अपने पैसे का प्रबंधन करने के लिए अपने वेतन दिवस पर ये 8 चीजें करें|Smart ways to spend your pay check

ये वित्तीय कौशल आपको पूरे जीवनकाल में अच्छी स्थिति में रखेंगे। यहाँ बताया गया है कि अपना वेतन बुद्धिमानी से कैसे खर्च करें।

अपने पैसे का प्रबंधन करने के लिए अपने वेतन दिवस पर ये 8 चीजें करें

आप अपने ऊपर सबसे बड़ा उपकार यह कर सकते हैं कि जिस दिन आपको वेतन मिले, उसी दिन अपने पैसे का चतुराई से प्रबंधन करें। हम जानते हैं कि सभी के अंदर शेख़ी बघारने का लालच होता है। आखिरकार, आपने इसके लिए कड़ी मेहनत की है। लेकिन क्या होगा, अगर आप अपना नजरिया बदल लें? क्या आपको वास्तव में वह पैसा फालतू चीजों पर खर्च करना चाहिए, जिसके लिए आपने मेहनत की थी? हम यह नहीं कह रहे हैं कि आपको खुद के लिए कुछ नहीं करना चाहिए। वास्तव में, आपको निश्चित रूप से अपने लिए करना चाहिए, लेकिन थोड़ी योजना के साथ (और निश्चित रूप से आपके वेतन दिवस पर नहीं)।

आपका वेतन दिवस आपकी बड़ी वित्तीय तस्वीर देखने, अपनी आदतों का पुनर्मूल्यांकन करने और सकारात्मक बदलाव करने का एक अवसर है। यह पैसे की योजना बनाने का समय है जो यह सुनिश्चित करेगा कि आप अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करें और लंबी अवधि में स्थिरता बनाए रखें।

अपने वेतन को बुद्धिमानी से कैसे खर्च करें:

1. अपने पैसे का बजट बनाएँ

पहली बात यह है कि बजट बनाकर अपने पैसे का प्रबंधन करें, ताकि आपके पास पैसे खर्च करने की ठोस योजना हो। इसका मतलब है कि आपको अपनी निश्चित खर्चों जैसे कि किराया, विभिन्न बिल, किराना और अन्य विविध खर्चों की सूची बनानी चाहिए। शॉपिंग, बाहर खाने आदि पर खर्च करने के लिए कुछ पैसे अलग रखें। हालाँकि, अपने मासिक खर्चों के लिए बजट बनाना महत्वपूर्ण है, लेकिन उस पर टिके रहना और भी महत्वपूर्ण है।

2. पिछले महीने के वेतन की समीक्षा करें

इससे पहले कि आप अपना इस महीने का वेतन खर्च करना शुरू करें, अपने पिछले वेतन की समीक्षा करना महत्वपूर्ण है। कुछ घंटों का समय निकालें और अपने बैंक और क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट को देखें कि आपने पैसा कहाँ खर्च किया है। यदि आवश्यक हो तो इस समय का इस्तेमाल सुधार करने के लिए करें। उदाहरण के लिए, अगर आपने पिछले महीने कई बार स्विगी का इस्तेमाल किया है, तो इसे कम करें और अधिक बार घर पर भोजन पकाने की आदत डालें। 

3. अपने कर्ज का भुगतान करें

अपने व्यक्तिगत वित्त को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने का पहला नियम समय पर अपने कर्ज का भुगतान करना है। इस तरह आप चक्रवृद्धि ब्याज दर के भार के नीचे दबते नहीं हैं। जैसे ही आप अपना वेतन प्राप्त करें, अपने क्रेडिट कार्ड के बिलों का पूरा भुगतान करें। अपने ऋण की EMI को महीने की शुरुआत या अपने वेतन-दिवस के करीब रखें, ताकि आप बिना किसी तनाव के उनका भुगतान कर सकें।

4. आपात स्थिति के लिए पैसे अलग रखें

अगर पिछले डेढ़ साल ने हमें कुछ सिखाया है, तो वो यह है कि जीवन अप्रत्याशित है और हमें हर समय तैयार रहना चाहिए। इसलिए, आपातकालीन कोष बनाना सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए। इस कोष को बनाने के लिए हर महीने एक निर्धारित राशि अलग रखते जाएँ। इस बचत को स्वचालित तरीके से करना सबसे अच्छा है। आप एक आवर्ती जमा (RD) शुरू कर सकते हैं जो आपके वेतन-दिवस के अगले दिन आपके खाते से एक निश्चित राशि (जैसे ₹10,000) काट लें। इस तरह, आप इसे खर्च करने की लालच में नहीं पड़ेंगे। इस पैसे को तब तक ना छुएँ जब तक कि वास्तविक आपात स्थिति ना हो। इस बीच, इसे चक्रवृद्धि दर से ब्याज अर्जित करने दें।

5. अपने भविष्य के लिए निवेश करें

उम्र बढ़ने के साथ अपनी वित्तीय सुरक्षा के बारे में सोचना कोई जल्दबाज़ी नहीं है। ऐसी कई चीजें हैं जो आप कर सकते हैं। आप स्वास्थ्य बीमा खरीदकर शुरुआत कर सकते हैं। जब आपकी उम्र कम होती है, तो यह सस्ता होता है, इसलिए इसे अपनी 20 से 30 की उम्र के बीच करें। अगर आपके आश्रित हैं, तो टर्म इंश्योरेंस लें। म्यूचुअल फंड SIP और शेयर बाजार में निवेश करना शुरू करें। अपनी सेवानिवृत्ति योजना(रिटायरमेंट प्‍लान) को जल्दी शुरू करने के बारे में भी सोचें, ताकि आप चक्रवृद्धि के लाभ का आनंद उठा सकें। आप निवेश का जो भी तरीका चुनते हैं, उसके भुगतान की तिथि वेतन की तिथि से एक सप्ताह के भीतर रखें, ताकि आप पैसा खर्च करने से पहले बचत कर सकें।

6. समय-समय पर अपने लिए खर्च करें

आपको कभी-कभी खुद को भी खुश करते रहना चाहिए, अन्यथा धन प्रबंधन एक नीरस काम बन जाएगा। अपनी पॉकेट मनी का इस्तेमाल उन चीजों को करने के लिए करें जो आपको खुशी देती हैं। ये शॉपिंग, बाहर खाना, गैजेट खरीदना, या नृत्य, पेंटिंग, फोटोग्राफी आदि जैसे शौक पूरा करना हो सकता है।

7. अपने खर्चों को ट्रैक करें

आपके अमेज़ॅन ऑर्डर, कार में ईंधन भराने, या किराने की कुछ वस्तुएँ खरीदने जैसे छोटे व्यय को भूल जाना बहुत आसान है। सुनिश्चित करें कि आप हर एक रुपये पर नज़र रखते हैं। यह उतना उबाऊ नहीं है जितना लगता है। ऐसे कई ऐप उपलब्ध हैं (जैसे कि गुडबजट, मोनेफी, वॉलनट, या क्युकली) जिनमें खर्च करते हुए मासिक खर्च को फीड करना बहुत आसान है।

8. जो बचा है उसकी बचत करें

यह वेतन-दिवस पर किया जाने वाला कार्य नहीं है, बल्कि महीने के अंत में किया जाने वाला कार्य है। जो भी पैसा बचा है, उसे लिक्विड फंड में डाल दें। इस तरह, चाहे वह ₹2,000 रुपये हो या ₹20,000, आप इसे लिक्विड फंड में ट्रांसफर कर सकते हैं और सक्रिय रूप से पैसे बचा सकते हैं। यह सुनिश्चित करेगा कि आप इसे पूरा नहीं खर्च कर देते हैं। यह आपके बचत खाते में पड़े रहने की तुलना में कहीं अधिक आकर्षक रिटर्न भी अर्जित करेगा।

संबंधित लेख