अपने पैसे को प्रबंधित करने और अपने वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने के लिए 6 नियम

क्‍या आप अपना वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य सुधारना चाहते हैं? यहां छह नियम दिए गए हैं जिनका आपको अपने वित्तीय स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य बनाते समय पालन करना चाहिए।

कर्ज से छुटकारा पाना चाहते हैं? यहां आपकी मदद करने के लिए 8 व्यावहारिक तरीके हैं।

अच्छा वित्तीय स्वास्थ्य बनाए रखना बेहद जरूरी है। अच्छा वित्तीय स्वास्थ्य आपको अपने खर्चों से बचाए रखता है और आपको तनाव मुक्त और शांतिपूर्ण जीवन जीने में सक्षम बनाता है। यदि आप खराब वित्तीय निर्णय लेते हैं और उन पर बने रहते हैं, तो आपका वित्तीय स्वास्थ्य खराब होता रहेगा। ऐसा होने से रोकने के लिए आपको कुछ हर जगह आजमाए और परखे हुए नियमों का पालन करना चाहिए। ये सामान्य नियम हैं, और सभी ने इन्हें आजमाया है और अच्छे परिणाम पाए हैं।

तो बिना ज्यादा समय बर्बाद किए, आइए आपके वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए वित्तीय नियोजन रणनीतियों के बारे में जानते हैं।

यह भी पढें: वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य- इसका क्‍या अर्थ है और आप इसे कैसे माप सकते हैं

वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने के लिए 6 नियम

1. बजट बनाएं

अपने वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए पहला और सबसे महत्वपूर्ण नियम एक बजट होना है। बजट बनाने से आपको अपने पैसे को ट्रैक करने में मदद मिलती है और आप जितना खर्च कर सकते हैं यह आपको उससे अधिक खर्च करने से रोकता है। क्रेडिट कार्ड के युग में जो आपको अधिक खर्च करने पर रिवार्ड देता है, एक बजट होना महत्वपूर्ण है। बजट के बिना, आप लक्ष्यहीन होकर इधर-उधर भटक सकते हैं और अनावश्यक खर्च करते हुए कर्ज में डूब सकते हैं।

एक बजट होना और उसके भीतर रहना आपको धन का ऐसा प्रबंधन सिखाएगा जैसे कोई और नहीं सीखा सकता है। इसलिए, यदि आप बिना बजट के रह रहे हैं, तो आज ही बजट बनाएं क्योंकि यह आपके वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने की दिशा में पहला कदम है।

2. बहुत अधिक निवेश करें

यदि आप सक्षम हैं और आपके बैंक अकाउंट में पैसा बेकार पड़ा है, तो आपके लिए निवेश शुरू करने का समय आ गया है। निवेश आपको आय का एक और स्रोत बनाने में मदद करता है, और यह आपको अपना पैसा बढ़ाने में भी सक्षम बनाता है।
निवेश एक दोधारी तलवार है, और आपको निवेश के साथ अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार करने के लिए सभी जोखिमों और रिवार्ड्स को संतुलित करने की आवश्यकता होती है। बुद्धिमान निवेश आपके वित्तीय स्वास्थ्य को उतना बेहतर बना सकता है जैसे कोई और नहीं बना सकता है। लेकिन अगर आप बिना किसी सावधानी के निवेश की गतिविधि करते हैं, तो यह आपके वित्तीय स्वास्थ्य को और अधिक नुकसान पहुंचा सकता है।

यदि आप जोखिम लेने वाले हैं, तो आप स्टॉक, क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर सकते हैं, क्योंकि उनमें उच्च रिटर्न जनरेट करने की क्षमता है। दूसरी तरफ, यदि आप पारंपरिक निवेश्‍स पसंद करते हैं, तो लार्ज कैप म्यूचुअल फंड्स और रियल एस्टेट में निवेश करें जो मूल्य को बढाता है।

3. इमरजेंसी फंड बनाएं

इमरजेंसी सामान्य हैं, लेकिन उनके साथ आने वाले खर्चों की उम्मीद नहीं की जा सकती है। कभी-कभी, इमरजेंसी में बहुत पैसे खर्च होते हैं, और यदि आप इमरजेंसी फंड्स के बिना पेचेक टू पेचेक के साथ जीते हैं, तो आप बुरी तरह पीड़ित हो सकते हैं।
इमरजेंसी फंड होने से आपको अपने वित्तीय स्वास्थ्य को जल्दी बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। इमरजेंसी फंड को उन खर्चों को संभालना चाहिए जो निराशा से निकलते हैं, और फंड एक समय में कई आपात स्थितियों को संभालने के लिए पर्याप्त होना चाहिए।
हर महीने जब आपको अपना वेतन मिलता है, तो इसका 10% से 20% एक इमरजेंसी फंड के लिए सुरक्षित स्थान पर रख दें। भले ही फंड बड़ा हो गया हो, लेकिन फिर भी उस फंड में पैसा बचाना कभी बंद न करें, क्योंकि अंत में, जब आप रिटायर होते हैं, तो ये सारी बचत तनाव मुक्त जीवन जीने में आपकी रिटायरमेंट की प्लानिंग में मदद करेगी।

