बच्चों को ज़िम्मेदार बनाने के लिए एक माँ की मार्गदर्शिका

आप उनको खिलाते हैं,पढ़ाते हैं और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं। परंतु आपकी ज़िम्मेदारी यहाँ ख़त्म नहीं होती है।आपको अपने बच्चों को वित्तीय रूप से समझदार बनाना होगा।

Mothers guidance for raising financially responsible children

 एक पालक होने के नाते,आपका अपने बच्चों के प्रति अनेक ज़िम्मेदारियाँ होती है -आपसे अपेक्षा की जाती है की आप उन्हें सुरक्षित रखें, उन्हें शिक्षित करें और स्वतंत्र वयस्कों उनकी तरह उन्हें बड़ा करेगी। पर रुके। एक और बात का ध्यान रखना उतना ही महत्वपूर्ण है, वह है अच्छी धन मूल्यों की आदतें डालना। 

क्या आप बच्चों में वित्तीय ज़िम्मेदारी विकसित कर रहे हैं?
 शिक्षा की लागत में वृद्धि से लेकर और भी जटिल वित्तीय दुनिया से काम करने तक, ऐसे कई कारण हैं जिससे आज के बच्चों को पैसे की समझ रखना अनिवार्य है। यहाँ कुछ सामान्य बात हैं जो आपके बच्चों को आगे के जीवन में वित्तीय सफलता पाने में मदद कर सकता है।
 

जैसा देखते हैं, वैसा करते हैं:
 
 
यह करने का सबसे अच्छा तरीक़ा होगा, स्वयं एक उदाहरण बना। बच्चे अपने माता पिता के कार्यों और व्यवहारों का अनुकरण करते हैं। छोटी से छोटी चीज़ें भी उनके द्वारा प्रतिबिंबित होती है ,तो ध्यान दीजिए कि आप धन को कैसे संभालते हैं। जब आप रुपये देने के बजाए अनेकों बार कार्ड स्वाइप करते हैं तो आपके बच्चों को लग सकता है असल में कोई पैसा ख़र्च नहीं कर रहे हैं। उन्हें पर्दे के पीछे की बात समझाने की कोशिश करें और “प्लास्टिक मनी “ की धारणा समझाएँ।
 

पैसे पर बातचीत करने का महत्व: 
 
 
बहूत से माता पिता अपने बच्चों से पैसों पर बातचीत करने में हिचकिचाते हैं।यह ग़लत है। कम उम्र से ही, बच्चों को पैसे की क़ीमत समझनी चाहिए। बचत और निवेश से परिचित होने के अलावा, उन्हें यह जानने की ज़रूरत है की चीज़ों की क्या लागत है और बजट कैसे करें। इसलिए जब आप और आपके साथ ही इस पर चर्चा कर रहे हैं तो अपने बच्चों को भी इसमें शामिल करें। उनसे सलाह लें। उन्हें ज़िम्मेदार महसूस कराए। अपने वित्तीय व्यवहार के पीछे की सोच उन्हें समझाए ताकि वह भी उसी दिशा में सोचें।
 

 शीर्षक: पैसा महत्व रखता है -माता पिता और उनके बच्चे:टी रॉ प्राइज़ के 2017 की अमरीका के पैरेंट्स, किड्स और मनी सर्वे में 8-14 वर्ष के बच्चों और उनके पालकों का साक्षात्कार किया गया। यहाँ उनके जवाब है:
 
 

माता पिता से: इनमें से आपने अपने बच्चों को पैसे के बारे में समझाने के लिए क्या किया है?
 • उनसे दीर्घकालिक निवेश के महानतम के बारे में बात की है -  41%
 • उनसे निवेश बाज़ार की अस्थिरता के बारे में बात की है  - 20%
 • अपने वित्तीय विवरण उन्हें दिखाया है - 19%
 • इनमें से कोई भी नही  -  44%
 
 माता पिता से: पालकों को किस उम्र में अपने बच्चों को पैसा देना शुरू करना चाहिए?
 • 1-4 वर्ष की उम्र: 8%
 • 5-9 वर्ष की उम्र: 46%
 • 10-14 वर्ष की उम्र: 30%
 • 15 वर्ष और ऊपर: 9%
 • कभी नहीं: 7%
 
 बच्चों से: आप अपने माता पिता से पैसों के बारे में कितनी बार बात करते हैं?
 • कभी नहीं - 6%
 • बहूत कम - 18%
 • कभी कभी - 55%
 • बार बार - 22%
 
 बच्चों से : क्या आपको जेब खर्च मिलता है?
 •हाँ, पर मुझे इसे कमाना पड़ता है - 69%
 • हाँ, पर मुझे कमाना नहीं पड़ता है - 11%
 • नहीं - 19%
 • पक्के से नहीं कह सकते हैं- 1%


 ३) पैसे के मूल्य को समझाना:
 जब भी बच्चे माँगी तो उन्हें हर बार पैसे देने की इच्छा का विरोध करें। इसकी बजाए उन्हें कार्यों के लिए खर्चों के अलावा अतिरिक्त पैसे दे।
 इस प्रकार से वह पैसों को कमाई हुई आय समझेंगे ना की मुफ़्त का धन है। वह यह भी सीखेंगे कि कैसे यह थोड़ी सी आय किसी दिन उनके काम आ सकती है। उनकी किशोरो को जिन्हें क़ानूनी रूप से काम करने की अनुमति है , उन्हें अंश कालिक नौकरियां लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। जैसे की पार्ट टाइम ट्यूशन, बहीखाता देखने की नौकरी, प्रबंधन कार्यक्रम इत्यादि, यदि यह पाठशाला या घर के काम में हस्तक्षेप नहीं करता हो।
 
 

४) पैसा बचाना ही पैसा कमाना है:
 बच्चों को त्वरित संतुष्टि का विचार बचत से कहीं ज़्यादा अच्छा लगता है। कैंडीज या कई खिलौनों के ढेर ख़रीदने का विचार एक गुल्लक ख़रीदने से ज़्यादा आकर्षित करता है। यही कारण है कि बचत की आदत को जल्द ही प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, ताकि वह वयस्कता तक बनी रहे। यह पैसे के मूल्य को समझने का सबसे उत्तम तरीक़ा है।  वह कम से शुरुआत कर सकते हैं - कह सकते हैं, अपनी कमाई का 10 वाँ हिस्से की बचत करके बाक़ी ख़र्च कर सकते हैं । शुरुआत में एक विद्रोह हो सकता है लेकिन कुछ महीनों में वे इसका लाभ उठाएंगे । कुछ समय आप उनकी बचत की गई राशि और उनके द्वारा ख़र्च की गई राशि को पुनः बदल सकते हैं।
 
 

५) सीमाएं अच्छी है: 
 माता पिता के रूप में, आपको पता होगा की महीने के अंत में जब वित् समाप्त हो जाता है तो सब कैसे चलता है। हालाँकि आपके बच्चे ऐसे हालातों का अभी से सामना नहीं कर रहे हैं, परंतु भविष्य में इसके लिए उन्हें तैयार करना सार्थक होगा। तो उन्हें बजट के महत्व को सिखाए, और उन्हें अपने  व्यय पर एक बंधन निर्धारित करने दें। उन्हें अलग अलग जगहों में जैसे कि स्कूल परियोजना, दोस्तों के साथ यात्रा,  कैंडिस, खिलौनों इत्यादि में अपनी आय वितरित करने के लिए कहे । प्रत्येक महीने के अंत में, उन्हें अपने व्यय की समीक्षा करने के लिए प्रोत्साहित करें, और अगली बार उन्हें और समझदारी से ख़र्च करने के तरीक़े समझाए।
 
 

६) योजना बना है , जब तक आप सफल नहीं हो जाते:
 एक माँ के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह अपने बच्चों में एक छोटी उम्र से ही वित्तीय नियोजन की आदत पैदा करें। योजना एक लंबा रास्ता तय करती है। जिस तरह से आप उन्हें बचत करना और पैसे ख़र्च करना सिखाते हैं, उन्हें वयस्क होने पर यह काम आएगा। शुरुआती समय में ही योजना बनाने की आदत को बढ़ावा देने का मतलब यह होगा कि आने वाले सालों में वे यही जारी रखेंगे । 1 बार आपके बच्चे वयस्क हो जाएंगे, तो वित्तीय नियोजन उन्हें अपने बजट का ध्यान रखने, लंबी अवधि की योजना बनाने, स्वयं का ध्यान रखने को आपात स्थिति में काम करने और अपने सपनों को प्राप्त करने में सहायता करेगा। 


अन्य ज़िम्मेदारियों के साथ, वित्तीय ज़िम्मेदारी और धन प्रबंधन पहले सिखाया जाना चाहिए। जल्दी शुरुआत से बच्चों को को वित्तीय रूप से ज़िम्मेदार और वित्तीय रूप से स्वतंत्र रूप में परिवर्तित होने में आसानी होती है।

संबंधित लेख

Most Shared