स्वरोजगार करने वाले व्यक्ति एक बड़ा इमरजेंसी फंड कैसे बना सकते हैं? इमरजेंसी फंड के लिए निवेश के विकल्‍प

स्‍वरोजगार करने वाला व्‍यक्ति बड़ा इमरजेंसी फंड बनाकर अपनी वित्‍तीय अस्थिरता और अनियमित आय में सहयोग कर सकता है। अधिक जानें।

स्वरोजगार करने वाले व्यक्ति एक बड़ा इमरजेंसी फंड कैसे बना सकते हैं

इमरजेंसी फंड्स स्‍वरोजगार करने वाले व्‍यक्ति को जोखिम से बचाने में मदद कर सकते हैं: कैसे?

स्‍वरोजगार आपको आजादी देता है। हालांकि, आप इसके साथ आने वाली वित्तीय अस्थिरता के स्‍तर को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते हैं। स्‍वरोजगार आपको मानसिक शांति नहीं दे सकता है जो निश्चित मासिक वेतन या इंश्‍योरेंस कवरेज देता है। 

स्व-रोजगार करने वाले व्यक्तियों को हमेशा पलक झपकते ही प्रकट होने वाली वित्तीय आकस्मिकताओं के लिए तैयार रहना चाहिए। ऐसा विशेष रूप से इसलिए होता है क्योंकि उनका निश्चित वेतन नहीं होता है। इससे उनकी आर्थिक स्थिति अस्थिर हो जाती है। किसी भी आकस्मिकता से निपटने के लिए, आपको वित्त से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार रहना चाहिए। इसी वजह से आपको एक बड़ा इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए।

अनियमित कैश फ्लो को प्रबंधित करने के लिए एक बड़ा इमरजेंसी फंड बनाएं

हर व्‍यक्ति के पास आकस्मिक स्थितियों के लिए फंड होना चाहिए। हालांकि, अस्थिर आय (मुख्‍य रूप से स्‍वरोजगार करने वाले प्रोफेशनल) वाले लोगों को एक बड़ा इमरजेंसी फंड जरूर बनाना चाहिए।

इमरजेंसी फंड के रूप में छह महीने के खर्च को बनाए रखना सामान्य नियम है। हालांकि, स्वरोजगार करने वाले लोगों के लिए बड़ा फंड होना बेहतर हो सकता है। इसका साइज़ निम्नलिखित कारकों पर निर्भर करेगा:

  • आपकी आय का उतार-चढ़ाव
  • कम या बिल्‍कुल भी आय ना होने की संभावना
  • क्‍या आपका जीवनसाथी कमाता है या आप परिवार के अकेले कमाने वाले सदस्‍य हैं।

यह मानते हुए कि आप परिवार के एकमात्र कमाने वाले सदस्‍य हैं, स्‍वरोजगार करने वाले व्‍यक्ति को पर्याप्‍त फंड बचाना चाहिए जो उनके 12 महीनों के खर्च को कवर कर सकता है। 

12 महीने के इमरजेंसी फंड की गणना करते समय आपको किन खर्चों को शामिल करना चाहिए?

आपको अपने मासिक या 12-महीने के खर्चों की गणना करते समय किराया, शिक्षा, चिकित्सा, परिवहन, संचार, ईएमआई और अन्य नियमित लागतों को शामिल करना चाहिए। इसके अलावा, आपको कार की सर्विसिंग, मरम्मत, रखरखाव, इंश्‍योरेंस प्रीमियम, नियमित बचत और अन्य विविध लागतों पर होने वाले खर्च को भी शामिल करना चाहिए।

एक बड़ा इमरजेंसी फंड बनाए रखने के पीछे मुख्य उद्देश्य आपको आगे आने वाली सभी प्रतिकूल वित्तीय स्थितियों के लिए वित्तीय रूप से तैयार करना है। यह आपको सभी आकस्मिकताओं से बचाता है।

बड़े इमरजेंसी फंड्स को बनाने के लिए आपको किन वित्तीय साधनों में निवेश करना चाहिए?

