न्यू फंड ऑफर (एन.एफ.ओ.) के बारे में आपके पास प्रश्न हैं?यहाँ उत्तर दिए गए हैं

यदि आप एक निवेशक हैं, तो न्यू फंड ऑफर के बारे में अधिक जानने के लिए इसे पढ़ें।

न्यू फंड ऑफर (एन.एफ.ओ.) के बारे में आपके पास प्रश्न हैं?यहाँ उत्तर दिए गए हैं

एक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (ए.एम.सी.) द्वारा पहली बार एक नई योजना के लिए किया गया एक सदस्यता प्रस्ताव है न्यू फंड ऑफर (एन.एफ.ओ.)। साधारण शब्दों में, बाजार से प्रतिभूतियों को खरीदने के लिए जनता से पूंजी जुटाने के उद्देश्य से बाजार में एक एन.एफ.ओ. लॉन्च किया जाता है। यह समय की एक निर्धारित अवधि के लिए खुला होता है। इसका प्रभावी रूप से मतलब है कि यदि आप ऑफ़र वाली कीमत पर निवेश करना चाहते हैं, तो आप इस अवधि के दौरान ही ऐसा कर सकते हैं। एन.एफ.ओ. की अवधि समाप्त होने के बाद, आप अभी भी उस म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं - लेकिन प्रचलित नेट एसेट वैल्यू (एन.ए.वी.) पर।

न्यू फंड ऑफर कैसे काम करता है?

न्यू फंड ऑफर एक इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (आई.पी.ओ.) के समान है, दोनों को व्यावसायिक अवसरों को बढ़ाने के लिए पूंजी जुटाने के उद्देश्य से लॉन्च किया गया है। एन.एफ.ओ. को मार्केटिंग अभियानों के माध्यम से ज़बरदस्त तरीके से मार्केटिंग की जाती है ताकि निवेशकों को फंड में अधिक इकाइयों को खरीदने के लिए प्रेरित किया जा सके। एन.एफ.ओ., निवेशकों के एक विशिष्ट समूह को लक्षित करता है। नतीजतन, यह आई.पी.ओ. की तुलना में व्यक्तिगत निवेशकों के लिए कम ध्यान देने योग्य हो सकता है। सार्वजनिक रूप से व्यापार शुरू करने के बाद एन.एफ.ओ. में महत्वपूर्ण लाभ होने की संभावना होती है।

क्या न्यू फंड ऑफर निवेश का अच्छा अवसर प्रदान करता है?

न्यू फंड ऑफर निम्नलिखित लाभ प्रदान करता है:

  • फंड रणनीति - एक फंड रणनीति बनाने का अवसर एक न्यू फंड ऑफर की खासियत है। इन फंड रणनीतियों में से एक ,किसी नए एसेट क्लास या कमोडिटी के लिए एक्सपोज़र हो सकता है, जो मौजूदा ओपन-एंडेड फंड में नहीं मिल सकता है। इस तरह की रणनीति पर फंड के निवेश पर रिटर्न को बढ़ावा दे सकती है।
  • पोर्टफोलियो का विविधीकरण - मार्किट में अनपेक्षित हलचल से आप के पोर्टफोलियो को किसी विशेष एसेट वर्ग की तरफ झुकाव हो सकता है। इसके लिए तुरंत ध्यान देने और ट्रैकिंग करने की आवश्यकता है। अपने जोखिम प्रोफ़ाइल और वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर आवंटन को ठीक करने के लिए पोर्टफोलियो को पुन: संतुलित करने का प्रयास करें। ऐसे समय में, अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए आप नए फंड ऑफर पर जोर दे सकते है - यह सुनिश्चित करते हुए कि समग्र पोर्टफोलियो का जोखिम एक व्यक्ति की जोखिम अभिलाषा को पूरा करता है।
  • आकर्षक ऑफर मूल्य - न्यू फंड ऑफर 10 रुपये प्रति इकाई की कीमत पर पेश किए जाते हैं। यह एक सस्ती कीमत पर एक विशिष्ट रणनीति को निष्पादित करने का एक दुर्लभ अवसर है। यदि आप एन.एफ.ओ. अवधि के बाद फंड में निवेश करते हैं, तो आप अपेक्षाकृत उच्च एन.ए.वी. पर उसी स्कीम में निवेश करते हैं।
  • तरलता - हर पोर्टफोलियो तरलता की मांग करता है, और ओपन-एंडेड फंड के न्यू फंड ऑफर में निवेश करने का प्रस्ताव इसे प्राप्त करने का एक सरल तरीका है।

न्यू फंड ऑफर को चुनने से पहले क्या ध्यान में रखें?

