सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC): भारत की डिजिटल करेंसी की लॉन्च की तारीख, फायदे और नुकसान

हमारी केंद्रीय वित्त मंत्री, निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट 2022-2023 में सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) लॉन्च की। CBDC को डिजिटल करेंसी के रूप में जाना जाता है, जिसने अपनी घोषणा के बाद से ही राउंड किया है। तो आइए डिजिटल करेंसी और इसे आवश्‍यक बना देने वाली हर चीज को गहराई में से समझते हैं।

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC)

आइए आरबीआई डिजिटल रूपी के बारे में जानते हैं

दुनिया भर की सरकारें इस नई तकनीक के साथ प्रयोग कर रही हैं और आंशिक रूप से ब्लॉकचेन और बिटकॉइन तकनीक के कारण कैशलेस सोसाइटी का निर्माण करने में सक्षम हो रही हैं।

आरबीआई के अनुसार, डिजिटल रुपी या सीबीडीसी एक डिजिटल करेंसी है जिसे सेंट्रल बैंक ने जारी किया है। आसान शब्दों में, यह भारतीय रूपी का एक डिजिटल रूप है। जैसे ही डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल शुरू होगा, हम इसे सामान्य रूपी की तरह इस्तेमाल करने में सक्षम होंगे। डिजिटल वॉलेट, आईएमपीएस और एनईएफटी कुछ डिजिटल रूपी के उदाहरण हैं। डिजिटल रूपी से रिटेल और होलसेल ट्रांज़ैक्शन हो सकता है।

यह भी पढ़ें: बजट 2022 में डिजिटल एसेट्स टैक्‍सेशन की घोषणा

डिजिटल रूपी और क्रिप्टोकरेंसी में क्या अंतर है?

डिजिटल रूपी लीगल टेंडर और सेंट्रलाइज्‍़ड होगा। इसका मतलब है कि डिजिटल रूपी को रेगुलेट किया जाएगा। ब्लॉकचेन, क्रिप्टोकरेंसी और बिटकॉइन जैसी तकनीकें लीगल टेंडर नहीं हैं और सरकारी प्राधिकरण या बैंकों के पास नहीं हैं। क्रिप्टोकरेंसी को एक वर्चुअल एसेट के रूप में देखा जाता है, न कि लीगल टेंडर  के रूप में। 

डिजिटल रूपी का क्या महत्व है?

सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) या डिजिटल रूपये को लॉन्च करने के पीछे का मुख्य कारण यह है कि दुनिया डिजिटल करेंसी की ओर बढ़ रही है, और भारत बाकी दुनिया से पीछे नहीं रहना चाहता है। डिजिटल रूपी को लॉन्च करने का एक अन्य मुख्‍य कारण यह था कि प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसी का इस्‍तेमाल आतंकवाद, कर चोरी, मनी लॉन्ड्रिंग आदि के लिए किया जा सकता है। 

डिजिटल रूपी को शुरू करने से भारतीय डिजिटल अर्थव्यवस्था को बड़े पैमाने पर बढ़ावा मिलेगा। ऐसी भविष्यवाणी की गई है कि मौजूदा करेंसी मैनेजमेंट सिस्‍टम की तुलना में डिजिटल करेंसी बहुत कम खर्चीली और अधिक कुशल होगी। 

यह भी पढ़ें: क्रिप्टोकरेंसी और अन्य डिजिटल एसेट्स के बारे में घोषणा

आरबीआई डिजिटल रुपी कब लॉन्च करेगा?

लॉन्च की तारीख की घोषणा अभी नहीं की गई है। हालांकि, 2022-2023 वित्तीय वर्ष में किसी समय डिजिटल रुपया अपना भव्य प्रवेश करेगा 
क्या यह सच है कि भारत सरकार ने डिजिटल करेंसी के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है? 

कम से कम हमारे देश में, बिटकॉइन जैसी तकनीक को अभी भी लीगल टेंडर के रूप में मान्यता नहीं मिली है। डिजिटल रूपी डिजिटल करेंसी की ओर बढ़ने का एक तरीका है। टैक्‍सेशन उद्देश्यों के लिए, वर्चुअल करेंसी बनाना आवश्‍यक था। दूसरी ओर, टैक्‍सेशन को अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है, क्योंकि डिजिटल करेंसी को अब केवल मान्यता दी जा रही है। 

हमारे केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी पर चर्चा चल रही है और एक बार जब वह समाप्‍त हो जाएंगी, तो यह स्पष्ट हो जाएगा कि लीगल टेंडर क्या है और क्या नहीं है।

यह भी पढ़ें: डिजिटल रूपी से लेकर एक्‍सटेंडेड ईसीएलजीएस तक, बजट 2022 में सब कुछ नया है

सीबीडीसी डिजिटल पेमेंट के क्या फायदे और नुकसान हैं?

फायदे

1. सीबीडीसी के साथ भुगतान अंतिम होगा। इसका मतलब है कि फाइनेंशल सिस्‍टम के माध्यम से सेटलमेंट का जोखिम कम हो जाएगा।
2. यह रीयल-टाइम पेमेंट की अनुमति देगा।
3. यह किफायती होगा।
4. एक व्यक्ति दुनिया में कहीं भी किसी भी समय भुगतान कर सकता है। उदाहरण के लिए, भारत में एक व्यक्ति रीयल-टाइम में संयुक्त राज्य अमेरिका को डिजिटल पैसा भेज सकता है।
5. टाइम ज़ोन का अब कोई भी कारक नहीं होगा।

नुकसान

1.    अभी तक, फाइनेंशल सिस्‍टम पर सीबीडीसी के प्रभाव के परिणाम का अनुमान लगाना असंभव है।
2.    वित्तीय अपराधों पर लगाम लगाने के लिए, सरकार को बहुत अधिक नियंत्रण और निरीक्षण लागू करना होगा।
3.    अपराधी अभी भी मौजूद रहेंगे, लेकिन वे बैंकिंग सिस्‍टम में फिज़िकल रूप से नहीं बल्कि डिजिटल रूप से ऐसा करेंगे।
4.    चोरी की भी संभावना है। 
 

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख