जीवनशैली मुद्रास्फीति क्या है और इसके लिए कोई वित्तीय योजना कैसे बनाता है

यदि आपको लगता है कि आप जीवनशैली की मुद्रास्फीति के शिकार हो रहे हैं, तो इस धन को कम करने वाले छिपे कारक के लिए यहां पांच सुधारात्मक कार्य किए जा रहे हैं।

जीवनशैली मुद्रास्फीति क्या है और इसके लिए कोई वित्तीय योजना कैसे बनाता है

'रोटी, कपडा, और मकान ’1960 और 1970 के दशक में एक लोकप्रिय नारा था। लेकिन भारतीय जीवन लक्ष्य समय के साथ विकसित हुए हैं। फिल्मी सितारों और सोशल मीडिया प्रभावितों द्वारा दर्शायी उच्च प्राप्य आय और उच्च आकांक्षाओं के कारण आज मिलेनियल अच्छी जिंदगी चाहते हैं।

शहरी भारतीय ठाठ-बाट वाले द्वार के कॉम्प्लेक्स में रहना चाहते हैं, साथ के लिए एक पालतू जानवर रखते हैं, हर साल एक बार विदेश यात्रा करने की इच्छा रखते हैं, हर नई फिल्म को देखते हैं, और संगीत और नाटकों में सम्मिलित होते हैं। उन्हें बार-बार सामाजिक बनने और शौक के रूप में ऑनलाइन खरीदारी करने की आवश्यकता है।

जैसा कि भारत का विशाल मध्यम वर्गीय आज जोखिम भरा काम कर रहा हैं और बदले में आकांक्षात्मक होता जा रहा है, इसकी प्राथमिकताएं बदल गई हैं। इससे पिछले दशक में विवेकाधीन खर्चों में तेज वृद्धि हुई है। दस साल पहले, मासिक बजट में गैर-जरूरी खर्च लगभग 5% -20% होता था, और आज शहरी घरों में यह 20% से 60% के बीच है।

जीवन लक्ष्य बदलना

आज मिलेनियल्स का झुकाव अपरंपरागत जीवन लक्ष्यों की ओर है। ईटी वेल्थ के एक सर्वेक्षण के अनुसार, बच्चों की शिक्षा के लिए , घर खरीदने के लिए , रिटायरमेंट के लिए बचत करना, कार खरीदना और बच्चों की शादी के लिए प्रावधान करना एक दशक पहले ,भारतीय घराने के शीर्ष पांच लक्ष्य थे। बच्चों की शिक्षा आज भी एक प्राथमिकता है, लेकिन छुट्टी पर जाना,सर पे छत होने की जरूरत से ज्यादा हो गई है।

लोग अपनी ’जरूरतों’ का पता लगाए बिना 'अपनी चाहतों ’पर बहुत अधिक खर्च कर रहे हैं। मोबाइल हैंडसेट और एक्सेसरीज़ को हर साल अपग्रेड करना होता है । इसी तरह, स्वास्थ्य और फिटनेस से संबंधित खर्च केवल जिम सदस्यता तक ही सीमित नहीं हैं। सबको नई कसरत के लिए अलमारी, एक्सेसरीज, और महंगी डाइट सप्लीमेंट की जरूरत हो रही है।

कुछ लोग फिटनेस पर खर्च करते हैं, जबकि अन्य लोगों को गैजेट,ऐशो-आराम की चीज़ों या अपने शौक की ओर खर्च करने का झुकाव हो सकता है। शहरी भारतीय आशावादी हो सकते हैं, लेकिन वे जीवन शैली की मुद्रास्फीति से निपटने के लिए बिलकुल तैयार नहीं हैं। इससे उनके वित्तीय लक्ष्यों पर दीर्घकालिक प्रभाव हो सकते हैं।

चुनौती के लिए कमर कस लें

कार्यस्थल में अच्छा प्रदर्शन करने और उच्च वेतन प्राप्त करने के बावजूद, कई मिलेनियल्स अपने बैंक बैलेंस को वैसे ही इस्तेमाल कर रहे हैं जैसा कि उन्होंने अपना करियर शुरू करते समय किया था। यदि आपको लगता है कि आप भी जीवन शैली की मुद्रास्फीति के शिकार हो रहे हैं, तो यहां कुछ उपचारात्मक क्रियाएं दी गई हैं जिसका उपयोग आप छिपे हुए धन घटाने वाले कारक से लड़ने के लिए कर सकते हैं।

