स्टॉक स्प्लिट और स्टॉक मर्ज कैसे काम करते हैं?

स्टॉक स्प्लिट्स और स्टॉक मर्ज के बारे में विस्तार से जानें।

स्टॉक स्प्लिट और स्टॉक मर्ज कैसे काम करते हैं?

एक दिन, श्रीमान शर्मा ने अपने स्टॉकब्रोकर द्वारा दिए गए डैशबोर्ड को खोला। शर्माजी यह देखकर हैरान थे कि ए.बी.सी. कॉर्पोरेशन में उनके शेयरों की संख्या दोगुनी हो गई थी और प्रभावी शेयर की कीमत आधे से कम हो गई थी। वह इसके कारण की पहचान करना चाहते थे, और उन्हें पता चला कि उनका निवेश स्टॉक स्प्लिट कॉर्पोरेट कार्रवाई से प्रभावित था। इससे उन्हें विश्वास हो गया कि उनके निवेश और व्यापारिक खातों में कुछ भी गड़बड़ नहीं हुआ है।

यह लेख स्टॉक स्प्लिट और स्टॉक मर्ज कॉर्पोरेट क्रियाओं के निम्नलिखित पहलुओं को जानने में आपकी मदद करेगा:

  • स्टॉक स्प्लिट क्या है?
  • कंपनियां स्टॉक स्प्लिट विकल्प क्यों चुनना चाहती हैं?
  • स्टॉक स्प्लिट किसी कंपनी के मूल्य को कैसे प्रभावित करता है?
  • स्टॉक स्प्लिट से कैसे निवेशकों को लाभ होता है?
  • रिवर्स स्टॉक स्प्लिट या स्टॉक मर्ज क्या है?
  • कंपनियां स्टॉक मर्ज विकल्प क्यों चुनती हैं?
  • स्टॉक मर्ज किसी कंपनी के मूल्य को कैसे प्रभावित करता है?
  • स्टॉक मर्ज से निवेशकों को कैसे फायदा होता है?

स्टॉक स्प्लिट क्या है?

स्टॉक स्प्लिट एक कॉर्पोरेट कार्रवाई है जहां स्टॉक की कीमत को इस तरह से समायोजित किया जाता है कि यह बाजार पूंजीकरण को बदल नहीं सकता है। हालांकि, स्टॉक की कीमत काफी कम हो जाती है। उदाहरण के लिए, स्टॉक स्प्लिट से पहले, मान लें कि किसी शेयर की कीमत 10,000 रुपये प्रति शेयर है, जिसका अंकित मूल्य 10 रुपये प्रति शेयर है। यदि शेयर विभाजन 1:10 के अनुपात के साथ किया जाता है तो विभाजन के बाद, प्रभावी मूल्य 1 रुपये प्रति शेयर के मूल्य के साथ 1000 रुपये प्रति शेयर हो जाएगा। इसके अलावा, शेयरों की संख्या 10 से गुणा की जाएगी।

कंपनियां स्टॉक विभाजन विकल्प क्यों चुनती हैं?

यदि किसी शेयर की कीमत बहुत अधिक है और खरीदार के पास एक भी स्टॉक खरीदने के लिए पैसा नहीं है तो लेन-देन बिल्कुल नहीं हो सकता है। इसलिए  एक्सचेंजों में स्टॉक में तरलता कम हो जाएगी। निवेशकों के बीच लेनदेन को सुगम, आसान और निरंतर बनाये रखने के लिए, कंपनियां स्टॉक स्प्लिट कॉर्पोरेट कार्रवाई करती हैं। इसलिए सरल शब्दों में, शेयर स्प्लिट निवेशकों का सामर्थ्य बढ़ाता है।

स्टॉक स्प्लिट किसी कंपनी के मूल्य को कैसे प्रभावित करता है?

स्टॉक स्प्लिट कंपनी के मूल्य को प्रभावित नहीं करता है क्योंकि बाजार पूंजीकरण में कोई बदलाव नहीं होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टॉक स्प्लिट स्टॉक के अंकित मूल्य को उस अनुपात में बदल देता है जो स्टॉक मूल्य में गिरावट के अनुरूप हो और स्टॉक की संख्या उसी अनुपात से बढ़ती है। उदाहरण के लिए, यदि 1:10 के अनुपात में स्टॉक स्प्लिट होता है, तो अंकित मूल्य को 10 के गुणांक से कम कर दिया जाएगा और जो भी स्टॉक रखा है उसकी संख्या में 10 से गुना करके वृद्धि होगी।

स्टॉक स्प्लिट से कैसे निवेशकों को लाभ होता है?

स्टॉक स्प्लिट आम तौर पर स्टॉक में तरलता को बढ़ाता है। इस तरह, निवेशक अपनी इक्विटी को बिना किसी परेशानी और मौद्रिक नुकसान के बेच सकेंगे।

रिवर्स स्टॉक स्प्लिट या स्टॉक मर्ज क्या है?

स्टॉक मर्ज स्टॉक विभाजन के विपरीत है। स्टॉक मर्ज में स्टॉक की कीमत उसी गुणांक से बढ़ जाती है जिससे पहले जारी किए गए शेयरों की संख्या घट जाती है। उदाहरण के लिए, यदि स्टॉक को मर्ज 1:10 के अनुपात में किया जाता है, तो अंकित मूल्य में 10 से गुना करके वृद्धि होगी और स्टॉक की कीमत में 10 के गुणांक से वृद्धि होगी। जारी किए गए शेयरों की कुल संख्या भी इसी गुणांक से कम होगी। इसलिए यदि किसी शेयर पर एक स्टॉक मर्ज किया जाता है जिसकी कीमत 1 रुपये के अंकित मूल्य के साथ 20 रुपये है, तो प्रभावी मूल्य स्टॉक मर्ज के बाद 10 रुपये के अंकित मूल्य के साथ 200 रुपये होगा और कुल जारी किए गए शेयर 10 से घट जाएंगे ।

कंपनियां स्टॉक मर्ज विकल्प क्यों चुनती हैं?

कंपनियां आमतौर पर संभावित निवेशकों की नजर में शेयरों की छवि को बेहतर बनाने के लिए स्टॉक मर्ज विकल्प चुनती हैं ताकि शेयरों में हमेशा पर्याप्त तरलता बनी रहे। आमतौर पर कम मूल्य वाले शेयरों पर स्टॉक मर्ज किया जाता है ताकि निवेशक स्टॉक को दो कौड़ी का स्टॉक न समझें।

स्टॉक मर्ज किसी कंपनी के मूल्य को कैसे प्रभावित करता है?

स्टॉक मर्ज किसी कंपनी के मूल्य को प्रभावित नहीं करता है क्योंकि बाजार पूंजीकरण में कोई बदलाव नहीं होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्टॉक मर्ज एक अनुपात में स्टॉक के अंकित मूल्य को बदल देता है, जो वास्तव में स्टॉक मूल्य में वृद्धि के अनुरूप होती है। और एक ही गुणांक द्वारा बकाया शेयरों की संख्या को घटा दी जाती है।

स्टॉक मर्ज से निवेशकों को कैसे फायदा होता है?

स्टॉक मर्ज आमतौर पर स्टॉक में तरलता बढ़ाता है; जिससे निवेशकों को बिना किसी परेशानी और मौद्रिक नुकसान के अपनी इक्विटी बेचने की अनुमति मिलती है।