महिलाएं सुरक्षित निवेशक होती हैं ... लेकिन क्या यह हमेशा एक अच्छी बात है?

जब वित्तीय निवेश की बात आती है, तो अधिक सचेत रहना बहुत कमज़ोर कदम हो सकता है - और यदि ऐसा है, तो क्या महिलाओं के इस तरह के व्यवहार की तरफ अधिक झुकाव है?

महिलाएं सुरक्षित निवेशक होती हैं ... लेकिन क्या यह हमेशा एक अच्छी बात है?

पुरुषों की तुलना में महिलाएं स्वाभाविक रूप से अधिक सतर्क और जोखिम-प्रतिकूल होती हैं। वे उन परिस्थितियों के मुकाबले अधिक सुरक्षित रास्ते पसंद करते हैं जो धुंदले लगते हैं या जिसमे कुछ जोखिम प्रतीत होते हैं। यह सावधानी उनके बचत और निवेश के तरीकों में भी देखी जाती है। लेकिन क्या ये 'सुरक्षित' निवेश महिलाओं को महंगा पड़ रहा है? उनके पसंदीदा निवेश विकल्पों में से कुछ पर नज़र डालने के बाद यह निर्णय लें।

1. सुरक्षित निवेश विकल्प

आमतौर पर महिलाओं द्वारा किए गए निवेश विकल्प बैंकों और सार्वजनिक भविष्य निधि (पी.पी.एफ.) में सावधि जमा (एफ.डी.) होते हैं। ये ऐसे निवेश की गारंटी हैं जिसकी कभी ख़तरे में पड़ने की संभावना नहीं होती है। वे हर साल एक निश्चित ब्याज दर कमाते हैं। बैंक एफ.डी. पर अर्जित ब्याज कर योग्य है जबकि पी.पी.एफ. पर अर्जित ब्याज कर मुक्त है।

चूँकि ये दोनों निवेश कम-जोखिम या बिना जोखिम के होते हैं, इसलिए इन्हें स्मार्ट निवेश निर्णय माना जाता है। लेकिन क्या वे वास्तव में ऐसे हैं?

2. बचत बनाम निवेश

बचत तब होती है जब आप भविष्य की आवश्यकताओं की संभावना में पैसा अलग रखते हैं; वे अप्रत्याशित खर्चों के लिए एक सुरक्षा जाल होते हैं। आपकी बचत सुलभ और सुरक्षित होनी चाहिए; परिभाषा के अनुसार, उन्हें उन जगहों पर रखना चाहिए जहां वे किसी भी तरह के जोखिम में नहीं हो।

दूसरी ओर, निवेश में अच्छी तरह से नियोजित और सोचे-समझे निर्णय शामिल होते हैं जो आपको निवेशित राशि पर अधिकतम लाभ दिला सकते हैं। म्यूचुअल फंड और इक्विटी, निवेश के ऐसे रास्ते हैं जो अच्छे रिटर्न तो देते हैं लेकिन इनमे जोखिम के विभिन्न स्तर शामिल हैं। यही कारण है कि एफ.डी. और पी.पी.एफ. को निवेश के बजाय बचत के रूप में माना जाता है।

जब तक बचत एक योजनाबद्ध निर्णय होता है, तब तक आप अपने पैसे को इस तरह के कम जोखिम वाले जगहों में डाल सकते हैं, लेकिन अगर आप वास्तव में चाहते हैं कि आपका पैसा बढे, तो वे सबसे अच्छे विकल्प नहीं हैं।

3. मानसिकता में बदलाव

महिलाओं ने हाल ही में कार्यस्थल में अच्छे पद प्राप्त किये है; उनमें से कई अब ऐसे पदों पर हैं जो कि अच्छी तनख्वाह देते हैं। हालांकि, मेहनत की कमाई की सुरक्षा हमेशा उनके मन में होती है और इसलिए अक्सर वे दिमाग के बजाय दिल से निवेश करते हैं।

कुछ सुनियोजित निवेश आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान कर सकते हैं; इनके परिणाम देखने से निश्चित रूप से मानसिकता में बदलाव आएगा और महिलाओं को निवेश में उपयुक्त जोखिम उठाने की क्षमता मिलेगी और इससे बहुत अधिक कमाई होगी। जब एक बार अच्छे निवेश पोर्टफोलियो की छानबीन करने और उसे बनाने की क्षमता प्राप्त हो जाती है, तो आपकी वित्तीय स्वतंत्रता की गारंटी मिल जाती है।

4. निवेश करना क्यों महत्वपूर्ण है

एक बार जब आपके पास एक निश्चित मूल राशि बच जाती है, तो आपको उसे निवेश करना चाहिए। नहीं तो आप अपनी मेहनत की कमाई से और आय उत्पन्न करने की क्षमता का उपयोग नहीं कर पाएंगे । अपने पैसे को कम रिटर्न वाले जगह में निवेश करने से, महिलाओं को विकल्प लागत का नुकसान होता है - खोए हुए विकल्प की लागत और उससे उनकी कमाई पर पड़ने वाला असर होता है । अच्छी तरह से नियोजित निवेश आपको बहुत अधिक जोखिम के बिना, अपनी आय पर एक अच्छा रिटर्न दे सकता है।

निवेश के बेहतर फैसले कैसे लें

महिलाएं कुछ सरल तरीकों से निवेश के बेहतर फैसले ले सकती हैं। आइए उनमें से कुछ के बारे में जानें :

  • सलाह के लिए एक विश्वसनीय वित्तीय सलाहकार के पास जाएं ।
  • शीर्ष दस बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले म्यूचुअल फंड जिनका अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड हो,उनका अध्ययन करें और धीरे-धीरे उनमें निवेश करने की दिशा में पहला कदम उठाएं।
  • लाभ निश्चित करना सीखें - यानी, एक बार जब आपके निवेश से एक निश्चित आय मिल जाती है, तो अपने पोर्टफोलियो को बेच दें और नए सिरे से निवेश करें।
  • उनके द्वारा किए गए निवेश पर दूसरों से सलाह लें और उनका पालन करें, लेकिन कोई भी निर्णय लेने से पहले कुछ शोध खुद भी करें।

कम प्रतिफल उत्पन्न करने वाले रास्तों में बड़ी रकम का पैसा लगाना वित्तीय रूप से लापरवाही होती है। यहां तक ​​कि अगर यह सावधानी है जो महिलाओं को इतना चौकस होने का संकेत देती है, परन्तु यह निश्चित रूप से उन्हें अपने पैसे के प्रति 'अंधाधुंध सतर्क' बनाता है।

संबंधित लेख

 

Most Shared