पी 2 पी उधार 101: यह क्या है और आपने इस बारे में क्या समझा है?

पीयर-टू-पीयर लेंडिंग (उधार) आपकी बचत का लाभ उठाने या एक अच्छा क्रेडिट स्कोर के बिना ऋण प्राप्त करने का एक शानदार तरीका हो सकता है। कैसे, यह पता करने के लिए आगे पढ़ें।

पी 2 पी  उधार 101: यह क्या है और आपने इस बारे में क्या समझा है?

पीयर-टू-पीयर (पी 2 पी) उधार एक चर्चा का विषय बन गया है। एक हालिया रिपोर्ट बताती है कि वैश्विक पी 2 पी ऋण देने वाले बाजार ने  2014 में अनुमानित 9 बिलियन अमरीकी डालर के मुकाबले 2018 में 54 बिलियन अमरीकी डॉलर का आंकड़ा छुआ है। भारत में 30 से अधिक पी 2 पी कंपनियों ने 2016 में ऋण देने के लिए लाइसेंस प्राप्त किया है।

एक प्रमुख पी 2 पी ऋणदाता, फेयरसेंट.कॉम  ने 2018 में अपने राजस्व में पांच गुना वृद्धि देखी है। हाल ही में, आर.बी.आई. ने पी2पी ऋण देने वाली कंपनियों को एन.बी.एफ.सी. (गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों) के रूप में वर्गीकृत किया है। इसे अधिक स्वीकृति मिलने की उम्मीद है और  पी2पी ऋण में अच्छी तेज़ी  ला सकता है।

यदि आप इस पार्टी को छोड़ना नहीं चाहते हैं, तो पी 2 पी के बारे में यह जानना महत्वपूर्ण है कि क्या और कैसे - और किस चीज़ से बचें। बढ़ती पी 2 पी की दुनिया में अपने पैसे से विदा लेने से पहले कुछ चीज़ों को जानने के लिए यह  सूची पढ़ें।

1. पी 2 पी उधार क्या है?

पी 2 पी पैसे उधार लेने और  उधार देने का बाज़ार है। यह फ्लिपकार्ट या अमेज़न के अनुरूप है। विक्रेताओं और खुदरा उत्पादों के खरीदारों को जोड़ने के बजाय, यह संभावित उधारकर्ताओं और उधारदाताओं को एक-दूसरे के साथ जोड़ता है।

2. पी 2 पी उधार कैसे काम करता है?

पी 2 पी उधार में, एक उधारकर्ता जनता से या व्यक्तियों से उधार लेता है। उधारकर्ता इस प्रक्रिया से एक अच्छा ब्याज और मुनाफा कमाने के लिए पैसे देता है।

3. पी 2 पी ऋण देने के नियम क्या हैं?

18 वर्ष से अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति पी 2 पी नेटवर्क पर पैसा उधार दे सकता है। उनके पास एक वैध पैन और एक बैंक खाता होना चाहिए। कोई भी एन.बी.एफ.सी. या भारतीय कंपनी अधिनियम के तहत सूचीबद्ध कंपनियां भी उधार दे सकती हैं। 

4. पी 2 पी उधारकर्ताओं के लिए उधार देने के क्या लाभ हैं?

उधारकर्ताओं के लिए मुख्य लाभ यह है कि कोई भी ऋण का लाभ उठा सकता है, भले ही उनका क्रेडिट स्कोर एक  आवश्यक स्तर तक न हो। वे अपनी जरूरतों, चुकाने की क्षमता और नियमों और शर्तों के आधार पर चुन सकते हैं की वे किससे उधार लेना चाहते हैं।

कई प्रकार के ऋणदाता पूरी तरह से क्रेडिट स्कोर के आधार पर उधार देते हैं। और यह आमतौर पर आपके क्रेडिट कार्ड के पुनर्भुगतान और ऋण चुकौती इतिहास का उपयोग करके अनुमान लगाया जाता है। यह क्रेडिट-योग्यता की पूरी तस्वीर नहीं देता है। हालांकि, पी 2 पी उधार देने वाली साइट, शिक्षा, मासिक आय और कई अन्य व्यवहारिक पैटर्न जैसे 40+ मापदंडों का आकलन करती हैं। इनके आधार पर, उधारकर्ताओं को आमतौर पर ए, बी, सी, डी, ई या एफ श्रेणी के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, जिसमें ए सबसे कम जोखिम वाला और एफ सबसे अधिक जोखिम वाला होता है। यह इस प्रणाली को अधिक लचीला बनाता है।

उधारकर्ता के लिए एक और बड़ा लाभ यह है कि दस्तावेज़ीकरण और अन्य विवरणों के लिए बहुत कम समय की आवश्यकता होती है।

5. ऋणदाताओं के लिए पी 2 पी ऋण देने के क्या लाभ हैं?
 

