शेयर मार्केट क्रैश क्‍या है? ऐसी गलतियां जिनसे शेयर मार्केट क्रैश के दौरान बचना चाहिए।

जब एक अप्रत्याशित घटना एक ऐसे मार्केट पर स्‍ट्राइक करती है जो अपने ओवरवैल्‍यूड स्‍टेज पर पहुंच गया है, तो क्रैश होता हैं। आप इन सुझावों का उपयोग क्रैश के दौरान घबराहट में बेचने के बजाय गलतियों को रोकने के लिए कर सकते हैं।

शेयर मार्केट क्रैश क्‍या है

मार्केट क्रैश क्‍या है और यह क्‍यों होता है?

फाइनेंशियल क्रैश स्‍टॉक की कीमतों में अचानक और आमतौर पर अप्रत्याशित गिरावट होती है। एक लंबा फाइनेंशियल बबल फटना या आर्थिक संकट दोनों के ही परिणामस्‍वरूप स्‍टॉक मार्केट क्रैश हो सकता है। यहां तक कि अगर कोई निर्धारित मानदंड नहीं है, फिर भी स्टॉक मार्केट क्रैश को आमतौर पर कुछ दिनों में स्टॉक इंडेक्स में नाटकीय रूप से डबल डिजिट की कमी के रूप में माना जाता है। स्टॉक मार्केट क्रैश से अक्सर अर्थव्यवस्था काफी प्रभावित होती है। मार्केट क्रैश के दौरान निवेशकों के द्वारा पैसा खोने के कुछ सबसे प्रचलित कारणों में कीमतों में तेज गिरावट के तुरंत बाद शेयर्स की बिक्री और मार्जिन पर अत्यधिक संख्या में इक्विटी खरीदना शामिल है।

मार्केट क्रैश के पीछे के कारणों को जानने के लिए वीडियो देखें:

मार्केट क्रैश के इन समय के दौरान गलतियां करने से बचने के लिए निवेशक क्‍या कर सकते हैं? 

  • निवेशक मार्केट के गिरने के दौरान अक्‍सर स्‍टॉप लॉस लगाने को नज़रअंदाज़ करते हैं, जो एक मूलभूत गलती है। सीधे शब्दों में कहें तो, स्टॉप-लॉस ट्रेड एक विशेष कीमत तक पहुंचने पर स्‍टॉक को खरीदने या बेचने के लिए एक ब्रोकर से अनुरोध करना है। जोखिम और अंतिम नुकसान को कम करने के लिए मार्केट में सुधार के दौरान स्टॉप-लॉस ऑर्डर रखना महत्वपूर्ण होता है।
  • अस्थिर स्टॉक्‍स से जोखिम वाले मुनाफे को पाने के पक्ष में सुरक्षित स्टॉक होल्डिंग्स को बेचना, बाजार में गिरावट के दौरान निवेशकों द्वारा की जाने वाली एक सामान्य गलती है।
  • जोखिम भरे स्‍टॉक्‍स में निवेश करना एक और आम गलती है जो कंपनियां मार्केट में गिरावट के दौरान तय करती हैं। जोखिम में लाभ शामिल होता है, लेकिन अपने बहुत अधिक पैसे को जोखिम भरी इक्विटी में इस उम्मीद में लगाना कि उनमें फिर से उछाल आएगा, यह एक अच्छी निवेश रणनीति नहीं है ।
  • हालांकि बियर (नीचे जाता हुआ) मार्केट के कारण निस्संदेह थोड़ी चिंता हो सकती है, निश्चित समय के दौरान घबराहट की बिक्री को रोकने के लिए निवेश से भावनाओं को दूर करना महत्वपूर्ण है। 

निष्‍कर्ष:

इस साल भारतीय मार्केट में काफी गिरावट आई है जबकि अंतर्राष्‍ट्रीय मार्केट बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। निवेशकों के लिए अभी भी लाभ कमाने के तरीके हैं, लेकिन कई लोगों ने इस उम्मीद में लो-क्‍वालिटी वाले इक्विटी को रखने की गलती की है कि बाजार में बदलाव के बाद उनकी वैल्‍यू बढ़ेगी। कुछ खरीदार जो बाजार में सुधार का लाभ उठाना चाहते हैं, वे लो क्‍वालिटी वाली इक्विटी भी खरीदते हैं जिनकी कीमत में काफी गिरावट आई है। इन्हें देखें और हर स्थिति का सबसे अच्‍छा लाभ उठाने के लिए मूलभूत गलतियां करने से बचें।

M Stock

संवादपत्र

संबंधित लेख