1. अपनी जीवन शैली की जरूरतों की समीक्षा करें

आपकी जीवन शैली को सुधारने में कोई बुराई नहीं है जब आपकी प्राप्य आय बढ़ जाती है। मुद्दा तब है,जब आपको अपनी मेहनत से कमाए गए पैसे को बिना ज़रूरत की चीजों पर खर्च करके 'वैकल्पिक लागत' खोया है । याद रखें, सभी जीवनशैली के खर्च बड़ी खरीद नहीं होती हैं। इन दिनों, हममें से अधिकांश कैब बुक करने या ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने से पहले दो बार नहीं सोचते हैं। इस तरह के छोटे से व्यक्तिगत ट्रांसक्शन नुक्सान-रहित लग सकता है, लेकिन यह आपके दीर्घकालिक वित्त के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य पर भी स्नोबॉल प्रभाव डाल सकता है।

अपने काम को ठीक करने की शुरुआत आपके खर्च करने की आदतों के प्रति जागरूक होने के साथ शुरू होती है। जैसा कि कहावत है, एक रूपया बचाया एक रुपया कमाया के सामान होता है।

2. अपने बजट की सीमा में रहे

अच्छी तरह से तैयार पूर्वनिर्धारित बजट अपने खर्चों का हिसाब रखने का सबसे अच्छा तरीका है। अपनी जीवनशैली की जरूरतों के लिए वित्तीय संसाधनों को आवंटित करने से पहले ई.एम.आई. / किराया, उपयोगिताओं, निवेश और देनदारियों जैसे सभी आवश्यक खर्चों को प्राथमिकता दें। विवेकाधीन खर्चों को आपके हाथ आने वाली आय के अधिकतम 20% पर सीमित किया जाना चाहिए। एक ऐप डाउनलोड करें जो आपको कुशलता से बजट बनाने में मदद कर सकता है; यह आपको अपने जीवनशैली से संबंधित खर्चों पर पुनर्विचार करने और अनावश्यक खर्चों को खत्म करने के लिए मजबूर करेगा।

3. अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राथमिकता दें

अपने परिवार के साथ बैठें और अपने वित्तीय लक्ष्यों की योजना बनाएं। आपको अपने लक्ष्यों को लघु-, मध्यम, और दीर्घकालिक के रूप में वर्गीकृत करने की आवश्यकता है, और उन्हें प्राप्त करने के साधनों को सूचीबद्ध करें। आप ऋण चूका सकते हैं अगर आप चाहें , घर खरीद सकते हैं, अपने बच्चे की शिक्षा के लिए बचत कर सकते हैं या सेवानिवृत्ति की योजना बना सकते हैं। अपने लक्ष्यों की एक समयावधि बनाएं और उसी के अनुसार अपने निवेश पर ध्यान दें।

वेतन वृद्धि, प्रोत्साहन राशि / कमीशन, बोनस, या कोई भी अप्रत्याशित लाभ को अपने वित्तीय लक्ष्यों की तरफ तेज़ी से पहुँचने की दिशा में निर्देशित किया जाना चाहिए। स्पष्ट उद्देश्यों के बिना उन चीजों पर खर्च करना आसान है जो आपके दीर्घकालिक धन सृजन में बाधा डालेंगे।

4. अपने निवेश को स्वचालित करें

जीवन शैली की मुद्रास्फीति का मुकाबला करने का एक स्मार्ट तरीका है अपने निवेश को स्वचालित करना।अपने बैंक में स्थायी निर्देश दे कि बैंक आपके वेतन आपके बैंक खाते में जमा होने के बाद , हर महीने पैसे निवेश के लिए निकालें। यहां तक ​​कि इक्विटी आधारित म्यूचुअल फंड में एस.आई.पी. के माध्यम से 5000 रुपये का निवेश, जो कि सालाना 12% रिटर्न प्रदान करता है, 10 वर्षों में आपके कोष को 11 लाख रुपये से अधिक कर देगा।

एक संरचित निवेश दृष्टिकोण तत्काल संतुष्टि नहीं दे सकता है, लेकिन यह सुनिश्चित करता है कि लंबी अवधि में आपकी जीवन शैली प्रभावित न हो ।

5. जीवनशैली से जुड़े कर्ज से बचें

जीवनशैली से संबंधित ऋण सुलभ हो गए हैं; वे पूर्व-अनुमोदित और लचीले पुनर्भुगतान विकल्पों के साथ आते हैं। वैकल्पिक रूप से, आपको बस एक क्रेडिट कार्ड स्वाइप करना होता है। आज,आप ई.एम.आई. पर लगभग कुछ भी खरीद सकते हैं। हालांकि, ऐसे मोहक प्रस्ताव आमतौर पर उच्च ब्याज दरों के साथ आते हैं और आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित करते हैं। इसलिए सावधान रहें जब अभी खरीदने और बाद में भुगतान करने का इरादा करे ; तो हो सकता है आप जितना खाना खा नहीं रहे उससे अधिक गिरा रहे हो।

अब जब आप जानते हैं कि क्या देखना है, तो इन युक्तियों का पालन करें और मुद्रास्फीति को हराकर अपने जीवन को जीएं!

संबंधित लेख

 

Most Shared