Nifty50 ETF: शेयर बाजार में निवेश के बेहतरीन इन्वेस्टमेंट टिप्स

मुद्रास्फीति से निजात पाने के लिए निवेशक अक्सर इक्विटी की ओर बढ़ते हैं, उनके लिए बेहतरीन इन्वेस्टमेंट टिप्स।

बेहतरीन इन्वेस्टमेंट टिप्स

Nifty50 ETF: निवेशक अक्सर महंगाई से परेशान होकर निवेश के नए तरीके ढूँढ़ते हैं और उनका सीधा रास्ता शेयर बाजार की ओर जाता है। अब जब कि शेयर बाजार नई ऊंचाइयाँ छू रहा है, तो कई नए निवेशक अपनी किस्मत भी आजमाना चाह रहे हैं। लेकिन यदि आप तय नहीं कर पा रहे हैं कि कहाँ निवेश करना चाहिए तो आप के लिए शेयर बाजार में निवेश के बेहतरीन विकल्प सुझा रहे हैं। 

कहाँ से हो निवेश की शुरुआत 

इक्विटी जो कि मुद्रास्फीति से उबरने का सबसे अच्छा तरीका लगता है उसमें निवेश के पहले कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। कंपनी की वित्तीय स्थिति, उसकी व्यवसायिक संभावनाएँ, वैल्यूएशन के साथ ही उद्योग की गतिशीलता और बाजार के मौजूदा हालात आदि को भली भाँति जानना जरूरी होता है। 

निफ्टी50 ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड Exchange Traded Fund) यह ऐसा खास सूचकांक है जो एक्सचेंज पर एक स्टॉक की तरह कारोबार करता है लेकिन म्यूचुअल फंड हाउस द्वारा इसके ऑफर दिए जाते हैं। बाजार में कामकाज के समय के दौरान ईटीएफ की इकाई (यूनिट) खरीदी या बेची जा सकती है। शेयर बाजार में अपनी पारी की शुरुआत करने के लिये निफ्टी50 ईटीएफ एक अच्छा स्टार्टिंग पॉइंट है। 

निफ्टी 50 ईटीएफ के फायदे 

निफ्टी50 ईटीएफ में बहुत ही कम रकम के साथ कारोबार शुरू किया जा सकता है। कुछ सौ रुपए लगाकर ही ईटीएफ की यूनिट पाई जा सकती है। जैसे कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी50 ईटीएफ भारतीय स्टॉक एक्सचेंज पर ₹185 पर उपलब्ध है। इस तरह नए निवेशक ₹500 से ₹1000 तक के निवेश कर सकते हैं और निफ्टी50 ईटीएफ की यूनिट खरीदी जा सकती है। यह निवेश प्रतिमाह किसी तय राशि के साथ भी किया जा सकता है। साथ ही, ऐसा करने से बाजार के सभी स्तरों पर खरीदारी की जा सकेगी और निवेश में भी औसत लागत आएगी। निफ्टी50 ईटीएफ में मिलने वाली इकाइयों में ट्रैकिंग एरर जितना कम हो उतना बेहतर होता है जैसे कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी50 का ट्रैकिंग एरर विचलन (Diviation) 0.03% है। 

यह भी पढ़ें: अस्थिर मार्केट स्टॉक: उच्च डिविडेंड 

निफ्टी50 में कौन सी कंपनियाँ शामिल हैं 

मार्केट कैपिटलाइजेशन के हिसाब से सबसे बड़ी कंपनियाँ इसमें शामिल हैं। नए निवेशक के लिए शेयर और सेक्टरों के लिहाज से यह विभिन्नता से भरा हुआ विकल्प देता है। 

डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो का महत्त्व 

निवेशक का पोर्टफोलियो डायवर्सिफाइड होना इसलिए जरूरी है क्योंकि डायवर्सिफिकेशन से जोखिम कम होता है। यदि बाजार के उतार-चढ़ाव से ज्यादा प्रभावित होना नहीं चाहते तो आपके पास अलग-अलग क्षेत्रों के स्टॉक होने चाहिए। एक ही स्टॉक से होने वाले नुकसान का खतरा कम हो जाता है। साथ ही निफ्टी50 ईटीएफ में निवेश किया जाए तो अंतर्निहित सूचकांक में उतार-चढ़ाव के आधार पर रिटर्न मिलेगा। 

ईटीएफ में निवेश करने के लिए डीमैट खाता होना आवश्यक है। जिनके पास डीमैट खाता न हो वे निफ्टी50 इंडेक्स फंड में निवेश कर सकते हैं । 

निवेश पर लागत कम 

निफ्टी50 ईटीएफ में निवेश करना इस लिए भी फायदेमंद है क्योंकि ईटीएफ निफ्टी50 इंडेक्स को निष्क्रिय रूप से ट्रैक करता है इसलिए लागत कम आती है। 

शेयर बाजार में निवेश जोखिम से भरा होता है। ग्राहक अपनी सूझबूझ और जानकारों की सलाह से निवेश कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: पेनी स्टॉक्स: 700% से अधिक रिटर्न 

नए लोग स्टॉक मार्किट में Invest कैसे करे ?