ऋणदाता अपने पैसे को बैंक बचत खाते में रखने के मुकाबले इस प्रणाली से अधिक ब्याज कमा सकते हैं, यदि वे चाहें। ब्याज की औसत दर 12-28% पर आंकी गई है, और कुछ साइटें आपको 48% तक उच्च रिटर्न देती हैं।

न्यूनतम उधार 750 रुपये या 500 रुपये जैसी किसी भी मूल्य से शुरू हो सकता है। ऋणदाताओं के चूक के जोखिम के डर के कारण , अन्य प्रणालियों की तुलना में न्यूनतम सीमा काफी कम है।

6. किस बात पर पहरा देना चाहिए ?

पी 2 पी ऋण देने के बारे में सबसे बड़ी गलत धारणा यह है कि यह क्राउडफंडिंग के समान है। जबकि दोनों समान दिख सकते हैं, परन्तु उनके मौलिक सिद्धांत अलग हैं। क्राउडफंडिंग तब होता है जब लोग किसी उद्यम को पैसे दान करते हैं और इसे बढ़ते देखने की उम्मीद करते हैं। ऋणदाता के लिए कोई मौद्रिक लाभ नहीं होता है, लेकिन सद्भावना बनती है और वे कंपनी या व्यक्तिगत सफलता देखना चाहते हैं। दूसरी ओर पी 2 पी उधार, लाभ कमाने वाली प्रणाली है। एक व्यक्ति, एन.बी.एफ.सी. या कंपनी आय से ब्याज अर्जित करने के लिए पैसे उधार देती है। इसका कोई परोपकारी उद्देश्य नहीं है।

पी 2 पी ऋण देने वाले दृश्य में डिफ़ॉल्ट का जोखिम बहुत अधिक होगा। यह  बात ठीक है कि किसी भी उधार दृश्य में डिफ़ॉल्ट का जोखिम हमेशा होता है, चाहे वह एक विशिष्ट बैंक या साहूकार के ब्याज हो या पी 2 पी मॉडल के। हालांकि, पी 2 पी वेबसाइटों पर कई नियमित उधारदाताओं का कहना है कि औसत डिफ़ॉल्ट दर लगभग 10% है। इस प्रकार, यदि आप कई उधारकर्ताओं के साथ 40% ब्याज पर 10,000 रुपये का निवेश करते हैं, यदि जोखिम 10% है, तो भी आपको अपने निवेश पर 30% रिटर्न मिलेगा।

7. पी 2 पी ऋण देने के लिए सबसे अच्छा तरीका क्या है?

छोटे से शुरू करो या सूक्ष्म से शुरू करो। कुछ फर्म आपको 500 रुपये से कम उधार देने की अनुमति देती हैं। इस खेल को और इसके सभी जोखिमों को समझें। उधार व्यापार के कौशल और चाल सीखें। एक बार जब आप मूल बातें समझ लेते हैं और यह भी कि क्या करना है और क्या नहीं ,तो आप इसमें कूद सकते हैं |
कई उधारकर्ताओं से अपने निवेश में विविधता लाएं। सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा निवेश किया गया पैसा कई उधारकर्ताओं में फैला हुआ हो। अपने सभी फल एक ही टोकरी में डालकर समाप्त न करें।

8. ब्याज कैसे अर्जित किया जाता है?

उधारदाताओं द्वारा उधारकर्ताओं से प्राप्त ई.एम.आई. का केवल ब्याज आय हिस्सा कर योग्य है। मुख्य घटक पर कोई कर नहीं है।
कोई निश्चित कराधान दर नहीं है। ब्याज आय को ऋणदाता की कुल आय में जोड़ा जाता है। इसलिए यह अनुमान लगाया जा सकता है कि ब्याज आय पर आयकर स्लैब के अनुसार कर लगाया जाता है जिसके तहत ऋणदाता भी आता है।