Loan against shares: अब शेयर्स के बदले लोन की सुविधा भी है उपलब्ध।

Mirae Assest Group ने एक क्रांतिकारी योजना की शुरुआत की है जिसके तहत आप अपने शेयर्स गिरवी रख कर लोन की सुविधा का लाभ ले सकते हैं। आइये जानते हैं कंपनी द्वारा शुरू की गई इस बेहतरीन सुविधा के बारे में-

Loan against Shares

Mirae Asset Group Loan against shares: Stock Market के सभी सम्मानित निवेशकों के लिए एक बढ़िया खबर यह है कि मिरे एसेट ग्रुप द्वारा लोन अगेंस्ट शेयर्स या शेयर गिरवी रखकर लोन देने की योजना की शुरुआत की गई है जिसके तहत कंपनी 9 % वार्षिक ब्याज़ की वार्षिक ब्याज़ की दर से लोन दे रही है। यदि आपके पास कुछ High Performing Shares हैं आपको पैसे तो चाहिए लेकिन आप अपने शेयर बेचना नहीं चाहते हैं तो शेयर गिरवी रख कर लोन लेने का विकल्प आपको भा सकता है। 

शेयर के बदले मिलेगा लोन

जी हाँ, अब आपको यह लोन एनएसडीएल पंजीकृत DMAT अकाउंट वाले सभी खाताधारकों के लिए उपलब्ध होगा। शेयरों के बदले आसानी से लोन पाने के लिए आपको अपनी इक्विटी का मिलान कंपनी द्वारा स्वीकृत इक्विटी सूची से करना होगा और यदि आपके पास स्वीकृत इक्विटी में से कोई इक्विटी है तो आप इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

किसने शुरू की है यह सुविधा 

मिरे एसेट ग्रुप की नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) जिसका नाम मिरे एसेट फाइनेंशियल सर्विसेज है।  इसी के द्वारा यह खास सुविधा शुरु की गई है। यह एंड टू एंड डिजिटल लोन प्रदान करने वाली एक प्रमुख कंपनी है। 

कितना मिल सकता है शेयरों के बदले लोन 

अपने इक्विटी में किये गए निवेश को इस तरह से ऑनलाइन गिरवी रखकर आप INR 10,000 से लेकर INR 1,000,0000 तक का लोन ले सकते हैं।  इसके लिए आपको एक लोन अकाउंट बनाना होगा जिसमें सारे सेटलमेंट किये जायेंगे। 

कितना देना होगा ब्याज 

इस सुविधा में सालाना 9% ब्याज़ का प्रावधान किया गया है और यह लोन राशि लोन एप्लीकेशन के दिन ही ग्राहक के अकाउंट में जमा करा दी जाती है। यह लोन असल में ओवरड्राफ्ट सुविधा की तरह है जिसमें आपके शेयर्स की वैल्यू के आधार पर तय की गई लिमिट के आधार पर आपको धन राशि उपलब्ध करा दी जाती है।  

कैसे मिलेगा लोन

इस सुविधा का लाभ MAFS एप के जरिये उठाया जा सकता है। लोन एप्लीकेशन इसी एप के जरिये किया जाएगा। इसी एप पर आपको राशि दी जाएगी और इसी पर सारे लेनदेन का हिसाब भी रखा जायेगा। अन्य सारे काम जैसे लोन चुकाना, अकाउंट बंद करवाना आदि इसी एप के जरिये होंगे। 

क्या ये योजना है एक गेम चेंजर?

बैंकिंग सेक्टर द्वारा गोल्ड लोन स्कीम को प्रोत्साहित किये जाने और RBI द्वारा GOLD MONETIZATION स्कीम लाने के पीछे मंतव्य यही था कि एक एसेट को अधिक से अधिक उपयोगी बनाया जा सके। स्टॉक मार्किट में लोन अगेंस्ट शेयर्स के प्रति कंपनियों के रुझान से पता चल रहा है कि ये एक संभावनाशील क्षेत्र है और निवेशकों के लिए यह बेहद उम्दा अवसर भी है क्योंकि अब आपके शेयर केवल एक आयडल एसेट नहीं हैं बल्कि किसी भी जरूरत के वक़्त इनके एवज में ऋण भी लिया जा सकता है।  

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Mirae Asset Group Loan against shares: Stock Market के सभी सम्मानित निवेशकों के लिए एक बढ़िया खबर यह है कि मिरे एसेट ग्रुप द्वारा लोन अगेंस्ट शेयर्स या शेयर गिरवी रखकर लोन देने की योजना की शुरुआत की गई है जिसके तहत कंपनी 9 % वार्षिक ब्याज़ की वार्षिक ब्याज़ की दर से लोन दे रही है। यदि आपके पास कुछ High Performing Shares हैं आपको पैसे तो चाहिए लेकिन आप अपने शेयर बेचना नहीं चाहते हैं तो शेयर गिरवी रख कर लोन लेने का विकल्प आपको भा सकता है। 

शेयर के बदले मिलेगा लोन

जी हाँ, अब आपको यह लोन एनएसडीएल पंजीकृत DMAT अकाउंट वाले सभी खाताधारकों के लिए उपलब्ध होगा। शेयरों के बदले आसानी से लोन पाने के लिए आपको अपनी इक्विटी का मिलान कंपनी द्वारा स्वीकृत इक्विटी सूची से करना होगा और यदि आपके पास स्वीकृत इक्विटी में से कोई इक्विटी है तो आप इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

किसने शुरू की है यह सुविधा 

मिरे एसेट ग्रुप की नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) जिसका नाम मिरे एसेट फाइनेंशियल सर्विसेज है।  इसी के द्वारा यह खास सुविधा शुरु की गई है। यह एंड टू एंड डिजिटल लोन प्रदान करने वाली एक प्रमुख कंपनी है। 

कितना मिल सकता है शेयरों के बदले लोन 

अपने इक्विटी में किये गए निवेश को इस तरह से ऑनलाइन गिरवी रखकर आप INR 10,000 से लेकर INR 1,000,0000 तक का लोन ले सकते हैं।  इसके लिए आपको एक लोन अकाउंट बनाना होगा जिसमें सारे सेटलमेंट किये जायेंगे। 

कितना देना होगा ब्याज 

इस सुविधा में सालाना 9% ब्याज़ का प्रावधान किया गया है और यह लोन राशि लोन एप्लीकेशन के दिन ही ग्राहक के अकाउंट में जमा करा दी जाती है। यह लोन असल में ओवरड्राफ्ट सुविधा की तरह है जिसमें आपके शेयर्स की वैल्यू के आधार पर तय की गई लिमिट के आधार पर आपको धन राशि उपलब्ध करा दी जाती है।  

कैसे मिलेगा लोन

इस सुविधा का लाभ MAFS एप के जरिये उठाया जा सकता है। लोन एप्लीकेशन इसी एप के जरिये किया जाएगा। इसी एप पर आपको राशि दी जाएगी और इसी पर सारे लेनदेन का हिसाब भी रखा जायेगा। अन्य सारे काम जैसे लोन चुकाना, अकाउंट बंद करवाना आदि इसी एप के जरिये होंगे। 

क्या ये योजना है एक गेम चेंजर?

बैंकिंग सेक्टर द्वारा गोल्ड लोन स्कीम को प्रोत्साहित किये जाने और RBI द्वारा GOLD MONETIZATION स्कीम लाने के पीछे मंतव्य यही था कि एक एसेट को अधिक से अधिक उपयोगी बनाया जा सके। स्टॉक मार्किट में लोन अगेंस्ट शेयर्स के प्रति कंपनियों के रुझान से पता चल रहा है कि ये एक संभावनाशील क्षेत्र है और निवेशकों के लिए यह बेहद उम्दा अवसर भी है क्योंकि अब आपके शेयर केवल एक आयडल एसेट नहीं हैं बल्कि किसी भी जरूरत के वक़्त इनके एवज में ऋण भी लिया जा सकता है।  

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

संवादपत्र

संबंधित लेख