ठोस वित्तीय योजना बनाने के लिए स्वॉट (एस.डब्लू.ओ.टी.) विश्लेषण कैसे लागू करें

केवल अपनी वित्तीय योजना तैयार करने से आपका काम खत्म नहीं हो जाता। आपको इसका मूल्यांकन करने, इसे तामील करने की आवश्यकता है - और यदि आवश्यक हो, तो इसमें सुधार भी करें।

ठोस वित्तीय योजना बनाने के लिए स्वॉट (एस.डब्लू.ओ.टी.) विश्लेषण कैसे लागू करें

क्या कभी आपने खुद से एक वित्तीय योजना बनाई और सोचा है , "मुझे नहीं पता कि क्या यह सही है" या "क्या यह वास्तव में काम करने वाला है"? ऐसी शंकाओं को दूर करने के लिए, स्वॉट के स्व-विश्लेषण के रणनीतिक उपकरण को लागू करें। स्वॉट अपने चार महत्वपूर्ण पहलुओं - ताकत, कमजोरी, अवसर और खतरों का एक संक्षिप्त शब्द है। इसका उपयोग संगठनों और अधिकारियों द्वारा दुनिया भर में अनिश्चित व्यावसायिक वातावरण को मापने और तैयार करने के लिए किया जाता है।

आतंरिक कारक

ताकत और कमजोरियां आंतरिक कारक हैं, जिसका अर्थ है कि वे आपकी व्यक्तिगत विशेषताओं, विकल्पों और स्थिति पर निर्भर करते हैं। इन कारकों पर आपका सीधा और पूरा प्रभाव पड़ता है। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने बजट में डटे रह सकते हैं और तात्कालिक संतुष्टि के जाल में नहीं आते हैं, तो यह एक ताकत स्वरुप है, जो 100% आप पर निर्भर करता है। इसी तरह, यदि आप सामाजिक योजनाओं जैसे कि बाहर भोजन करने के निमंत्रण को मना नहीं कर पाते, भले ही वह आपके बजट से बाहर हो, तो यह एक कमजोरी है, जिस पर आपको काम करना चाहिए।

1. ताकत

एक वित्तीय योजना की मूल बातें भी इसकी ताकत होती हैं। उदाहरण के लिए, एक ठोस आपातकालीन निधि, बहुत कम या कोई ऋण नहीं , लगातार बचत, आदि कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जिन पर आपको पहले ध्यान देना चाहिए। अपनी ताकत का सबसे अच्छा उपयोग करने के लिए अपने आप से कुछ प्रश्न पूछना महत्वपूर्ण है। जैसे कि:

  • क्या मेरे पास कोई ऐसा कौशल या शौक है जो आय का दूसरा स्रोत उत्पन्न करने के लिए एक सहायक बन सकता है?
  • क्या मैं काम पर उच्च वेतन के लिए सफलतापूर्वक बातचीत कर सकता हूं?
  • क्या मेरे पास लिक्विड फंड् खाली पड़े हैं जिन्हें मैं सबसे अच्छे निवेश विकल्प बनाने की दिशा में उपयोग कर सकता हूं?

2. कमजोरी

आपकी वित्तीय योजना और धन की गतिविधियों में कमजोरियां आम तौर पर चल रहे मुद्दे हैं और अधिक खर्च जैसे आवर्ती मुद्दे हैं। इन चीजों को आपके द्वारा नियंत्रित और समायोजित किया जा सकता है। लेकिन अपनी वित्तीय योजना और गतिविधियों की कमजोरियों को केवल सूचीबद्ध करना या स्वीकार करना ही पर्याप्त नहीं है; आपको समाधान भी निकालना चाहिए। यहाँ अपने आप से पूछने के लिए कुछ प्रश्न हैं:

  • क्या मेरे बजट में अनावश्यक चीजें शामिल हैं जिन्हें हटाया जा सकता है?
  • क्या मैं क्रेडिट कार्ड जैसे ऋण को खर्च / उपभोग के लिए ले रहा हूं?
  • क्या मुझमे अपने वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आवश्यक ज्ञान की कमी है?

बाहरी कारक

अवसर और खतरे बाहरी कारक में आते हैं और आमतौर पर आपके नियंत्रण या प्रत्यक्ष प्रभाव के बाहर होते हैं। हालांकि, उन्हें समय पर और विवेकपूर्ण कार्रवाई द्वारा पूंजीकृत या कम किया जा सकता है। जब आप ऋण के लिए आवेदन करने वाले हों तो गृह ऋण की ब्याज दर में वृद्धि, खतरे का एक उदाहरण है। दूसरी ओर, बैंक के सावधि जमा पर ब्याज की दर में वृद्धि ,एक अवसर हो सकती है।

3.अवसर

वित्तीय अवसर आमतौर पर सही समय के बारे में होता हैं। उदाहरण के लिए, स्टॉक बाजार के निवेश को लें। यदि बाजार के सही होने पर आपके पास अतिरिक्त नकदी है, तो आप इसे रणनीतिक रूप से निवेश कर सकते हैं। या शायद व्यवसाय शुरू करने पर, आपको नए उत्पाद आरम्भ करने का लाभ मिल सकता है। यहां कुछ प्रश्न दिए गए हैं, जिनसे आप किसी भी मौजूदा अवसरों का पता लगा सकते हैं:

  • क्या कोई कौशल है जो मेरे उद्योग / नौकरी की भूमिका के लिए मुझे सीखने की आवश्यकता है?
  • सबसे अच्छे निवेश विकल्प क्या हैं जो मौजूदा बाजार परिदृश्य में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं?
  • क्या कोई नया उत्पाद या सेवा है, जिसमे मैं स्विच कर सकता हूं जो मेरे खर्चों को कम करने में मदद करेगा?

4. आशंकाएं

आपका पेशेवर और व्यक्तिगत जीवन दोनों अनिश्चितताओं से भरा हो सकता है।बड़े पैमाने पर दुनिया भी अप्रत्याशित घटनाओं की चपेट में है जो हानिकारक साबित हो सकता है। आशंकाएं वे बाधाएँ हैं जिनके बारे में आप सटीक भविष्यवाणी नहीं कर सकते, लेकिन बहुत अधिक संभावित होती हैं। निम्नलिखित प्रश्न पूछकर वित्तीय खतरों की पहचान कर लेना महत्वपूर्ण है:

  • क्या मेरे पास अपने परिवार, संपत्ति और खुद के लिए व्यापक और पर्याप्त बीमा कवरेज है?
  • आर्थिक मंदी का मेरे वित्त पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?
  • क्या कोई बड़ा खर्च है जो मेरी व्यवस्था बिगाड़ सकता है?

अपनी वित्तीय योजना के इस स्व-स्वॉट विश्लेषण का संचालन करके, आपको विभिन्न दृष्टिकोणों से चीजों पर विचार करने और अपनी योजना को मजबूत और अधिक विश्वसनीय बनाना चाहिए।




संबंधित लेख