एक बड़ा इमरजेंसी फंड बनाने के लिए, आप निवेश के आसान विकल्पों का इस्‍तेमाल सकते हैं। ऐसा ही एक साधन सावधि जमा (FD) है। आप फंड को आंशिक रूप से बचत खाते में भी डाल सकते हैं और फ्लेक्सी-स्वीप-इन डिपॉज़िट का उपयोग कर सकते हैं। एफडी, लिक्विड फंड्स, और कुछ डेट फंड्स का मिश्रण बाद में बेहतर रिटर्न के लिए अनुकूलन की सुविधा प्रदान करेगा।

बड़े इमरजेंसी फंड और जीवन की बेहतर गुणवत्‍ता के लिए इन वित्तीय साधनों में निवेश करें

अपना स्‍वयं का हेल्‍थ इंश्‍योरेंस लें

स्‍वरोजगार करने वाला व्‍यक्ति ग्रुप हेल्‍थ इंश्‍योरेंस की किसी भी स्‍कीम में कवर नहीं होता है। हालांकि, उनको और उन पर निर्भर लोगों को कवर करने के लिए 15-20 लाख रूपये की पॉलिसी होनी चाहिए। एक स्‍वरोजगार करने वाले व्‍यक्ति के रूप में, आपको हेल्‍थ इंश्‍योरेंस को नज़रअंदाज नहीं करना चाहिए क्‍योंकि बिना इंश्‍योरेंस के अस्पताल में भर्ती होने पर आपकी बचत का बड़ा हिस्‍सा खर्च हो सकता है और यह आपका सबसे बुरा सपना हो सकता है। पहले से मौजूद किसी भी हेल्‍थ प्‍लान पर टॉप-अप कवरेज को भी आपके सर्वोत्तम विकल्पों में से एक माना जा सकता है।

टर्म इंश्योरेंस चुनना

टर्म इंश्योरेंस लेने का मुख्य तर्क यह है कि एकमात्र कमाने वाले के चले जाने के बाद की स्थिति में आय प्रतिस्थापन का एक स्तर प्रदान करना है। आपके लिए आवश्यक लाइफ इंश्‍योरेंस की राशि की गणना की जानी चाहिए और उसे खरीदा जाना चाहिए। आप अपनी वार्षिक आय के 10-20 गुना के व्यापक कवरेज का लक्ष्य भी रख सकते हैं। आपकी ओर से कोई भी लापरवाही आपके परिवार की भविष्य की संभावनाओं और जीवन स्तर पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। टर्म प्लान किफायती होते हैं, और आप उन्हें जल्दी ले सकते हैं।

सिस्‍टमैटिक प्‍लान्‍स में निवेश करना

जबकि नियमित आय वाले लोगों के लिए एसआईपी (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) एक आसान विकल्प है, तो अनियमित आय वाले लोग सही तरीके से निवेश कैसे कर सकते हैं? वे अपनी अतिरिक्‍त आय को पहले डेट फंड में एकमुश्त निवेश कर सकते हैं। बदले में, वे इक्विटी फंड्स में ट्रांसमिट करने के लिए सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान (STP) का उपयोग कर सकते हैं, जो एक मासिक निश्चित राशि उत्पन्न करते हैं। इक्विटी निवेश में एक कृत्रिम नियमितता लाई जाती है। इस तरह, आप अपने लंबे समय के वित्तीय उद्देश्यों का एक बड़ा हिस्सा प्राप्त कर सकते हैं।

जो लोग इम्‍प्‍लॉय प्रोविडेंट फंड (जो वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए है) के लाभ नहीं ले पाते हैं, उनके लिए वैकल्पिक विकल्प हैं:

  • पब्लिक प्रोवीडेंट फंड (PPF)
  • नेशनल पेंशन स्‍कीम (NPS) 

अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने के लिए आप इन साधनों में एकमुश्त राशि का निवेश कर सकते हैं

निष्कर्ष

यदि आप एक स्‍वरोजगार करने वाले व्यक्ति हैं, तो आपके वित्तीय लक्ष्य वेतनभोगी व्यक्ति से अलग होने चाहिए। जबकि एक वेतनभोगी व्यक्ति की नियमित आय होती है, जो आपके पास नहीं होती है। यदि आपके पास ग्राहक हैं, तो आपको भुगतान मिलता है। इस अनिश्चितता को दूर करने के लिए, आपको एक बड़ा इमरजेंसी फंड बनाकर आकस्मिकताओं के लिए तैयार रहना चाहिए। जबकि वेतनभोगी व्यक्तियों को छह महीने का इमरजेंसी फंड रखने की सलाह दी जाती है, लकिन स्वरोजगार करने वाले व्यक्तियों को ऐसा इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए जो उन्हें कम से कम 12 महीने तक जीवनयापन करने में मदद करे। आप एक से अधिक इमरजेंसी फंड मेंटेन कर सकते हैं।

संवादपत्र

संबंधित लेख