जब बचत की बात आती है तो अधिक सचेत हो जाते हैं ? यहां बताया गया है कि अपने पैसे को बेहतर तरीके से कैसे निवेश करें

जब पैसे बचाने की बात आती हैं तो क्या आप ' ज़रूरत से ज्यादा सचेत' हो जाते हैं? यदि आपका उत्तर ’हां’ है, तो यह लेख आपके लिए है |

जब बचत की बात आती है तो अधिक सचेत हो जाते हैं ? यहां बताया गया है कि अपने पैसे को बेहतर तरीके से कैसे निवेश करें

पुरुषों की तुलना में ,महिलाओं को अधिक सतर्क माना जाता है और यह उनकी निवेश शैली में भी परिलक्षित होता है। स्क्रिपबॉक्स के एक सर्वेक्षण के अनुसार, 58% महिलाएं अपना पैसा फिक्स्ड डिपॉजिट (एफ.डी.), पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पी.पी.एफ.) में रखना पसंद करती हैं, या इसे अपने बचत खातों में पड़े रहने देती हैं।

कम जोखिम लालसा होने के कारण महिलाएं इन मार्गों की ओर झुकाव करती हैं। हालांकि ये उपकरण सुरक्षित हैं, वे अन्य फंडों जैसे कि म्यूचुअल फंड की तुलना में रिटर्न के मामले में कुछ अधिक प्रदान नहीं करते हैं।

एक और कारण सुगमता है। लगभग 44% महिलाओं ने एक सर्वेक्षण में कहा कि जब कोई निवेश विधि चुनने की बात आती है तो उनके लिए पैसे तक आसान पहुंच एक महत्वपूर्ण कारक है। फिक्स्ड डिपॉजिट और बचत खाते उन्हें यह सुगमता देते हैं।

सर्वेक्षण से पता चला कि महिलाएं म्यूचुअल फंड में निवेश करती हैं, लेकिन उनकी संख्या बहुत कम है - केवल 15% के आसपास। स्पष्ट रूप से, वे अपने पैसे का निवेश ऐसी जगह करने में सहज नहीं होती जहां जोखिम शामिल है या जहां उनकी तरलता कम हो ।

सर्वेक्षण में यह भी जानकारी दी गई कि कैसे बचत पैटर्न और जीवन लक्ष्य आयु वर्ग के हिसाब से अलग-अलग होते हैं। मिलेनियल लोगों के बीच, यात्रा के लिए एक तरफ पैसा रखना एक सर्वोच्च प्राथमिकता थी, हालांकि गैर-मिलेनियल ने सेवानिवृत्ति निधि निर्माण और अपने बच्चों की शिक्षा के लिए पैसे बचाने को चुना।

गैर-मिलेनियल भी अधिक परिपक्व निवेशकों के रूप में उभरे। यह मालूम पड़ता है कि यद्यपि उनमें से 33% लोग एफडी, पीपीएफ और जीवन बीमा को महत्वपूर्ण मानते हैं, 26% की राय थी कि म्यूचुअल फंड उन्हें अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं।

चिंता की बात यह है कि कई महिलाएं पैसे संभालते समय आत्मविश्वास से पूर्ण नहीं दिखी । वे परिवार के पुरुष सदस्यों पर वित्तीय नियोजन को छोड़कर, अपने वित्त का प्रभार लेने के लिए अनिच्छुक हैं। सर्वेक्षण के अनुसार, केवल 28% महिलाएं वित्तीय योजना के लिए अपने दृष्टिकोण को लेकर आश्वस्त थीं।

जबकि 15% महिलाएं इसे परिवार के अन्य सदस्यों पर छोड़ना पसंद करती हैं, 44% ने कहा कि वे बेहतर योजना बनाने में दूसरों से मदद लेना चाहेंगी। यदि आप बाद वाले समूह में हैं, तो अपने धन का बेहतर उपयोग करने और उच्च रिटर्न प्राप्त करने में आपकी मदद करने के तरीकों की इस सूची को पढ़ें।

कंपाउंडिंग की शक्ति पर चलें

चक्रवृद्धि ब्याज आपको अपने ब्याज पर ब्याज अर्जित करने की छूट देता है। उदाहरण के लिए, यदि आप प्रति वर्ष 7% की आय वाले डेट इंस्ट्रूमेंट में प्रति माह 10,000 रुपये का निवेश करते हैं, तो पहले वर्ष के बाद आपकी ब्याज आय 4648.75 रुपये होगी। हालांकि, कंपाउंडिंग की शक्ति को धन्यवाद, जिससे वही ब्याज आय 10 साल की अवधि में 5.41 लाख रुपये तक बढ़ता चला जाएगा ।