Nifty50 ETF: निवेशक अक्सर महंगाई से परेशान होकर निवेश के नए तरीके ढूँढ़ते हैं और उनका सीधा रास्ता शेयर बाजार की ओर जाता है। अब जब कि शेयर बाजार नई ऊंचाइयाँ छू रहा है, तो कई नए निवेशक अपनी किस्मत भी आजमाना चाह रहे हैं। लेकिन यदि आप तय नहीं कर पा रहे हैं कि कहाँ निवेश करना चाहिए तो आप के लिए शेयर बाजार में निवेश के बेहतरीन विकल्प सुझा रहे हैं। 

कहाँ से हो निवेश की शुरुआत 

इक्विटी जो कि मुद्रास्फीति से उबरने का सबसे अच्छा तरीका लगता है उसमें निवेश के पहले कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। कंपनी की वित्तीय स्थिति, उसकी व्यवसायिक संभावनाएँ, वैल्यूएशन के साथ ही उद्योग की गतिशीलता और बाजार के मौजूदा हालात आदि को भली भाँति जानना जरूरी होता है। 

निफ्टी50 ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड Exchange Traded Fund) यह ऐसा खास सूचकांक है जो एक्सचेंज पर एक स्टॉक की तरह कारोबार करता है लेकिन म्यूचुअल फंड हाउस द्वारा इसके ऑफर दिए जाते हैं। बाजार में कामकाज के समय के दौरान ईटीएफ की इकाई (यूनिट) खरीदी या बेची जा सकती है। शेयर बाजार में अपनी पारी की शुरुआत करने के लिये निफ्टी50 ईटीएफ एक अच्छा स्टार्टिंग पॉइंट है। 

निफ्टी 50 ईटीएफ के फायदे 

निफ्टी50 ईटीएफ में बहुत ही कम रकम के साथ कारोबार शुरू किया जा सकता है। कुछ सौ रुपए लगाकर ही ईटीएफ की यूनिट पाई जा सकती है। जैसे कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी50 ईटीएफ भारतीय स्टॉक एक्सचेंज पर ₹185 पर उपलब्ध है। इस तरह नए निवेशक ₹500 से ₹1000 तक के निवेश कर सकते हैं और निफ्टी50 ईटीएफ की यूनिट खरीदी जा सकती है। यह निवेश प्रतिमाह किसी तय राशि के साथ भी किया जा सकता है। साथ ही, ऐसा करने से बाजार के सभी स्तरों पर खरीदारी की जा सकेगी और निवेश में भी औसत लागत आएगी। निफ्टी50 ईटीएफ में मिलने वाली इकाइयों में ट्रैकिंग एरर जितना कम हो उतना बेहतर होता है जैसे कि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल निफ्टी50 का ट्रैकिंग एरर विचलन (Diviation) 0.03% है। 

यह भी पढ़ें: अस्थिर मार्केट स्टॉक: उच्च डिविडेंड 

निफ्टी50 में कौन सी कंपनियाँ शामिल हैं 

मार्केट कैपिटलाइजेशन के हिसाब से सबसे बड़ी कंपनियाँ इसमें शामिल हैं। नए निवेशक के लिए शेयर और सेक्टरों के लिहाज से यह विभिन्नता से भरा हुआ विकल्प देता है। 

डाइवर्सिफाइड पोर्टफोलियो का महत्त्व 

निवेशक का पोर्टफोलियो डायवर्सिफाइड होना इसलिए जरूरी है क्योंकि डायवर्सिफिकेशन से जोखिम कम होता है। यदि बाजार के उतार-चढ़ाव से ज्यादा प्रभावित होना नहीं चाहते तो आपके पास अलग-अलग क्षेत्रों के स्टॉक होने चाहिए। एक ही स्टॉक से होने वाले नुकसान का खतरा कम हो जाता है। साथ ही निफ्टी50 ईटीएफ में निवेश किया जाए तो अंतर्निहित सूचकांक में उतार-चढ़ाव के आधार पर रिटर्न मिलेगा। 

ईटीएफ में निवेश करने के लिए डीमैट खाता होना आवश्यक है। जिनके पास डीमैट खाता न हो वे निफ्टी50 इंडेक्स फंड में निवेश कर सकते हैं । 

निवेश पर लागत कम 

निफ्टी50 ईटीएफ में निवेश करना इस लिए भी फायदेमंद है क्योंकि ईटीएफ निफ्टी50 इंडेक्स को निष्क्रिय रूप से ट्रैक करता है इसलिए लागत कम आती है। 

शेयर बाजार में निवेश जोखिम से भरा होता है। ग्राहक अपनी सूझबूझ और जानकारों की सलाह से निवेश कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें: पेनी स्टॉक्स: 700% से अधिक रिटर्न 

नए लोग स्टॉक मार्किट में Invest कैसे करे ?

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget