Bigger Income in small savings: छोटी बचत की अधिक आमदनी

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना (POMIS) के लिए सरकार द्वारा ब्याज की दर बढ़ाई गई।

मासिक आमदनी में वृद्धि

POMIS: महंगाई के इस दौर में डाक घर (पोस्ट ऑफिस) की मासिक आय योजना (पीओएमआईएस) के ग्राहकों को कुछ राहत मिली है। आनेवाली तिमाही के लिए कुछ छोटी बचत योजनाओं के ब्याज की दर में सरकार द्वारा वृद्धि की गई है। इसका असर पोस्ट ऑफिस की मासिक आय (मंथली इनकम स्कीम) पर भी पड़ेगा। अब इस योजना पर सालाना ब्याज की दर 6.6% से बढ़कर 6.7% हो गई है। इस योजना के तहत पोस्ट ऑफिस में छोटी बचत करनेवालों के लिए फायदा मिलेगा जहाँ एकमुश्त पैसा निवेश कर के मासिक आय प्राप्त की जाती है। ब्याज की रकम मासिक आय के रूप में प्राप्त करने के 5 साल बाद आप निवेश की गई पूरी राशि भी निकाल सकते हैं। बहुत से ग्राहक इस योजना का उपयोग रिटायरमेंट के बाद मासिक आय प्राप्त करने के लिए कर रहे हैं। 

मासिक आमदनी में कितनी बढ़त 

एक नजर इस डालते हैं कि सालाना ब्याज की दर 6.7% कर देने के बाद पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (पीओएमआईएस) में मासिक आय पर क्या प्रभाव पड़ेगा। यदि आपने किसी समय ₹9 लाख जमा किए हों तो अब 6.7% की दर से अब सालाना ब्याज ₹60,300 प्रतिवर्ष हो जाएगा। यदि इस पैसे को 12 महीनों में बाँट दिया जाए तो हर महीने ₹5025 मिलेंगे। वहीं यदि आप सिंगल अकाउंट में ₹4.5 लाख जमा करते हैं तो आपको प्रतिमाह मिलनेवाले ब्याज की राशि ₹2513 हो जाएगी। 

यह भी पढ़ेंभारत के लिए सब्सिडी गलत या सही?

निवेश की अधिकतम सीमा 

पीओएमआईएस सिंगल खाते के लिए निवेश की अधिकतम सीमा ₹4.5 लाख रखी गई है, वहीं जॉइंट खाते के लिए ₹9 लाख अधिकतम निवेश किया जा सकता है। जॉइंट खाते के लिए दो या तीन वयस्क भी खाताधारक हो सकते हैं। लेकिन दोनों ही स्थितियों में अधिकतम सीमा ₹9 लाख की होगी ।

पोस्ट ऑफिस एमआईएस के फायदे 

  • योजना में 5 साल के लिए निवेश का प्रावधान है। 5 साल के बाद नए ब्याज की दरों पर पुनर्निवेश किया जा सकता है। अधिकतम आयु की सीमा नहीं है। 
  • किसी भी अन्य एफडी की तुलना में इस योजना में अधिक रिटर्न मिलता है।
  • यदि आप प्रतिमाह आमदनी नहीं लेते हैं तो ब्याज की राशि निवेश की राशि में जोड़ दी जाती है और इस बढ़े हुए धन पर ब्याज मिलता है। 

पोस्ट ऑफिस एमआईएस खाता खोलने की विधि 

  • इसके लिए पोस्ट ऑफिस में खाता होना आवश्यक है। 
  • पहचान प्रमाण के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट, वोटर कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस में से एक देना होगा।
  • पासपोर्ट साइज के दो फोटोज़ के साथ अपने पते के प्रमाण के लिए सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त आईडी कार्ड या किसी भी अन्य यूटिलिटी सेवा का बिल दिया जा सकता है।
  • ऊपर बताए गए दस्तावेज लेकर पोस्ट ऑफिस में जाकर पीओएमआईएस फॉर्म भरा जा सकता है। इसे घर पर भी डाउनलोड किया जा सकता है।
  • फॉर्म भरते समय नॉमिनी का नाम देना आवश्यक है। साथ ही ,खाता खोलते समय पहले ₹1000 नकद या चेक द्वारा जमा करना होगा। 

