क्या आप एक छोटे व्यवसाय के मालिक हैं? यहां लॉकडाउन के बाद अपने व्यापार को फिर से खोलने के लिए एक गाइड दी गई है

इन कुछ उपयोगी सुझावों को देखें जो एसएमई को लॉकडाउन के बाद आसानी से काम पर लौटने में मदद कर सकता है |

क्या आप एक छोटे व्यवसाय के मालिक हैं? यहां लॉकडाउन के बाद अपने व्यापार को फिर से खोलने के लिए एक गाइड दी गई है

प्रथाएं और प्रक्रियाएं वर्षों से हमारी दिनचर्या में अंदर तक बसी है, और जैसे-जैसे लंबे समय तक चले लॉकडाउन के ख़त्म होने के बाद,लोग वापस काम पर जाना शुरू कर रहे है,और अब उनके सामने कई चुनौतियां खड़ी होगी । चूंकि पूरे भारत में चरणबद्ध तरीके से प्रतिबंध हटाए जा रहे हैं, इसलिए व्यवसायों के कार्यों में कटौती भी हो रही है । उन्हें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि संचालन आसान और निर्बाध हो और कर्मचारी और ग्राहक वांछित व्यावसायिक परिणामों की दिशा में काम करते हुए एक-दूसरे को संक्रमित न करें ।

सबसे महत्वपूर्ण बात,  लागू विभिन्न सरकारी आदेशों और सलाहों के अनुपालन में सब कुछ पूरा होना ज़रूरी है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो व्यवसायों को आवश्यक समायोजन करने और 'नई नार्मल' में ढलने में मदद करेंगे।

संक्षेप में: एसएमई के लिए सरकार के आदेश

लागू आदेश तीन व्यापक श्रेणियों में बंटे हैं - वित्त, संचालन और अनुमतियां। आइए बारी-बारी प्रत्येक को देखें।

वित्तीय

  • जिन व्यवसायों को विभिन्न चरणों के दौरान सम्पूर्ण लॉकडाउन के तहत बंद किया गया था, उन्हें लॉकडाउन के दौरान कर्मचारियों को पूर्ण मजदूरी देने से राहत प्रदान की गई है। चूंकि सरकार ने व्यवसायों को कर्मचारियों को पूर्ण मजदूरी देने के अपने पहले के आदेश को रद्द कर दिया है, इसलिए अब व्यवसायों के लिए मजदूरी के मुद्दे से जूझे बिना परिचालन फिर से शुरू करना संभव हो गया है। आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 10 (2) (1) के तहत जारी किये गए आदेश के कुछ अंश 18 मई, 2020 से बंद हो गए और इसमें मजदूरी का लागू प्रवर्तन शामिल है।
  • कारोबारी अब 12 महीने की पुनः भुगतान योजना के साथ अस्थायी नकद प्रवाह को दूर करने के लिए डिमांड लोन का लाभ उठा सकते हैं ।
  • कर दाखिल करने की समय सीमा बढ़ाकर 30 जून 2020 कर दी गई है । और कारोबार और स्थान के अनुसार कारोबारियों के लिए जीएसटी की समय सीमा भी अलग-अलग तारीखों में बढ़ा दी गई है ।
  • उत्पादों का निर्माण करने वाले व्यवसाय ,पंजीकरण के बाद ,सरकार के ई-मार्केटप्लेस पर अपने उत्पादों को सरकार को बेच सकते हैं।

