क्या आप और आपके साथी के निवेश रणनीतियां अलग हैं ?

शादीशुदा जोड़ों के लिए पैसे सम्बंधित मामले काफी पेचीदा हो सकते हैं | हालांकि, इसका कोई निश्चित जवाब नहीं है कि उन्हें क्या करना चाहिए,परन्तु पारदर्शिता अत्यंत महत्वपूर्ण है |

क्या आप और आपके साथी के निवेश रणनीतियां अलग हैं ?

एक बार जब जोड़े बंधन में बंध जाते हैं , तो उन्हें एक दूसरे के जीवन के हर पहलु को अच्छी तरह से जान लेना चाहिए क्यूंकि अब उनके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन गहराई से जुड़े हुए हैं | शुरुआत में सही, एक महत्वपूर्ण विषय जिसके बारे में जोड़ों को बातचीत करनी चाहिए ,वह निवेश रणनीतियां और वित्तीय लक्ष्यों के बारे में है |

कई स्थितियों में, वित्तों का विलय करना लाभकारी हो सकता है क्यूंकि यह आपको बजट बनाने में, ज़िम्मेदारियों के आवंटन में और साझा भविष्य के लक्ष्यों की दिशा में संरचित तरीके से बचत करने में मदद करता है | यह आपको एक मज़बूत वित्तीय मोर्चा प्रस्तुत करने भी देता है ,खासकर जब आप एक घर या कार जैसे एसेट खरीदने के लिए ऋण का आवेदन करते हैं | परन्तु अन्य समय में, एकल रूप से इसे करना ही ज्यादा लाभकारी होता है |

'एकता' की भावना में महिलाएं अक्सर अपने पति के साथ एक संयुक्त खाता रखने के बारे में या अपने निवेश पोर्टफोलियो को विलय करने के बारे में दो बार भी नहीं सोचती हैं | हालांकि, कुछ जगहों पर अलग-अलग एसेट आधार रखना ज्यादा विवेकपूर्ण होगा |

  • ऋण आवेदन: किसी भी ऋण स्वीकृति के लिए क्रेडिट स्कोर एक प्राथमिक कारक है | हालांकि हम ऐसा मानते हैं कि एक आय स्त्रोत होने से दो होना ज्यादा अच्छा होता है,परन्तु यह आपके संयुक्त आवेदन की संभावनाओं को प्रभावित कर सकता है यदि किसी एक साथी का क्रेडिट स्कोर कमज़ोर हो|
  • क्रेडिट कार्ड डिफ़ॉल्ट, मौजूदा देनदारियां जैसे कि शिक्षा ऋण, कम क्रेडिट इतिहास आदि कुछ ऐसे चर (वेरिएबल) हैं जो आपके खिलाफ काम कर सकते हैं | यदि आपका क्रेडिट स्कोर आपके साथी से बेहतर है,तो अलग से आवेदन करने से आपके ऋण प्राप्ति की संभावना बढ़ जाती है -और वह भी कम ब्याज दर में |प्स
  • एक कार्यनीतिक संतुलन बनाने का लक्ष्य रखना: निवेश की सबसे अच्छी सलाह यह है कि कभी भी अपने सभी पैसो को एक ही जगह मत डालें | अच्छी वित्तीय योजना के लिए अपने निवेशों का विविधीकरण करना अनिवार्य है | अलग-अलग निवेश करना भी अच्छा संकेत है यदि दोनों साथियों की जोखिम की भूख अलग-अलग हो| यदि एक सतर्क है और अन्य जोखिम लेने वाला व्यक्ति है तो भिन्न-भिन्न निवेश रणनीतियां होने से एक मजबूत संतुलन सुनिश्चित हो सकता है |
  • कर अनुकूलन : म्यूच्यूअल फंड्स,स्वास्थ और जीवन बिमा,स्टॉक्स, अचल संपत्ति आदि अलग-अलग निवेशों के विभिन्न लाभ होते हैं| ये लाभ कर-कटौती योग्य होते हैं (जैसे कि इ.एल.एस.एस. निवेश) या पूंजीगत लाभ छूट प्रदान करते हैं (जैसे कि अचल संपत्ति में) | हालांकि, जब संयुक्त रूप से किया जाये तो केवल प्रथम धारक ही इन कटौतियों या लाभों का दावा कर सकता है,भले ही भुगतान संयुक्त खाते से हुआ हो |यह सलाह दी जाती है कि आप अपने खाते से कम से कम धारा 80सी के अंतर्गत कर-कटौती योग्य निवेशों (इ.एल.एस.एस.,जीवन बिमा प्रीमियम आदि ) और स्वास्थ बिमा (धारा 80डी के अंतर्गत ) में निवेश करें जिससे कि आपको मिलने वाले कर लाभ अधिकतम हो सके |
  • विचारों में मतभेदों को सुलझाएं : आप और आपके साथी कुछ निवेश निर्णयों में एक जैसा नहीं सोचते होंगे | ये मतभेद आपके रिश्ते में एक तनाव ला सकते हैं | यदि आप अपने व्यक्तिगत वित्त के लिए पूरी तरह ज़िम्मेदार हैं, तो आपको जैसा ठीक लगे,उसके अनुसार आप अपने पोर्टफोलियो में खरीदी एवं बिक्री के निर्णय ले सकते हैं | इसीलिए, विवाहित जोड़ों के लिए अलग-अलग निवेश करने से मन को शांति मिल सकती है |

दूसरी ओर, साथ में निवेश करने के कई फायदे हैं |यदि आप एक साथ निवेश करना चाह रहे हैं ,तो यहां कुछ सुझाव हैं जो आप दोनों के हितो की रक्षा के लिए एक मजबूत योजना बनाने में मदद कर सकती है |

  • एक एकीकृत निवेश रणनीति बनाएं: एक साथ बैठें और अपने समान लक्ष्यों को तय करें | इससे आपको काम करने के लिए एक स्पष्ट वित्तीय कार्यनीति मिलेगी | लक्ष्यों में एक घर /कार खरीदना, अपने बच्चे की शिक्षा के लिए बचत करना,एक आपातकालीन फंड बनाना, एक आरामदायक रिटायरमेंट के लिए बचत करना आदि शामिल हो सकता है |विवाहित जोड़ों को सफल होने के लिए उनके वित्तीय योजना में एक जैसा दृष्टिकोण साझा करना चाहिए |
  • 'मेरा पैसा' और 'हमारा पैसा' के बीच स्पष्ट सीमांकन करें : यदि आप साथ में भी निवेश कर रहे हैं, तो आपको मेरा पैसा,उनका पैसा और हमारा पैसा के बीच स्पष्ट समझ होनी चाहिए | इसका मूलतः मतलब यह है कि हालांकि आप दोनों अपने परिवार के दीर्घकालिक वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए साथ में निवेश करते होंगे, फिर भी इसकी एक सीमांकन होनी चाहिए कि कौन से निवेश आपके हैं,या उनके हैं और कौन से निवेश आप दोनों ने साथ में किये हैं | इससे स्पष्टता सुनिश्चित करने में और भविष्य में किसी भी विवाद से बचने में मदद मिल सकती है |
  • एक विवाद निपटारन प्रणाली स्थापित करें: भले ही आपका रिश्ता काफी मज़बूत हो,पर फिर भी किसी भी झगडे की संभावना के लिए आपको तैयार रहना चाहिए | आपको अपने सारे निवेश की सूचि बनानी चाहिए जिसमे किसका क्या है और पैसा किस चीज़ के लिए उपयोग करना है आदि लिखा हो| जब भी कोई विवाद हो तो इस दस्तावेज़ को पढ़ा जा सकता है | वैकल्पिक रूप से, आपको किसी भी विवाद को सुलझाने के लिए एक भरोसेमंद रिश्तेदार या कानूनी पेशेवर की मदद लेनी चाहिए |

संबंधित लेख