सब चीज़ों से पहले, सुनिश्चित करें कि फंड हाउस भरोसेमंद है और म्यूचुअल फंड उद्योग में इसकी विश्वसनीयता है। यहाँ कुछ अन्य कारक दिए गए हैं जिन को ध्यान में रखना चाहिए:

  • न्यूनतम सदस्यता राशि - एन.एफ.ओ. आमतौर पर निवेशकों से एक न्यूनतम सदस्यता राशि लेती हैं, जो कि 500 ​​रुपये से कम में शुरू हो सकता है। हालांकि, यदि आपकी निवेश की जानी वाली राशि से न्यूनतम सदस्यता राशि अधिक है, तो आप अपने विकल्पों का पुनर्मूल्यांकन कर सकते हैं।
  • समय क्षितिज - कुछ एन.एफ.ओ. लॉक-इन अवधि के साथ आते हैं जो तीन से पांच साल तक हो सकती है। ऐसे मामलों में, पूरे अवधि के लिए निवेशित रहना अनिवार्य है। सुनिश्चित करें कि आपके निवेश पूरी तरह से आपके निवेश क्षितिज और घोषित लक्ष्यों के अनुरूप हो। म्यूचुअल फंड स्कीम का एक बार सब्सक्रिप्शन हो जाने के बाद, आप क्लोज्ड एंडेड स्कीम में मैच्योरिटी से पहले अपनी यूनिट्स को रिडीम नहीं कर सकते। हमेशा एन.एफ.ओ. के समय-क्षितिज के आधार पर अपने लक्ष्यों का पुनर्मूल्यांकन करें।
  • जोखिम कारक - एन.एफ.ओ. में निवेश करने से जोखिम हो सकता है। मौजूदा फंडों के विपरीत, जहां कोई आसानी से एसेट आवंटन और जोखिमों को देख सकता है, एन.एफ.ओ. में यह सब देखने का कोई रिकॉर्ड नहीं होता है। इसलिए, आप यह आकलन करने में सक्षम नहीं होंगे कि फंड मैनेजर किस तरह से पैसा आवंटित करते हैं। कोई बेंचमार्क और कोई इतिहास नहीं होने से फंड के प्रदर्शन की भविष्यवाणी करना मुश्किल हो सकता है।
  • रिटर्न - पोर्टफोलियो से रिटर्न की उम्मीद करना स्वाभाविक है। जब एक एन.एफ.ओ. में निवेश करना विचाराधीन होता है, तो आपको पिछले रिटर्न का विश्लेषण करना चाहिए। पहले तीन वर्षों के लिए तिमाही समीक्षा करें। आप फंड के प्रदर्शन की तुलना दिए गए इंडेक्स द्वारा और पीयर फंड्स से कर सकते हैं।
  • फंड हाउस की प्रतिष्ठा - फंड हाउस की पृष्ठभूमि की जांच अनिवार्य है। सुनिश्चित करें कि इसका कम से कम 5 से 10 वर्षों के लिए म्यूचुअल फंड उद्योग में काम करने का एक मजबूत इतिहास हो। बाजार के उतार-चढ़ाव के दौरान एक मान्य फंड हाउस से अच्छे रिटर्न की संभावना होती है और आप एन.एफ.ओ. से उसके वादे अनुसार प्रदर्शन करने की उम्मीद कर सकते हैं।
  • फंड के उद्देश्य - एन.एफ.ओ. एसेट आवंटन, निवेश क्षितिज, पोर्टफोलियो जोखिम, तरलता आदि को उजागर करते हैं। यह सब उनकी स्थिरता की एक अच्छी तस्वीर देने में मदद करता है। एन.एफ.ओ. को भी स्पष्ट रूप से निवेश प्रक्रिया के बारे में जानकारी देने की आवश्यकता है। ऑफ़र दस्तावेज़ को पढ़ने के बाद, संभावित निवेशकों को यह समझ जाना चाहिए कि फंड मैनेजर अपने पैसे के साथ क्या करने जा रहा है।

एक फंड मैनेजर की भूमिका क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?

फंड मैनेजर कथित फंड रणनीति को निष्पादित करने और फंड उद्देश्य के अनुसार प्रतिभूतियों का चयन करने के लिए जिम्मेदार होता है। विशेष रूप से एन.एफ.ओ. के दौरान, फंड मैनेजर आपके निवेश का एक हिस्सा नकद के रूप में रखने और बाद की तारीख में उन्हें निवेश करने का विकल्प चुन सकता है, यदि पूरे निवेश के लिए उसे समय उपयुक्त नहीं लगता हो।

एन.एफ.ओ. फंड मैनेजरों को यह सुविधा देता है कि वो निवेशकों द्वारा बे-वक़्त निकासी की चिंता किए बिना खरीद के लिए स्वतंत्र महसूस करें । इसलिए प्रतिभूतियों का चुनाव और उनमें प्रवेश समय अत्यधिक महत्वपूर्ण है और यह फंड मैनेजर के हाथों में ही रहता है|

न्यू फंड ऑफर में निवेश की प्रक्रिया क्या है?

म्यूचुअल फंड निवेशक होने के लिए स्थायी खाता संख्या (पैन) और आपका ग्राहक (केवाईसी) को विधिवत प्रस्तुत करना आवश्यक है। आगे एन.एफ.ओ. में निवेश करने हेतु एन.एफ.ओ. के लिए आवेदन पत्र भरने और हस्ताक्षर करना ज़रूरी है , जो कि मुख्य सूचना ज्ञापन (केआईएम) नामक एक दस्तावेज के साथ उपलब्ध है।

एन.एफ.ओ. में निवेश ,इसे खोलने के 15 दिनों के भीतर किया जाना चाहिए । भुगतान एक चेक या एनईएफटी और आरटीजीएस के माध्यम से किया जाना चाहिए। एन.एफ.ओ. समाप्त होने के 5 दिनों के भीतर इकाइयों को निवेशकों को आवंटित किया जाता है और उसके बाद सभी विवरण प्रस्तुत करने वाला खाता विवरण निवेशकों को भेजा जाता है।