इसका मतलब यह है कि आप अपनी निवेश यात्रा जितनी जल्दी शुरू करेंगे,उतना अधिक धन जमा कर सकते हैं। आप विभिन्न बैंकों और पीपीएफ की ब्याज दरों से फिक्स्ड डिपॉजिट दरों की तुलना करके निवेश के सर्वोत्तम विकल्पों की जांच कर सकते हैं।

एक बात का ध्यान रखें कि एफडी अपेक्षाकृत तरल होते हैं। आपातकाल के मामले में आप अपना पैसा आसानी से निकाल सकते हैं, लेकिन फिक्स्ड डिपाजिट और पी.पी.एफ. निकासी के मामले में ऐसा नहीं है।

अपने निवेश को स्वचालित करें

वित्तीय अनुशासन लाने के लिए एक स्वचालित निवेश योजना बहुत अच्छी रणनीति हो सकती है। आपके वेतन खाते से पैसा ,पहले से तय पोर्टफोलियो रणनीति के अनुसार फिक्स्ड डिपाजिट, म्यूचुअल फंड ,सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एस.आई.पी.), डायरेक्ट इक्विटी, गोल्ड फंड, इंश्योरेंस, आदि निवेश योजनाओं के प्रकारों में मासिक रूप से निवेश किया जा सकता है। यह न केवल आपकी मेहनत से अर्जित धन की विवेकपूर्ण परिनियोजन सुनिश्चित करता है, बल्कि आपको डेट निवेश के लिए कंपाउंडिंग का लाभ उठाने और इक्विटी-आधारित निवेशों के लिए खरीद लागत को औसत करने देता है।

वार्षिकीयों में निवेश करें

महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक समय तक जीवित रहती हैं, लेकिन उनका करियर भी कम होता है। इसका मतलब है कि उनके पास सेवानिवृत्ति के बाद एक आरामदायक और स्वतंत्र जीवन के लिए संसाधनों को जमा करने के लिए कम समय है। वार्षिकियां एक निश्चित आय प्रवाह प्रदान कर सकती हैं जो आपके सूर्यास्त के वर्षों का ध्यान रखे। प्राप्य वार्षिकी आपके योगदान पर निर्भर करती है। आप एक सेवानिवृत्ति योजना कैलकुलेटर का उपयोग आपके रहने के खर्च, किराने का सामान, स्वास्थ्य सेवा आदि के आकलन करने के लिए कर सकते हैं जिससे मालुम रहे की आपको कितनी आवश्यकता होगी और तदनुसार अपने योगदान की योजना बनाएं।

इक्विटी के साथ लाभ बढ़ाएं

हालांकि डेट निवेश एक सुरक्षित मार्ग है, उन पर भारी कर भी लगाया जाता है। आप एक फिक्स्ड डिपाजिट कैलकुलेटर का उपयोग यह देखने के लिए कर सकते हैं कि अधिकांश डेट निवेशों पर वास्तविक रिटर्न महंगाई दर को कवर नहीं करता है, जिससे आपका वास्तविक रिटर्न लगभग शून्य हो जाता है। जबकि इक्विटी एक निश्चित जोखिम पेश करता है, लंबी अवधि में जोखिम औसत हो जाती है, जो काफी अधिक रिटर्न प्रदान करता है।

उम्र -अनुसार एसेट-आवंटन मिश्रण का पालन करना एक विवेकपूर्ण रणनीति हो सकती है। आप बस अपनी वर्तमान आयु को 100 से घटाएं और शेष राशि आपके एसेट आवंटन प्रतिशत के बराबर होगी। इसलिए, 28 वर्षीय महिला के लिए, उसके दीर्घकालिक निवेश का लगभग 72% इक्विटी-आधारित उत्पादों की ओर होना चाहिए।

आपके आदर्श निवेश पोर्टफोलियो को आपके जोखिम की भूख, जीवन के लक्ष्यों और समयसीमा ध्यान में रखना चाहिए। कोई एक निति सब पे जंचे, ऐसी कोई रणनीति नहीं है, लेकिन आपको कम उम्र में इक्विटी के उच्च अनुपात के लिए लक्ष्य करना चाहिए जब आप अधिक जोखिम उठा सकते हैं।

डिस्क्लेमर : यह लेख केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है और इसे निवेश या कर या कानूनी सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। इन क्षेत्रों में निर्णय लेते समय आपको अलग से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

संबंधित लेख

 

Most Shared