यह भी पढ़ें: ऑडिट अपने व्यक्तिगत वित्त का
 

POMIS: महंगाई के इस दौर में डाक घर (पोस्ट ऑफिस) की मासिक आय योजना (पीओएमआईएस) के ग्राहकों को कुछ राहत मिली है। आनेवाली तिमाही के लिए कुछ छोटी बचत योजनाओं के ब्याज की दर में सरकार द्वारा वृद्धि की गई है। इसका असर पोस्ट ऑफिस की मासिक आय (मंथली इनकम स्कीम) पर भी पड़ेगा। अब इस योजना पर सालाना ब्याज की दर 6.6% से बढ़कर 6.7% हो गई है। इस योजना के तहत पोस्ट ऑफिस में छोटी बचत करनेवालों के लिए फायदा मिलेगा जहाँ एकमुश्त पैसा निवेश कर के मासिक आय प्राप्त की जाती है। ब्याज की रकम मासिक आय के रूप में प्राप्त करने के 5 साल बाद आप निवेश की गई पूरी राशि भी निकाल सकते हैं। बहुत से ग्राहक इस योजना का उपयोग रिटायरमेंट के बाद मासिक आय प्राप्त करने के लिए कर रहे हैं। 

मासिक आमदनी में कितनी बढ़त 

एक नजर इस डालते हैं कि सालाना ब्याज की दर 6.7% कर देने के बाद पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (पीओएमआईएस) में मासिक आय पर क्या प्रभाव पड़ेगा। यदि आपने किसी समय ₹9 लाख जमा किए हों तो अब 6.7% की दर से अब सालाना ब्याज ₹60,300 प्रतिवर्ष हो जाएगा। यदि इस पैसे को 12 महीनों में बाँट दिया जाए तो हर महीने ₹5025 मिलेंगे। वहीं यदि आप सिंगल अकाउंट में ₹4.5 लाख जमा करते हैं तो आपको प्रतिमाह मिलनेवाले ब्याज की राशि ₹2513 हो जाएगी। 

यह भी पढ़ेंभारत के लिए सब्सिडी गलत या सही?

निवेश की अधिकतम सीमा 

पीओएमआईएस सिंगल खाते के लिए निवेश की अधिकतम सीमा ₹4.5 लाख रखी गई है, वहीं जॉइंट खाते के लिए ₹9 लाख अधिकतम निवेश किया जा सकता है। जॉइंट खाते के लिए दो या तीन वयस्क भी खाताधारक हो सकते हैं। लेकिन दोनों ही स्थितियों में अधिकतम सीमा ₹9 लाख की होगी ।

पोस्ट ऑफिस एमआईएस के फायदे 

  • योजना में 5 साल के लिए निवेश का प्रावधान है। 5 साल के बाद नए ब्याज की दरों पर पुनर्निवेश किया जा सकता है। अधिकतम आयु की सीमा नहीं है। 
  • किसी भी अन्य एफडी की तुलना में इस योजना में अधिक रिटर्न मिलता है।
  • यदि आप प्रतिमाह आमदनी नहीं लेते हैं तो ब्याज की राशि निवेश की राशि में जोड़ दी जाती है और इस बढ़े हुए धन पर ब्याज मिलता है। 

पोस्ट ऑफिस एमआईएस खाता खोलने की विधि 

  • इसके लिए पोस्ट ऑफिस में खाता होना आवश्यक है। 
  • पहचान प्रमाण के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट, वोटर कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस में से एक देना होगा।
  • पासपोर्ट साइज के दो फोटोज़ के साथ अपने पते के प्रमाण के लिए सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त आईडी कार्ड या किसी भी अन्य यूटिलिटी सेवा का बिल दिया जा सकता है।
  • ऊपर बताए गए दस्तावेज लेकर पोस्ट ऑफिस में जाकर पीओएमआईएस फॉर्म भरा जा सकता है। इसे घर पर भी डाउनलोड किया जा सकता है।
  • फॉर्म भरते समय नॉमिनी का नाम देना आवश्यक है। साथ ही ,खाता खोलते समय पहले ₹1000 नकद या चेक द्वारा जमा करना होगा। 

यह भी पढ़ें: ऑडिट अपने व्यक्तिगत वित्त का
 

Expert Article block example

संवादपत्र