संचालन 

  • फिर से काम शुरू करते समय, व्यवसायों द्वारा कुछ प्रोटोकॉल का पालन करना ज़रूरी है। विशेष रूप से, कर्मचारियों के सार्वजनिक परिवहन पर निर्भरता को खत्म करने के लिए विशेष परिवहन सुविधाएं प्रदान की जानी चाहिए । ऐसी परिवहन सुविधाएं केवल सीमित क्षमता के साथ चलायी जानी चाहिए जो वास्तविक क्षमता के ४०% से अधिक नहीं होना चाहिए ।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि आने वाले और जाने वाले कर्मचारियों के शिफ्ट बदलने के बीच संपर्क समाप्त हो या कम हो ,शिफ्टमें फेर बदल की जानी चाहिए। दोपहर के भोजन के ब्रेक में भी भीड़ को रोकने के लिए समय में फेरबदल किया जाना चाहिए । कम लोगों के एक साथ लिफ्ट में रहने के लिए लिफ्ट क्षमताओं को फिर से बदलना होगा ।
  • कर्मचारियों के बीच न्यूनतम दूरी 6 फीट होनी चाहिए। सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी रूप से कार्यस्थल पर शारीरिक उपस्थिति दर्ज़ करने की प्रक्रिया में बदलाव भी किया जाना चाहिए। इस उद्देश्य के लिए, समारोहों और टीम की बैठकों को रद्द कर दिया जाना चाहिए और डिजिटल बैठकों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए ।
  • सभी सतहों को समय-समय पर साफ और कीटाणुरहित किया जाना चाहिए ।
  • फेस मास्क पहनना सभी के लिए अनिवार्य है, और जहां भी लागू हो, दस्ताने पहनने की सलाह दी जाती है।
  • प्रवेश और निकास के दौरान सभी कर्मचारियों/अनुमत आगंतुकों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य है । उसी के रिकॉर्ड का रखरखाव, जहां भी संभव हो या आवश्यक हो, व्यवसायों को ज़रूरत पड़ने पर विभिन्न व्यक्तियों में तापमान में परिवर्तन की स्पष्ट रूप से पहचान करने में मदद मिल सकती है|
  • सभी कर्मचारियों के लिए मेडिकल इंश्योरेंस जरूरी है।

अनुमतियाँ

  • लॉकडाउन हटाने के बाद भी विभिन्न स्थानों में कुछ प्रकार के व्यवसायों के लिए प्रतिबंध लागू है । उदाहरण के लिए, उन स्थानों में जो गंभीर रूप से प्रभावित हैं, व्यवसायों को केवल पूर्व नियुक्ति के माध्यम से ग्राहक की जरूरतों को सेवा देने की अनुमति दी जाती है ताकि बड़े समूहों को एक जगह इक्कट्ठा होने से रोका जा सके ।
  • कुछ स्थानों पर रात के समय प्रतिबंध लागू रहेंगे। इसका प्रभावी अर्थ यह है कि इन स्थानों में व्यापार संचालन को समय पर बंद करने की आवश्यकता है, और कर्मचारियों/वस्तुओं के आवागमन की योजना पहले से बनाई जानी चाहिए और तदनुसार समायोजित किया जाना चाहिए । 
  • ग्राहकों के साथ व्यवहार का तरीका बदल दिया गया है-उदाहरण के लिए, परिधान खुदरा दुकानों में, ट्रायल रूम कम से कम उपयोग किया जाएगा , साथ ही खरीदे गए उत्पादों के आदान-प्रदान/बदली करने के लिए संशोधित प्रोटोकॉल होगा |

अंतिम पंक्तियाँ

विभिन्न सरकारी आदेश और नीतियां जो लागू की जा रही हैं ,वे दो प्रकार के हैं-अनिवार्य और सलाहनीय । व्यवसायों से अपेक्षा की जाती है कि वे सलाहों में अपने तरीकों से सुधार करें और अनिवार्य आदेशों का पूरी तरह से पालन करें ।संशोधित प्रोटोकॉल और सख्त अनुपालन का एक संयोजन, कर्मचारियों या ग्राहकों को संक्रमित होने से रोकने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि व्यापार संचालन सामान्य स्थिति के साथ जारी रहे । व्यवसायों को अधिक चालबाजी और धैर्य के साथ ग्राहकों को संभालने में संघर्ष करना होगा, क्योंकि ग्राहकों की जरूरतों की सर्विसिंग में देरी की संभावना से ग्राहक अनुभव प्रभावित हो सकता है।   

संबंधित लेख