ट्रेडर और निवेशक के बीच का अंतर जानें | Know the difference between a trader and an investor

बुद्धिमान निवेशक अलग-अलग पोर्टफोलियो बनाकर ट्रेडिंग और निवेश दोनों का लाभ उठाते हैं - एक लाभ प्राप्त करने के लिए और दूसरा धन सृजन करने के लिए।

ट्रेडर और निवेशक के बीच का अंतर जानें

इक्विटी बाजारों के संदर्भ में निवेश करना और ट्रेड करना अक्सर एक दूसरे के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। हालांकि, ये दो बहुत अलग दृष्टिकोण हैं - एक लाभ प्रदान करता है, दूसरा धन सृजन करता है। ऐसे:

आइए, लगभग समान मूल्य के दो अलग-अलग स्टॉक की मदद से प्रत्येक दृष्टिकोण को समझते हैं।

परिदृश्य 1: ₹25 के मौजूदा बाजार मूल्य (CMP) वाले स्टॉक X को मौलिक रूप से मजबूत माना जाता है, जिसमें दीर्घकालिक वृद्धि की क्षमता है। 

निवेशक: आज ₹25 की दर से X की 1000 यूनिट खरीदता है - 3 साल बाद इन शेयर को ₹36 की दर से बेच देता है। 

परिदृश्य 2: ₹25 के CMP वाला स्टॉक Y आवर्ती उद्योग से संबंधित है, जो इस समय बढ़ रहा है।

ट्रेडर: Y की 1000 यूनिट ₹25 की दर से खरीदता है - इसे एक सप्ताह के भीतर ₹26 की दर से बेच देता है। एक महीने के बाद फिर से ₹29 की दर से समान संख्या में यूनिट खरीदता है और ₹30.5 की दर से बेच देता है। तीसरी बार ₹28.75 की दर से खरीदता है और ₹27 की दर से बेच देता है, और अंत में ₹28 की दर से खरीदता है और ₹29.5 की दर से बेच देता है।

इन दो अलग-अलग दृष्टिकोणों में, एक निवेशक लंबी अवधि में ₹11,000 का लाभ अर्जित करता है, जबकि एक ट्रेडर तीन धनात्मक और एक ऋणात्मक ट्रेड के बाद ₹2250 का शुद्ध लाभ अर्जित करता है।

ट्रेड करना बनाम निवेश करना: एक तुलना

ट्रेड करना बनाम निवेश करना: एक तुलना

कौन सी रणनीति बेहतर है?

परंपरागत रूप से निवेश और ट्रेडिंग के बीच के अंतर को व्यक्ति के व्यक्तित्व से जोड़ा गया है (तुलना अक्सर खरगोश और कछुए की कहानी से की जाती है)। हालाँकि, यह कहना कि कोई एक रणनीति सही है या दूसरे से बेहतर है, इसे कुछ ज्यादा ही सरल करके प्रस्तुत करना होगा। हर व्यक्ति के अलग-अलग लक्ष्य और अपेक्षाएँ होती हैं, और ऐसा कोई कारण नहीं है कि उनकी जोखिम सहने की क्षमता और रणनीति विभिन्न लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए नहीं बदल सकती है। 

सही ज्ञान से लैस व्यक्ति दोनों रणनीतियों का लाभ उठा सकता है। वह मजबूत स्टॉक का एक पोर्टफोलियो बना सकते हैं जो लंबी अवधि के वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेगा, जबकि सक्रिय ट्रेडिंग के लिए फंड का एक अलग पूल अल्पकालिक लाभ प्रदान कर सकता है, जिसका उपयोग विविध खर्चों को वहन करने के लिए किया जा सकता है।

संबंधित लेख