किस प्रकार शीर्ष सीईओ ने इन वित्तीय सबकों से 2020 में सफलता पाई

ऐसे सबक जिन्हें 2020 जैसे जानलेवा वर्ष से निपटने के लिए शीर्ष सीईओ लेते हैं।

किस प्रकार शीर्ष सीईओ ने इन वित्तीय सबकों से 2020 में सफलता पाई

कोविड-19 के प्रकोप से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से पूरी दुनिया के लोग प्रभावित हुए हैं। आर्थिक मंदी महामारी का मुख्य दुष्प्रभाव था, और इससे अनेक व्यावसायिक संस्थानें भी प्रभावित हुई हैं। हालांकि, शीर्ष ऐग्जिक्यूटिव की दूरदर्शिता ने सुनिश्चित किया कि अनेक कंपनियों ने अपनी प्रक्रियाओं और गुणवत्ता को सुधारने में, अपने प्रॉडक्ट लाइन को बड़ा करने में और यहां तक कि अपने ग्राहक पहुंच को विस्तारित करने में महामारी का इस्तेमाल किया। 

ऐसी सफलता के पीछे कुछ आधारभूत वित्तीय सबक होते हैं। आइए हम देखें कि वे क्या हैं।

1. आगे से लीड करना

जो साल बीत गया वह ऐसा वक्त नहीं था जब लीडर्स निर्देश दे सकें और फॉलो अप के लिए बाद में वापस आ सकें। 2020 के ज्यादातर के लिए, अपने कामगारों को इकट्ठा करने में व्यवसायों को संघर्ष करना पड़ा। स्क्वायर्ड अवे के फाउंडर मिशेल पेंकजेक जैसे प्रेरणाप्रद लीडर्स हमेशा अपने कर्मचारियों के आसपास रहते हैं और काम पूरा करने के लिए किसी भी चीज पर काम करने के लिए तैयार रहते हैं। महामारी में सफल बदलाव करने वाले लीडर्स को सिखाया कि उन्हें कामगारों की तरह ही सक्रिय रहने की जरूरत है। 

2. परिस्थिति को अपने पक्ष में मोड़ना

2020 में व्यवसाय के पास रुककर प्रतीक्षा करने का समय नहीं था। लॉकडाउन के दौरान, ऐसा लगा कि इस संकट का कोई अंत नहीं है। एक अच्छे लीडर को संचालनों और व्यवसाय शैली में बदलाव करने होते हैं ताकि बदलने परिदृश्य के अनुकूल ढला जा सके। जल्द से जल्द दूर से काम करने का माहौल तैयार करने और कर्मचारियों को सुरक्षित रूप काम करने के लिए सक्षम बनाने से अनेक व्यवसायों को टिके रहने और यहां तक कि उन्नति करने में मदद मिली। 

इससे जुड़ी बातें: 8 वित्तीय सबक जो कोविड-19 महामारी ने हमें सिखाया

3. काम के दबाव को कुशलता से प्रबंधित करना

2020 में, सामान्य कार्य दबाव का प्रबंधन करना ज्यादातर व्यवसायों के लिए संभव नहीं था। कामगारों की अनुपस्थिति और कम मांग के कारण विनिर्माण उद्योग को बहुत नुकसान हुआ। बेसकैम्प के सीईओ जैसन फ्राइड किसी एक कार्य सप्ताह में घंटों की संख्या के लिए एक सीमा निर्धारित करने में विश्वास रखते हैं ताकि गुणवत्ता और उत्पादकता सुनिश्चित हो सके ना कि कर्मचारियों पर अधिक दबाव पड़े। एक अच्छे लीडर के ऐसे गुण महामारी की स्थिति के लिए बिल्कुल अनुकूल होते हैं।

4. दक्षता बनाए रखना 

महामारी जैसा अचानक आने वाला व्यवधान आश्चर्यजनक रूप से व्यवसाय को शिकार बना सकता है। अपनी प्रक्रिया में फेरबदल करने वाले व्यवसाय ही ऐसी परिस्थितियों में टिके रह सकते हैं। बेहतर सीईओ वही होते हैं जो अपनी व्यवसाय प्रक्रियाओं में दक्षता की आवश्यकता को स्वीकार करते हैं। सुव्यवस्थित व्यवसाय प्रक्रियाओं और अनेक स्तर की नौकरशाही से बचने से सीईओ को अपनी दिशा में बदलावों की रणनीति बनाने और उसे क्रियान्वित करने में मदद मिलती है।

5. वित्तीय रूप से तैयार रहना

मांग-पापूर्ति में ठहराव का व्यवसायों पर एक जानलेवा प्रभाव पड़ सकता है। उत्पादन के लिए कुछ संसाधनों और उत्पादों की बिक्री के कुछ ही तरीकों के साथ, खुद को बनाए रखने के लिए कंपनियों को अपने एमर्जेंसी फंड पर निर्भर करना होता है। शीर्ष ऐग्जिक्यूटिव हमेशा वित्तीय सुझावों का पालन करने हैं और अपनी वित्तीय तैयारियों पर नजर रखते हैं ताकि राजस्व प्रवाह अस्थायी रूप से बंद होने पर भी संचालन खर्चों को पूरा किया जा सके। 

इससे जुड़ी बातें: 2021 और वित्तीय नियोजन: लिए जाने वाले सबक, ना की जाने वाली गलतियां

6. देयताओं को नियंत्रित रखना

व्यक्तियों और कॉरपोरेट्स की स्थिरता सुरक्षित रखने के लिए सरकार ने मोरैटोरियम स्कीम प्रदान की है। 2020 जैसे साल में, ऋण चुकाने का बोझ आपकी अर्थव्यवस्था को नष्ट कर सकता है। डेट-इक्विटी का एक अच्छा अनुपात बनाए रखने से व्यवसाय को उनके लिक्विडिटी पोजिशन में मदद मिलती है। मौजूदा ऋणों को चुकाने के लिए अप्रत्याशित अंतर्वाह का इस्तेमाल करने से आपको एक अच्छा डेट अनुपात बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

7. रणनीतिक खर्च-कटौती 

रिसर्च फॉर गार्टनर के VP अलेक्जेंडर बैंट जैसे शीर्ष ऐग्जिक्यूटिव ने पाया कि व्यवसाय प्राय: खर्च में कटौती के लिए ब्लैंकेट अप्रोच का सहारा लेते हैं। हालांकि, ग्राहक की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए नौकरी में कमी जैसे कठोर कदम उठाए जाने चाहिए। महामारी-चालित मंदी के दौर में उत्पादन को स्थायी रूप से बंद करने की जरूरत नहीं होती है। ज्यादातर उद्योग 2020 में वापस लौटने के लिए तैयार है, और उनके ऐसा करने ही, अधिकांश बंद पड़े हुए प्रतिष्ठानों को फिर से तैयार होना होगा। यह खर्च-कटौती के अधिक रणनीतिक नजरिए को न्यायोचित ठहराता है। 

8. नवाचार को बढ़ावा देना

वैश्विक नियोजन के हाइरार्की और बजटिंग सॉल्युशन प्रदाता क्यूबवाइज ने कठिन समयों में अपने कामगारों को बनाए रखने का फैसला किया और इसके बदले सारे प्रयासों को व्यवसाय के आत्म-सुधार की दिशा में लगाया। इससे कंपनी को कार्यभार को प्रभावी तरीके से वितरित करके नए समाधानों का निर्माण करने में और अपने सप्लाय चेन रिपोर्टिंग और प्लैनिंग सॉल्युशन को मजबूत करने में मदद मिली। क्यूबवाइज के लिए, महामारी इसके उत्पाद लाइन को बढ़ाने और भविष्य की सर्विस डेलिवरी को मजबूत करने का अवसर बन गया।

इससे जुड़ी बातें: सावधि जमा, बचत खाते, या लिक्विड फंड्स? महामारी के दौरान वित्तीय रूप से तैयार कैसे रहें

9. ग्राहकों के साथ जुड़ा रहना

मंदी का दौर बने रहने पर ग्राहकों को नजरअंदाज करना आसान होता है। हालांकि, दूरदर्शी शीर्ष प्रबंधन ग्राहक बेस से जुड़े रहते हैं। इस प्रकार इससे विश्वास का निर्माण हो सकता है और सूचित रखा जा सकता है। उदाहरण के लिए, कोविड-19 महामारी में दुनिया भर में कीमतों में इजाफा हुआ। कंपनियों को परिस्थितियों के बावजूद, कीमतों में हुई ऐसी वृद्धि को उचित ठहराने के लिए आपूर्ति उपलब्धता पर जोर डालकर अपने ग्राहकों को समझाना पड़ा। 

किसी भी व्यवसाय की सफलता योजना बनाने और भविष्य के लिए तैयार रहने पर निर्भर करती है। इस शाश्वत सत्य ने महामारी के दौरान अपने प्राधिकार पर मुहर लगा दी है। प्रमुख अधिकारी की दूरदर्शिता के साथ, कोई कंपनी मुश्किल समय में भी टिकी रह सकती है और बाधाओं के बावजूद भी अपने कारोबार के शीर्ष पर आ सकती है। कोविड-19 से नए निवेशकों की श्रेणी में वृद्धि हुई है, लेकिन सबक लिए जाने चाहिए

संबंधित लेख