Post Office Monthly Income Scheme: ₹4,50,000 जमा करने पर होगी ₹2,500 की मासिक आमदनी

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना से न सिर्फ बचत की जा सकती है बल्कि मासिक आय भी प्राप्त होती है।

Interest on Post Office Monthly Income Scheme

Post Office Monthly Income Scheme : सेवानिवृत्ति के बाद जमा की गई रकम को यदि सही जगह पर निवेश किया जाए तो उससे मासिक आमदनी  प्राप्त की जा सकती है। जमा पूंजी को यदि पोस्ट ऑफिस की छोटी बचत की योजना मंथली इनकम स्कीम में जमा करा दिया जाए तो ₹4.50 लाख की रकम पर प्रति माह ₹2,500 की आमदनी होती है। पाँच वर्षों के बाद पूरी राशि वापस भी कर दी जाती है। वहीं यदि यह रकम बचत खाते में रखी जाए तो इसमें ब्याज कम मिलता है।

डाकघर मासिक आय योजना क्या है? 

POMIS एक सरकारी योजना है जिसमें एकमुश्त पैसे जमा करके प्रतिमाह आमदनी अर्जित की जा सकती है। जमा किए गए पैसे पूरी तरह सुरक्षित रहते हैं और पाँच वर्षों के बाद यह रकम लौटा दी जाती है। इस योजना के तहत सिंगल और जॉइंट खाते खोले जा सकते हैं। सेवानिवृत्ति के बाद बहुत से लोग इस योजना का फायदा उठा रहे हैं और जॉइंट खातों से दोगुना लाभ भी कमा रहे हैं। 

पाएँ ज्यादा ब्याज 

हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा दिसंबर की तिमाही में छोटी बचत योजनाओं की ब्याज की दरों को बढ़ाया गया है। इसमें पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम की भी ब्याज की दरें बढ़ी है। मंथली इनकम की स्कीम पर 6.6% से बढ़कर ब्याज अब 6.7% हो गया है जिससे प्रतिमाह मिलने वाली आमदनी भी बढ़ जाएगी। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

पोस्ट ऑफिस निवेश की खासियत 

इस स्कीम द्वारा अधिकतम ₹4.50 लाख एकल खाते यानी सिंगल खाते में जमा किए जा सकते हैं तो जॉइंट खाते में ₹9 लाख जमा करने का प्रावधान है। अब जबकि इसकी ब्याज की दर 6.7% हो चुकी है तो ₹9 लाख जमा कराने पर प्रतिवर्ष ₹60,300 का ब्याज मिलेगा। यानी इसका सीधा मतलब है कि हर महीने ₹5,025 की आमदनी होगी। साथ ही पाँच वर्ष पूरे होने के बाद पूरी रकम लौटा दी जाएगी। 

सिंगल खाते के लिए ₹4.50 लाख जमा करने पर ब्याज के रूप में प्रतिमाह आमदनी ₹2,513 होगी। 

इतना ही नहीं जॉइंट अकाउंट में तीन वयस्क व्यक्ति शामिल हो सकते हैं लेकिन अधिकतम निवेश की सीमा ₹9 लाख ही रहेगी। 

मासिक आय योजना से फायदा 

मासिक आय योजना में पाँच साल की अवधि के बाद पूरी रकम लौटा दी जाती है। लेकिन यदि ग्राहक चाहें तो इसे अगले पाँच सालों के लिए बढ़ा सकते हैं। 

बैंक में एफडी करने की बजाय इस स्कीम में बेहतर रिटर्न मिलता है। यदि आप ब्याज को मासिक आमदनी के रूप में निकालना न चाहें तो यह राशि पोस्ट ऑफिस बचत खाते में जमा रहेगी। यह राशि मूलधन के साथ जोड़ दी जाएगी और उस पर भी ब्याज मिलेगा।

यह भी पढ़ेंमार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

Post Office Monthly Income Scheme : सेवानिवृत्ति के बाद जमा की गई रकम को यदि सही जगह पर निवेश किया जाए तो उससे मासिक आमदनी  प्राप्त की जा सकती है। जमा पूंजी को यदि पोस्ट ऑफिस की छोटी बचत की योजना मंथली इनकम स्कीम में जमा करा दिया जाए तो ₹4.50 लाख की रकम पर प्रति माह ₹2,500 की आमदनी होती है। पाँच वर्षों के बाद पूरी राशि वापस भी कर दी जाती है। वहीं यदि यह रकम बचत खाते में रखी जाए तो इसमें ब्याज कम मिलता है।

डाकघर मासिक आय योजना क्या है? 

POMIS एक सरकारी योजना है जिसमें एकमुश्त पैसे जमा करके प्रतिमाह आमदनी अर्जित की जा सकती है। जमा किए गए पैसे पूरी तरह सुरक्षित रहते हैं और पाँच वर्षों के बाद यह रकम लौटा दी जाती है। इस योजना के तहत सिंगल और जॉइंट खाते खोले जा सकते हैं। सेवानिवृत्ति के बाद बहुत से लोग इस योजना का फायदा उठा रहे हैं और जॉइंट खातों से दोगुना लाभ भी कमा रहे हैं। 

पाएँ ज्यादा ब्याज 

हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा दिसंबर की तिमाही में छोटी बचत योजनाओं की ब्याज की दरों को बढ़ाया गया है। इसमें पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम की भी ब्याज की दरें बढ़ी है। मंथली इनकम की स्कीम पर 6.6% से बढ़कर ब्याज अब 6.7% हो गया है जिससे प्रतिमाह मिलने वाली आमदनी भी बढ़ जाएगी। 

यह भी पढ़ें: ७ वित्तीय नियम

पोस्ट ऑफिस निवेश की खासियत 

इस स्कीम द्वारा अधिकतम ₹4.50 लाख एकल खाते यानी सिंगल खाते में जमा किए जा सकते हैं तो जॉइंट खाते में ₹9 लाख जमा करने का प्रावधान है। अब जबकि इसकी ब्याज की दर 6.7% हो चुकी है तो ₹9 लाख जमा कराने पर प्रतिवर्ष ₹60,300 का ब्याज मिलेगा। यानी इसका सीधा मतलब है कि हर महीने ₹5,025 की आमदनी होगी। साथ ही पाँच वर्ष पूरे होने के बाद पूरी रकम लौटा दी जाएगी। 

सिंगल खाते के लिए ₹4.50 लाख जमा करने पर ब्याज के रूप में प्रतिमाह आमदनी ₹2,513 होगी। 

इतना ही नहीं जॉइंट अकाउंट में तीन वयस्क व्यक्ति शामिल हो सकते हैं लेकिन अधिकतम निवेश की सीमा ₹9 लाख ही रहेगी। 

मासिक आय योजना से फायदा 

मासिक आय योजना में पाँच साल की अवधि के बाद पूरी रकम लौटा दी जाती है। लेकिन यदि ग्राहक चाहें तो इसे अगले पाँच सालों के लिए बढ़ा सकते हैं। 

बैंक में एफडी करने की बजाय इस स्कीम में बेहतर रिटर्न मिलता है। यदि आप ब्याज को मासिक आमदनी के रूप में निकालना न चाहें तो यह राशि पोस्ट ऑफिस बचत खाते में जमा रहेगी। यह राशि मूलधन के साथ जोड़ दी जाएगी और उस पर भी ब्याज मिलेगा।

यह भी पढ़ेंमार्केट में निफ़्टी ५० से रिटर्न कैसे पाए?

संवादपत्र

संबंधित लेख

Union Budget