4. ऋण लेना बंद करें

एक और नियम जिसका आपको सख्ती से पालन करना चाहिए वह है ऋण लेना बंद करना। आपका नकदी प्रवाह कितना भी मजबूत क्यों न हो, आपको कभी भी अनावश्यक ऋण नहीं लेना चाहिए। यहां तक कि अगर आप ऋण लेते हैं, तो उन्हें नियत तारीखों से पहले चुकाने का प्रयास करें।

ऋण चुकाना उसे लेने से पहले से ज्‍यादा चुनौतीपूर्ण होता है, इसलिए सबसे पहले आपको अनुशासित होना चाहिए और ऋण को ना कहना सीखना चाहिए। ऋण पर भारी ब्याज दरें होती हैं, और लंबे समय तक केवल न्यूनतम राशि का भुगतान करने से आपके वित्तीय स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यदि आप नए ऋण लेना बंद नहीं करते हैं, तो आप कभी भी ऋण से बाहर नहीं आ पाएंगे, और यह लूप आपको कल्पना से परे बोझ देगा।
कर्ज लेना बंद कर दें, और अगर आपके कंधों पर पहले से ही कुछ ऋण हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द चुकाने की कोशिश करें।

5. सोच-समझकर खर्च करें

हम अक्सर अपनी चाहतों को जरूरतों के रूप में समझाते हैं और अनावश्यक खरीदारी करते हैं। वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार के लिए, आपको सोच-समझकर खर्च करना चाहिए और उन सभी खर्चों में कटौती करनी चाहिए जिनका कोई मतलब नहीं है। सीमित आय वाले एक कामकाजी पेशेवर के रूप में, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप बुद्धिमानी से खर्च करें और अपनी भविष्य की सभी जरूरतों के लिए आज ही पैसे बचाना शुरू करें।

यह पहचानने का सबसे आसान तरीका कि किसी चीज की चाहत है या जरूरत है, विचार आने पर सीधे न खरीदें। इसके बजाय, कुछ दिनों तक प्रतीक्षा करें और देखें कि क्या यह वास्तव में आपके लिए आवश्यक है या केवल एक आवेगपूर्ण विलासिता है जिसे आप पूरा करना चाहते हैं।

यदि आप इस तरीके को लागू कर सकते हैं, तो आप पैसे बचाने और इसे समझदारी से खर्च करने की आदत डाल सकते हैं।

6. आमदनी के कई स्रोत रखें

वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार के लिए एक और सामान्य नियम आय के कई स्रोत बनाना है। आय के एक स्रोत पर निर्भर रहने से उच्च निर्भरता पैदा होती है, और कुछ गलत होने पर, आप दयनीय स्थितियों में पहुंच जाते हैं।

प्रत्येक व्यक्ति जो एक स्थिर वित्तीय चाल चलता है, उसके पास अपने प्राथमिक पेशे के साथ-साथ आय के कई स्रोत होते हैं। आय के कई स्रोतों के साथ, आप अपने भविष्य की बेहतर योजना बना सकते हैं और ज़रूरतों और चाहतों के लिए अधिक पैसे बचा सकते हैं। इसके अलावा, आय के अन्य निष्क्रिय स्रोतों के लिए आपको पैसे के लिए काम करने की आवश्यकता नहीं होती है, और ऐसी कई आय होने से आपको वित्तीय स्वतंत्रता मिल सकती है।

बिजनेस चलाकर, पार्टटाइम काम करके, फ्रीलांसिंग करके, अपने रियल एस्‍टेट की किराये की आय से आपके पास आय के अधिक स्रोत हो सकते हैं। ये आय के कई स्रोत रखने के सामान्य तरीकों का एक समूह हैं। अगर आप खुद को एक्सप्लोर करेंगे, तो आपको इसके लिए और आइडिया मिलेंगे।

यह भी पढें: वित्‍तीय नियोजन: अपनी स्थिर नौकरी के अतिरिक्त पैसा कमाने के 5 तरीके

यदि आप अपने वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए दृढ़ संकल्पी हैं, तो इन नियमों का पालन करना और आपके लिए काम करने वाले अन्य नियमों का पता लगाना बेहतर है। सुरक्षित रहने के लिए हमेशा अपनी आय और ऋण का अनुपात 20% से 35% के बीच रखें क्योंकि यह आपको अनावश्यक तनाव से दूर रखेगा। इन सभी नियमों का पालन करने से आप सीधे रास्ते पर चलेंगे, और वे निश्चित रूप से यात्रा में आपकी मदद करेंगे।
 

अच्छा वित्तीय स्वास्थ्य बनाए रखना बेहद जरूरी है। अच्छा वित्तीय स्वास्थ्य आपको अपने खर्चों से बचाए रखता है और आपको तनाव मुक्त और शांतिपूर्ण जीवन जीने में सक्षम बनाता है। यदि आप खराब वित्तीय निर्णय लेते हैं और उन पर बने रहते हैं, तो आपका वित्तीय स्वास्थ्य खराब होता रहेगा। ऐसा होने से रोकने के लिए आपको कुछ हर जगह आजमाए और परखे हुए नियमों का पालन करना चाहिए। ये सामान्य नियम हैं, और सभी ने इन्हें आजमाया है और अच्छे परिणाम पाए हैं।

तो बिना ज्यादा समय बर्बाद किए, आइए आपके वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए वित्तीय नियोजन रणनीतियों के बारे में जानते हैं।

यह भी पढें: वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य- इसका क्‍या अर्थ है और आप इसे कैसे माप सकते हैं

वित्‍तीय स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने के लिए 6 नियम

1. बजट बनाएं

अपने वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए पहला और सबसे महत्वपूर्ण नियम एक बजट होना है। बजट बनाने से आपको अपने पैसे को ट्रैक करने में मदद मिलती है और आप जितना खर्च कर सकते हैं यह आपको उससे अधिक खर्च करने से रोकता है। क्रेडिट कार्ड के युग में जो आपको अधिक खर्च करने पर रिवार्ड देता है, एक बजट होना महत्वपूर्ण है। बजट के बिना, आप लक्ष्यहीन होकर इधर-उधर भटक सकते हैं और अनावश्यक खर्च करते हुए कर्ज में डूब सकते हैं।

एक बजट होना और उसके भीतर रहना आपको धन का ऐसा प्रबंधन सिखाएगा जैसे कोई और नहीं सीखा सकता है। इसलिए, यदि आप बिना बजट के रह रहे हैं, तो आज ही बजट बनाएं क्योंकि यह आपके वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने की दिशा में पहला कदम है।

2. बहुत अधिक निवेश करें

यदि आप सक्षम हैं और आपके बैंक अकाउंट में पैसा बेकार पड़ा है, तो आपके लिए निवेश शुरू करने का समय आ गया है। निवेश आपको आय का एक और स्रोत बनाने में मदद करता है, और यह आपको अपना पैसा बढ़ाने में भी सक्षम बनाता है।
निवेश एक दोधारी तलवार है, और आपको निवेश के साथ अपनी वित्तीय स्थिति में सुधार करने के लिए सभी जोखिमों और रिवार्ड्स को संतुलित करने की आवश्यकता होती है। बुद्धिमान निवेश आपके वित्तीय स्वास्थ्य को उतना बेहतर बना सकता है जैसे कोई और नहीं बना सकता है। लेकिन अगर आप बिना किसी सावधानी के निवेश की गतिविधि करते हैं, तो यह आपके वित्तीय स्वास्थ्य को और अधिक नुकसान पहुंचा सकता है।

यदि आप जोखिम लेने वाले हैं, तो आप स्टॉक, क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर सकते हैं, क्योंकि उनमें उच्च रिटर्न जनरेट करने की क्षमता है। दूसरी तरफ, यदि आप पारंपरिक निवेश्‍स पसंद करते हैं, तो लार्ज कैप म्यूचुअल फंड्स और रियल एस्टेट में निवेश करें जो मूल्य को बढाता है।

3. इमरजेंसी फंड बनाएं

इमरजेंसी सामान्य हैं, लेकिन उनके साथ आने वाले खर्चों की उम्मीद नहीं की जा सकती है। कभी-कभी, इमरजेंसी में बहुत पैसे खर्च होते हैं, और यदि आप इमरजेंसी फंड्स के बिना पेचेक टू पेचेक के साथ जीते हैं, तो आप बुरी तरह पीड़ित हो सकते हैं।
इमरजेंसी फंड होने से आपको अपने वित्तीय स्वास्थ्य को जल्दी बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। इमरजेंसी फंड को उन खर्चों को संभालना चाहिए जो निराशा से निकलते हैं, और फंड एक समय में कई आपात स्थितियों को संभालने के लिए पर्याप्त होना चाहिए।
हर महीने जब आपको अपना वेतन मिलता है, तो इसका 10% से 20% एक इमरजेंसी फंड के लिए सुरक्षित स्थान पर रख दें। भले ही फंड बड़ा हो गया हो, लेकिन फिर भी उस फंड में पैसा बचाना कभी बंद न करें, क्योंकि अंत में, जब आप रिटायर होते हैं, तो ये सारी बचत तनाव मुक्त जीवन जीने में आपकी रिटायरमेंट की प्लानिंग में मदद करेगी।

