How to participate in post office franchise scheme: पोस्ट ऑफिस फ्रैंचाइज़ी स्कीम में कैसे शामिल हो?

पोस्ट ऑफिस फ्रैंचाइज़ी स्कीम कें भाग लेकर आय अर्जित करने का अवसर

पोस्ट ऑफिस फ्रैंचाइज़ी स्कीम

Post office franchise scheme: भारत के डाक विभाग ने मात्र 5,000 रुपये का निवेश कर भारतीय डाकघर फ्रेंचाइजी योजना के रूप में एक नया व्यवसाय शुरू करने का विकल्प दिया है। 

भारत में बेरोजगारी संकट किसी से छिपा नहीं है। लाखों लोग बेहतर नौकरियां पाने के लिए प्रयास कर रहे हैं, इसलिए उद्यमी बनना ज्यादा जोखिम भरा है। चूंकि सरकारी नौकरी पाना आसान नहीं है, इसलिए भारतीय डाकघर ने एक व्यवसाय शुरू करने का विकल्प दिया है जो आपको सरकारी संस्थान में सहयोग करके जीविका कमाने में मदद कर सकता है।

डाकघर का नेटवर्क सबसे बड़ा होने के कारण भारतीय डाकघर की सुविधा हर जगह आसानी से उपलब्ध है। मगर सरकार डाकघर फ्रेंचाइजी योजना शुरू करके डाकघर की सुविधाओं का और अधिक विस्तार करने की योजना बना रही है। ऐसे में आप डाकघर फ्रेंचाइजी के रूप में लघु बचत खाता खोलने, मनीआर्डर भेजने, स्टेशनरी और स्टाम्प बेचने जैसी सुविधाओं देकर अच्छा लाभ कमा सकते हैं।

वर्तमान में, पूरे भारत में 1.5 लाख से अधिक डाकघर हैं, फिर भी कई क्षेत्र डाकघर की सुविधाओं से वंचित हैं। डाकघर और इसकी सुविधाओं को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के उद्देश्य से भारतीय डाक ने डाकघर की फ्रेंचाइजी देने की यह योजना शुरू की है। यह योजना एक स्थायी व्यवसाय मॉडल बनाने में आपकी मदद कर सकती है और अच्छी कमाई भी हो सकती है। 

इस योजना के अनुसार, डाकघर दो प्रकार की फ्रेंचाइजी की सुविधा प्रदान करता है: एक फ्रेंचाइजी आउटलेट और दूसरी डाक एजेंटों की फ्रेंचाइजी। आप इनमें से कोई भी फ्रेंचाइजी चुन सकते हैं।

आउटलेट फ़्रैंचाइजी आम तौर पर उन क्षेत्रों में खोली जा सकती है जहा डाकघर नहीं हैं, जबकि डाक एजेंट फ़्रैंचाइजी में ऐसे एजेंट होते हैं जो ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में घर-घर स्टेशनरी और डाक टिकट वितरित करते हैं।

भारतीय डाकघर फ्रेंचाइजी योजना के लिए आपको इंडिया पोस्ट की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से आवेदन करना होगा। इसके बाद आपको वेबसाइट से फॉर्म डाउनलोड करना होगा। फार्म डाउनलोड करने के बाद उसे भरकर जमा कर देना है। इसके अलावा, आपको इंडिया पोस्ट अधिसूचना को ध्यान से पढ़ना और आवेदन करने से पहले नियम और शर्तों को ठीक से समझ लेना चाहिए। आपके चुने जाने के बाद, आपको एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करना होगा और फिर आप ग्राहकों की सेवा करने के लिए तैयार होंगे।

यह भी पढ़ें: भारत के लिए सब्सिडी सही है या गलत?

डाकघर फ्रेंचाइजी योजना के लिए पात्रता और उससे अर्जित आय 

हालांकि डाकघर फ्रेंचाइजी योजना के लिए पात्रता मानदंड सरल हैं, और इसके लिए कुछ मानकों को पूरा करना आवश्यक है। जैसे कि आवेदक की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। उसके परिवार का कोई भी सदस्य भारतीय डाक विभाग में कार्यरत नहीं होना चाहिए। साथ ही, यह भी जरूरी है कि उसने किसी मान्यता प्राप्त स्कूल से 8वीं तक पढ़ाई की हो।

आउटलेट फ़्रैंचाइजी डाक एजेंट बनने की तुलना में सस्ती है, क्योंकि इसमें ज्यादातर सेवाएं शामिल हैं। इसके विपरीत, डाक एजेंट महंगे होते हैं क्योंकि स्टेशनरी आइटम खरीदने पर अधिक पैसा खर्च होता है। अगर आप पोस्ट ऑफिस आउटलेट खोलना चाहते हैं, तो आपके पास कम से कम 200 वर्ग फुट जगह होनी चाहिए। साथ ही सुरक्षा राशि के रूप में पांच हजार रुपये जमा कराने होंगे।

यह निश्चित नहीं है कि डाकघर फ्रेंचाइजी योजना के माध्यम से कितनी आय अर्जित की जा सकती है। इसमें कोई कोई निश्चित आय नहीं होगी, फ्रेंचाइजी मालिकों को उनकी सेवाओं के लिए एक कमीशन राशि मिलेगी। अलग-अलग सेवाओं पर कमीशन अलग-अलग होगा। जैसे कि पंजीकृत सामग्रियों की बुकिंग के लिए 3.00 रुपए, स्पीड पोस्ट से सामग्रियों की बुकिंग के लिए 5.00 रुपए। 100-200 के मनीआर्डर के लिए 3.50 रुपए मिलेंगे, हालांकि इसमें एक शर्त है कि फ्रैंचाइज़ी एजेंट 100 रु. से कम का कोई मनीआर्डर बुक नहीं करेंगे। 200 रुपए से अधिक के मनीआर्डर पर 5.00 रुपए का कमीशन होगा। प्रति माह 1000 से अधिक पंजीकृत वस्तुएं और स्पीड पोस्ट सामग्री बुक करने पर अतिरिक्त 20 प्रतिशत कमीशन मिलेगा। डाक टिकट, डाक स्टेशनरी और मनीआर्डर फॉर्म की बिक्री के लिए बिक्री राशि का 5 प्रतिशत और राजस्व टिकटों की बिक्री, केंद्रीय भर्ती शुल्क टिकटों की बिक्री जैसी खुदरा सेवाओं के लिए आपको डाक विभाग द्वारा अर्जित कमीशन का 40 प्रतिशत मिलेगा। इस योजना से दूर-दराज के क्षेत्रों के कम पढ़े-लिखे लोगों को कमाई का एक अवसर मिल सकता है। 

यह भी पढ़ें: अपने व्यक्तिगत वित्त का ऑडिट कैसे करे?

सिर्फ़ 5000 मे ये Franchise शुरू करे

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख