Think Before You Decide to Buy Electric Vehicles and Non-Electric Vehicles: इलेक्ट्रिक वाहन और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने का निर्णय लेने से पहले सोचें

इलेक्ट्रिक और नॉन इलेक्ट्रिक वाहनों के ऋण पर ब्याज दर

इलेक्ट्रिक व्हीकल्स

आज बाजार में नए-नए इलेक्ट्रिक वाहन आ रहे हैं और लोग इनकी ओर काफी आकर्षित भी हो रहे हैं। इलेक्ट्रिक और नॉन इलेक्ट्रिक वाहन में से क्या खरीदा जाए यह निर्णय लेना सबके लिए चुनौती भरा होता है। अगर आप भी इसी उलझन में फंसे हैं तो अपनी आर्थिक स्थिति और सुविधा के हिसाब से किसी एक का चुनाव करें। 

इलेक्ट्रिक वाहन पर्यावरण-अनुकूल होने के साथ-साथ दैनिक यात्रा पर होने वाले खर्च को कम करने में एक बेहतर विकल्प हो सकते हैं। यह आपको आए दिन ईंधन (पेट्रोल-डीजल) की बढ़ती कीमतों की चिंता करने से छुटकारा दिलाता है। लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करना ज़रुरी होता है। इन वाहनों में रिन्यूएबल एनर्जी या अक्षय ऊर्जा का उपयोग किया जाता है। इसलिए ये वाहन वातावरण को प्रदूषित नहीं करते हैं। इनके रखरखाव पर खर्च भी कम होता है। 

कुछ राज्यों में इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर कर में भी छूट दी जाती है। इस तरह यह आपके वित्तीय खर्चों को भी कम करता है। इलेक्ट्रिक वाहन को चलाना भी बहुत आसान है, क्योंकि इसमें गियर नहीं होते हैं।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

नॉन-इलेक्ट्रिक वाहनों और इलेक्ट्रिक वाहनों की तुलना

इलेक्ट्रिक वाहन की कीमत बहुत से लोगों को काफी अधिक लग सकती है और इसे खरीदने में पैसों की समस्या हो सकती है। इसके अलावा वाहन चार्ज करने के इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी भी एक खास मुद्दा है। जिसके कारण इलेक्ट्रिक वाहन का उपयोग प्रभावित हो सकता है। आज कई कार कंपनियां देश में इलेक्ट्रिक वाहन लॉन्च कर रही हैं, फिर भी बाजार में ग्राहकों के लिए बहुत सीमित विकल्प उपलब्ध हैं। 

वहीं दूसरी ओर, नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन सस्ते से लेकर महंगे बजट के रेंज में उपलब्ध हैं। ग्राहक अपनी पसंद के नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन आसानी से खरीद सकते हैं। पर इसके रखरखाव पर खर्च बहुत अधिक है। ईंधन की बढ़ती कीमत इन्हें और महंगा बना देती है। नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन पर्यावरण-अनुकूल नहीं है और अगर इनका रखरखाव ठीक से न किया जाए तो ये वातावरण को काफी प्रदूषित करते हैं। नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन की दो खास बातें हैं- पहली कि ये सस्ते से महंगे तक कर तरह की कीमत में उपलब्ध है; और दूसरी, इसकी कई वेराइटी भी मिल जाती है।

इलेक्ट्रिक और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए बैंकों सहित कई वित्तीय संस्थाओं द्वारा लोन दिए जाते हैं। मगर, कभी भी वाहन खरीदने का फैसला किसी और को देखकर नहीं करना चाहिए। वाहन खरीदते समय उसमें उपलब्ध सुविधाओं और सुरक्षा की जांच करनी बहुत जरूरी है। यह भी देख लें कि वाहन आपकी जरुरत के लिए सही है या नहीं। सबसे ज़रूरी है अपने बजट पर बिचार करना। वित्तीय परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए आपको हिसाब कर लेना चाहिए कि आप कितना खर्च कर सकते हैं, आपका बजट कितना खर्च करने की इजाजत देता है। 

ज़रूरत होने पर आप आप लोन लेकर भी वाहन खरीद सकते हैं। लोन लेने से पहले अलग-अलग वित्तीय संस्थाओं द्वारा प्रस्तावित ब्याज दरों की तुलना कर लेनी चाहिए। इलेक्ट्रिक वाहन और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए प्रस्तावित किए गए ऋण के ब्याज दरों की तुलना करके आप सही फैसला ले सकते हैं। इस ऋण के लिए आपकी मासिक आय, पद, क्रेडिट स्कोर, आदि का ठीक होना भी जरूरी हो जाता है।

एक्सिस बैंक अपने ग्राहकों को सबसे सस्ते ब्याज दर यानी 7.70% ब्याज पर इलेक्ट्रिक वाहन की खरीदारी के लिए लोन दे रहा है, जबकि नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.20% ब्याज दर लोन दे रहा है। कर्नाटक बैंक इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.61% और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.71% ब्याज दर पर लोन दे रहा है। तो किसी भी वाहन को खरीदने से पहले हर पहलू पर गौर करें और उसके बाद ही निर्णय लें।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

आज बाजार में नए-नए इलेक्ट्रिक वाहन आ रहे हैं और लोग इनकी ओर काफी आकर्षित भी हो रहे हैं। इलेक्ट्रिक और नॉन इलेक्ट्रिक वाहन में से क्या खरीदा जाए यह निर्णय लेना सबके लिए चुनौती भरा होता है। अगर आप भी इसी उलझन में फंसे हैं तो अपनी आर्थिक स्थिति और सुविधा के हिसाब से किसी एक का चुनाव करें। 

इलेक्ट्रिक वाहन पर्यावरण-अनुकूल होने के साथ-साथ दैनिक यात्रा पर होने वाले खर्च को कम करने में एक बेहतर विकल्प हो सकते हैं। यह आपको आए दिन ईंधन (पेट्रोल-डीजल) की बढ़ती कीमतों की चिंता करने से छुटकारा दिलाता है। लेकिन इलेक्ट्रिक वाहन को चार्ज करना ज़रुरी होता है। इन वाहनों में रिन्यूएबल एनर्जी या अक्षय ऊर्जा का उपयोग किया जाता है। इसलिए ये वाहन वातावरण को प्रदूषित नहीं करते हैं। इनके रखरखाव पर खर्च भी कम होता है। 

कुछ राज्यों में इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर कर में भी छूट दी जाती है। इस तरह यह आपके वित्तीय खर्चों को भी कम करता है। इलेक्ट्रिक वाहन को चलाना भी बहुत आसान है, क्योंकि इसमें गियर नहीं होते हैं।

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

नॉन-इलेक्ट्रिक वाहनों और इलेक्ट्रिक वाहनों की तुलना

इलेक्ट्रिक वाहन की कीमत बहुत से लोगों को काफी अधिक लग सकती है और इसे खरीदने में पैसों की समस्या हो सकती है। इसके अलावा वाहन चार्ज करने के इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी भी एक खास मुद्दा है। जिसके कारण इलेक्ट्रिक वाहन का उपयोग प्रभावित हो सकता है। आज कई कार कंपनियां देश में इलेक्ट्रिक वाहन लॉन्च कर रही हैं, फिर भी बाजार में ग्राहकों के लिए बहुत सीमित विकल्प उपलब्ध हैं। 

वहीं दूसरी ओर, नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन सस्ते से लेकर महंगे बजट के रेंज में उपलब्ध हैं। ग्राहक अपनी पसंद के नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन आसानी से खरीद सकते हैं। पर इसके रखरखाव पर खर्च बहुत अधिक है। ईंधन की बढ़ती कीमत इन्हें और महंगा बना देती है। नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन पर्यावरण-अनुकूल नहीं है और अगर इनका रखरखाव ठीक से न किया जाए तो ये वातावरण को काफी प्रदूषित करते हैं। नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन की दो खास बातें हैं- पहली कि ये सस्ते से महंगे तक कर तरह की कीमत में उपलब्ध है; और दूसरी, इसकी कई वेराइटी भी मिल जाती है।

इलेक्ट्रिक और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए बैंकों सहित कई वित्तीय संस्थाओं द्वारा लोन दिए जाते हैं। मगर, कभी भी वाहन खरीदने का फैसला किसी और को देखकर नहीं करना चाहिए। वाहन खरीदते समय उसमें उपलब्ध सुविधाओं और सुरक्षा की जांच करनी बहुत जरूरी है। यह भी देख लें कि वाहन आपकी जरुरत के लिए सही है या नहीं। सबसे ज़रूरी है अपने बजट पर बिचार करना। वित्तीय परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए आपको हिसाब कर लेना चाहिए कि आप कितना खर्च कर सकते हैं, आपका बजट कितना खर्च करने की इजाजत देता है। 

ज़रूरत होने पर आप आप लोन लेकर भी वाहन खरीद सकते हैं। लोन लेने से पहले अलग-अलग वित्तीय संस्थाओं द्वारा प्रस्तावित ब्याज दरों की तुलना कर लेनी चाहिए। इलेक्ट्रिक वाहन और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए प्रस्तावित किए गए ऋण के ब्याज दरों की तुलना करके आप सही फैसला ले सकते हैं। इस ऋण के लिए आपकी मासिक आय, पद, क्रेडिट स्कोर, आदि का ठीक होना भी जरूरी हो जाता है।

एक्सिस बैंक अपने ग्राहकों को सबसे सस्ते ब्याज दर यानी 7.70% ब्याज पर इलेक्ट्रिक वाहन की खरीदारी के लिए लोन दे रहा है, जबकि नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.20% ब्याज दर लोन दे रहा है। कर्नाटक बैंक इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.61% और नॉन-इलेक्ट्रिक वाहन के लिए 8.71% ब्याज दर पर लोन दे रहा है। तो किसी भी वाहन को खरीदने से पहले हर पहलू पर गौर करें और उसके बाद ही निर्णय लें।

यह भी पढ़ें: मार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख