपास एक कैंपिंग या ट्रेकिंग की योजना भी बना सकते हैं, नुरूरंग जलप्रपात देख सकते हैं और तवांग वॉर मेमोरियल का भ्रमण कर सकते हैंI यदि आप कुछ साहसिक खेलों का लुत्फ़ उठाना चाहते हों तो सिआंग, सुबनसरी और लोहित नदियों में राफ्टिंग में हाथ आजमा सकते हैंI इसके लिए सर्वोत्तम समय नवंबर के प्रारंभ से लेकर मार्च के अंत तक होता हैI

वापस लौटने के रास्ते में माजुली जाया जा सकता है जो विशालकाय ब्रह्मपुत्र नदी का एक टापू हैI यह टापू छोटी नौकाओं पर खेतों की यात्रा करने के लिए प्रसिद्ध है और यह पूरे क्षेत्र का सांस्कृतिक केंद्र भी हैI बहुत सी जनजाति हैं जनजातियां इसे अपना घर मानती हैंI

उत्तर पूर्व में भ्रमण करने लायक कुछ अन्य स्थानों में त्रिपुरा में अगरतला(जहां महल और गुफाएं हैं), गुवाहाटी, शिलांग तथा रंग-बिरंगे राज्य मिजोरम नागालैंड और मणिपुरI

6. छत्तीसगढ़ (केंद्रीय भारत)

छत्तीसगढ़ राज्य जिसे नवंबर 2000 में मध्य प्रदेश से अलग कर बनाया गया, एक अन्य कम आंका गया पर्यटन गंतव्य हैI हालांकि यहां वन्य-जीव, जंगल-पहाड़ तथा विस्मित करने वाले झरने, प्राचीन स्मारक और मंदिरों की बहुतायत हैI छत्तीसगढ़ की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत पर्यटकों को केंद्रीय भारत के इतिहास में झांकने का मौका देती हैI मल्हार, रतनपुर, शिरपुर और सरगुजा अपने पुरातात्विक महत्त्व के लिए अवश्य जाने वाले स्थान हैं, जबकि कुटुमसर की गुफाएं, गडिया की पहाड़ियां और कैलाश की गुफाएं अन्य प्रसिद्ध गुफाओं में हैं जिनका प्रागैतिहासिक चित्रों के लिए अथवा धार्मिक महत्व हैI

 

केंद्रीय भारत में कई अन्य पर्यटक स्थल हैं जिन में शामिल हैं- इंदौर, खजुराहो, मांडू (मध्यप्रदेश में), दुर्ग छत्तीसगढ़ में, जिस राज्य में चित्रकूट के जलप्रपात भी पाए जाते हैंI

जब आपके पास इतने सारे स्थानों में से विकल्प चुनने को उपलब्ध हो तो आपको अवश्य इनका इन पर विचार करना चाहिएI तथा यदि आप इस बात पर चिंतित हैं कि एक मजेदार यात्रा की योजना कैसे बनाई जाए तो यहां कुछ उपाय हैं जिनसे आप ऐसा कर सकते हैंI