RBI द्वारा रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद क्या आपको सोने में निवेश करना चाहिए? सोने में निवेश पर विशेषज्ञों की राय

RBI द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने के बाद सोने में निवेश करें

RBI द्वारा रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद क्या आपको सोने में निवेश करना चाहिए

RBI द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने के बाद आपको सोने में निवेश क्यों करना चाहिए?

एक महीने के इंतजार के बाद, RBI ने रेपो रेट में 50 bps की बढ़ोतरी की घोषणा की है। अर्थव्यवस्था को झुलसाने वाली मुद्रास्फीति के बारे में लंबी चर्चा ने केंद्रीय बैंक को और अधिक स्पष्ट कदम उठाने पर मजबूर कर दिया है। आज हम चर्चा करेंगे कि यह सोने में निवेश करने का समय क्यों है।

RBI गवर्नर, श्री शांतिकांत दास ने पिछले सप्ताह रेपो दर में 50 bps पॉइंट की बढ़ोतरी करके 4.90% करने की घोषणा की। हम सभी ने देखा है कि COVID-19 में गिरावट के बाद बाजार ने कैसा प्रदर्शन किया है। यह लगातार दूसरा महीना है जब RBI ने दरों में बढ़ोतरी की घोषणा की है।

फैसला आने के बाद से शेयर बाजार का सेंटीमेंट मंदी का हो गया है। मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए, RBI दरों में बढ़ोतरी के लिए आगे भी निर्णय ले सकता है।

इसलिए आपकी निवेश रणनीति में आपकी मदद करने के लिए, हम आज चर्चा करेंगे कि RBI के ब्‍याज दर वृद्धि के फैसलों के बाद सोना निवेश का सबसे अच्छा विकल्प क्यों है।

हेजिंग(बचाव) का विकल्प–

जो लोग हेजिंग(बचाव) के बारे में नहीं जानते हैं, उनके लिए यह एक निवेश रणनीति है जो जोखिम को कवर करने में मदद करती है। जब मुद्रास्फीति अधिक होती है, तो सोने की कीमतें मुद्रा के मूल्य के विपरीत जाती हैं। पिछले एक दशक में, सोने ने इक्विटी बाजार की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है।

यदि आप पिछले डेटा को देखें, तो आप पाएंगे कि मुद्रास्फीति के दौरान, सोने ने हमेशा अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में बेहतर रिटर्न दिया है।

लिक्विड एसेट-

अन्य निवेश विकल्पों के विपरीत, सोना एक लिक्विड एसेट है जिसे कुछ ही समय में नकदी में परिवर्तित किया जा सकता है। आप किसी भी ज्वेलरी स्टोर पर जा सकते हैं और अपने सोने को हार्ड कैश में बदल सकते हैं। यह इक्विटी निवेश के मामले में नहीं है जहां आपको अपने खाते में राशि प्राप्‍त करने के लिए निपटान/अदायगी अवधि तक प्रतीक्षा करना पड़ता है।

कमेंट्री के विरोध में-

दुनिया को मंदी से निकलने का रास्ता निकालना मुश्किल हो रहा है। दुनिया भर की कुछ इन्‍वेस्‍टमेंट फर्मों के पूर्वानुमान और विश्लेषण के अनुसार, उन्हें भारतीय शेयर बाजार में एक बड़ा करेक्शन दिखाई दे रहा है।

अप्रैल की शुरुआत के बाद से, निफ्टी 50 लगभग 14% नीचे है। लेकिन सोना उथल-पुथल से अप्रभावित रहा है। बाजार की स्थितियों और बहाली की कोई बड़ी उम्मीद नहीं होने के कारण, यह सोने में निवेश करने का सबसे अच्छा समय है।

सोना विविधता प्रदान करता है-

वर्तमान में, आपके पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए सोना सबसे अच्छे निवेश विकल्पों में से एक है। चूंकि दुनिया भर में कई भू-राजनीतिक तनावों के कारण वर्तमान में इक्विटी और अन्य कमोडिटीज जोखिम भरी दिखती हैं, दूसरी ओर, सोना आपके पोर्टफोलियो में किकऑफ कारक हो सकता है।

निष्‍कर्ष

यहां, हमने कुछ कारकों पर चर्चा की है कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बाद सोने में निवेश करने का यह सबसे अच्छा समय क्यों है, यह एक उपयोगी निर्णय हो सकता है। दुनिया भर की चिंताओं के बीच, आपको अपने निवेश का एक हिस्सा सोने में आवंटित करना चाहिए।

संवादपत्र

संबंधित लेख