4. ऋण लेना बंद करें

एक और नियम जिसका आपको सख्ती से पालन करना चाहिए वह है ऋण लेना बंद करना। आपका नकदी प्रवाह कितना भी मजबूत क्यों न हो, आपको कभी भी अनावश्यक ऋण नहीं लेना चाहिए। यहां तक कि अगर आप ऋण लेते हैं, तो उन्हें नियत तारीखों से पहले चुकाने का प्रयास करें।

ऋण चुकाना उसे लेने से पहले से ज्‍यादा चुनौतीपूर्ण होता है, इसलिए सबसे पहले आपको अनुशासित होना चाहिए और ऋण को ना कहना सीखना चाहिए। ऋण पर भारी ब्याज दरें होती हैं, और लंबे समय तक केवल न्यूनतम राशि का भुगतान करने से आपके वित्तीय स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। यदि आप नए ऋण लेना बंद नहीं करते हैं, तो आप कभी भी ऋण से बाहर नहीं आ पाएंगे, और यह लूप आपको कल्पना से परे बोझ देगा।
कर्ज लेना बंद कर दें, और अगर आपके कंधों पर पहले से ही कुछ ऋण हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द चुकाने की कोशिश करें।

5. सोच-समझकर खर्च करें

हम अक्सर अपनी चाहतों को जरूरतों के रूप में समझाते हैं और अनावश्यक खरीदारी करते हैं। वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार के लिए, आपको सोच-समझकर खर्च करना चाहिए और उन सभी खर्चों में कटौती करनी चाहिए जिनका कोई मतलब नहीं है। सीमित आय वाले एक कामकाजी पेशेवर के रूप में, यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप बुद्धिमानी से खर्च करें और अपनी भविष्य की सभी जरूरतों के लिए आज ही पैसे बचाना शुरू करें।

यह पहचानने का सबसे आसान तरीका कि किसी चीज की चाहत है या जरूरत है, विचार आने पर सीधे न खरीदें। इसके बजाय, कुछ दिनों तक प्रतीक्षा करें और देखें कि क्या यह वास्तव में आपके लिए आवश्यक है या केवल एक आवेगपूर्ण विलासिता है जिसे आप पूरा करना चाहते हैं।

यदि आप इस तरीके को लागू कर सकते हैं, तो आप पैसे बचाने और इसे समझदारी से खर्च करने की आदत डाल सकते हैं।

6. आमदनी के कई स्रोत रखें

वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार के लिए एक और सामान्य नियम आय के कई स्रोत बनाना है। आय के एक स्रोत पर निर्भर रहने से उच्च निर्भरता पैदा होती है, और कुछ गलत होने पर, आप दयनीय स्थितियों में पहुंच जाते हैं।

प्रत्येक व्यक्ति जो एक स्थिर वित्तीय चाल चलता है, उसके पास अपने प्राथमिक पेशे के साथ-साथ आय के कई स्रोत होते हैं। आय के कई स्रोतों के साथ, आप अपने भविष्य की बेहतर योजना बना सकते हैं और ज़रूरतों और चाहतों के लिए अधिक पैसे बचा सकते हैं। इसके अलावा, आय के अन्य निष्क्रिय स्रोतों के लिए आपको पैसे के लिए काम करने की आवश्यकता नहीं होती है, और ऐसी कई आय होने से आपको वित्तीय स्वतंत्रता मिल सकती है।

बिजनेस चलाकर, पार्टटाइम काम करके, फ्रीलांसिंग करके, अपने रियल एस्‍टेट की किराये की आय से आपके पास आय के अधिक स्रोत हो सकते हैं। ये आय के कई स्रोत रखने के सामान्य तरीकों का एक समूह हैं। अगर आप खुद को एक्सप्लोर करेंगे, तो आपको इसके लिए और आइडिया मिलेंगे।

यह भी पढें: वित्‍तीय नियोजन: अपनी स्थिर नौकरी के अतिरिक्त पैसा कमाने के 5 तरीके

यदि आप अपने वित्तीय स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए दृढ़ संकल्पी हैं, तो इन नियमों का पालन करना और आपके लिए काम करने वाले अन्य नियमों का पता लगाना बेहतर है। सुरक्षित रहने के लिए हमेशा अपनी आय और ऋण का अनुपात 20% से 35% के बीच रखें क्योंकि यह आपको अनावश्यक तनाव से दूर रखेगा। इन सभी नियमों का पालन करने से आप सीधे रास्ते पर चलेंगे, और वे निश्चित रूप से यात्रा में आपकी मदद करेंगे।
 

Expert Article block example

संवादपत्र

संबंधित लेख